पानी में उतरकर महिलाओं ने किया हंगामा

नगरपरिषद द्वारा दुकान बनाने का कर रहे थे विरोध
कलेक्टर के नाम तहसीलदार को शिवसैनिकों ने सौंपा ज्ञापन

By: harinath dwivedi

Published: 10 Feb 2018, 07:52 PM IST

नीमच/नयागांव. नगर परिषद द्वारा तालाब में दुकान बनाने के विरोध में शनिवार को शिवसेना पदाधिकारियों ने पानी में उतरकर करीब ३ घंटे तक जलसत्याग्रह किया। शिवसेना की ओर से अपनी मांगों के संबंध में कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपकर जलसत्याग्रह समाप्त किया गया। दूसरी ओर नगर परिषद सीएमओ का कहना है तालाब का सौंदर्यीकरण भी किया जाएगा।
दो महिलाएं भी शामिल हुईं जलसत्याग्रह में
नगर परिषद द्वारा तालाब में दुकाने बनाने के निर्णय के विरोध में शनिवार को शिवसेना पदाधिकारियों ने सुबह १० बजे तालाब में उतरकर जलसत्याग्रह प्रारंभ किया। जलसत्याग्रह में कुल 11 शिवसैनिक शमिल हुए इनमें २ महिलाएं भी शामिल थीं। शिवसेना पदाधिकारियों का आरोप था कि नयागांव नगर परिषद ने तलाई को संवारने के बजाय आसपास भरावकर, वहां नगर परिषद दुकानों का निर्माण करवाने वाली है। शिवसेना द्वारा तालाब को बचाने के लिए ही नगर परिषद के विरोध में जलसत्याग्रह किया गया। जलसत्याग्रह तीन घंटे तक चला। इसमें शिवसेना के उपप्रमुख शिवम गुर्जर, संभाग महासचिव स्नेहलता शर्मा, संभाग सहसचिव यशवंत आचार्य, युवा सेना जिला प्रमुख राहुल जैन, विद्यार्थी सेना जिला प्रमुख पंकज धाकड़, जावद तहसील प्रमुख प्रकाश लोहार, भरत गुर्जर, तहसील सचिव नीमच अशोक, कनावटी नगर अध्यक्ष जीजी शर्मा, नगर प्रमुख दिलीप मराठा, तालाब में जल सत्याग्रह में अपना विरोध प्रदर्शन कर किया।
पुलिस बल भी रहा मौके पर तैनात
जलसत्याग्रह में शामिल हुए शिवसेना पदाधिकारियों ने नगर परिषद के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शन के दौरान शिवसैनिकों ने मांग की कि तालाब के आसपास की जमीन को भी मिलाकर इस क्षेत्र का सौंदर्यीकरण किया जाए। जिस मुद्दे को लेकर शिवसेना के पदाधिकारी व कार्यकर्ता जलसत्याग्रह कर रहे थे उसे लोगों का समर्थन नहीं मिला। गिनती के लोग ही इस दौरान नजर आए। प्रदर्शन को लेकर पुलिस प्रशासन पूरी तरह चौकस था। निर्धारित समय से पहले ही पुलिस बल वहां तैनात कर दिया गया था। जावद टीआई संजयसिंह भी मौके पर मौजूद रहे। उन्होंने भी जलसत्याग्रह के संबंध में जानकारी प्राप्त की। नयागांव चौकी प्रभारी शिवलाल कुल्मी भी वहां मौजूद थे। जावद तहसीलदार बीएल डाबी भी प्रदर्शन स्थल पर पहुंचे। उन्होंने शिव सेना के शिवम् गुर्जर से चर्चा कर प्रदर्शन के बारे में जानकारी प्राप्त की। अधिकारियों ने जिस स्थान पर दुकानों का निर्माण किया जाना है वहां को मौका मुआयना भी किया। वहां किसी प्रकार का कार्य होते हुए नहीं मिला। वहां जेसीबी की मदद से सिर्फ गंदे पानी के लिए नाला बनाया गया है। तहसीलदार ने निरीक्षण कर जल सत्याग्रह कर रहे शिव सैनिकों को आश्वासन दिया कि जब तक जिस स्थान पर दुकानों को निर्माण किया जाना है वह जमीन नगर परिषद को हस्तांतरित नहीं हो जाती तब तक दुकानों का निर्माण नहीं किया जाएगा। इसके बाद शिवसैनिकों ने कलेक्टर के नाम एक ज्ञापन तहसीलदार डाबी को सौंपा। इस अवसर पर नगर परिषद सीएमओ विक्रमसिंह सोलंकी सहित अन्य परिषद कर्मचारी भी उपस्थित थे।
१० दुकानों का किया जाना है निर्माण
नगर परिषद द्वारा सर्वे क्रमांक 1544 में १० दुकानों का निर्माण किया जा रहा है। जबकि तालाब सर्वे क्रमांक 1528 में स्थित है। इसका रकबा 178 आरी है। जानकार बता रहे हैं कि जब तलाई जिस स्थान पर है वहां दुकानें बनाई ही नहीं जा रही है तो विवाद किस बात का। दुकान निर्माण को लेकर शिव सेना के जलसत्याग्रह का वाजिब कारण लोगों की भी समझ में नहीं आया। यही मुख्य वजह रही कि लोगों ने सत्याग्रह को लोगों का समर्थन नहीं मिला। शिवसेना के जलसत्याग्रह पर यह भी चर्चा रही कि जो नेता प्रदर्शन कर रहे हैं उन्हें तो यह भी नहीं पता कि इस तालाब में पानी कहां से आता है और इसके पानी का उपयोग किस काम में आता है।
जारी रहेगा हमारा प्रदर्शन
जनहित में हम प्रदर्शन कर रहे हैं। दुकानों को निर्माण का हम विरोध करेंगे। दुकारों के विरोध में हमारा प्रदर्शन जारी रहेगा।
- शिवम् गुर्जर, उपप्रमुख शिवसेना
परिषद के निर्णय से हो रहा है कार्य
नगर के सौन्द्रीकरण को लेकर दुकाने बनाने का निर्णय नगर परिषद ने लिया है। जहां तक तालाब सौंदर्यीकरण का प्रश्न है तो इसका निर्णय पहले ही नगर परिषद द्वारा लिया जा चुका है।
- विक्रमसिंह सोलंकी, सीएमओ नगर परिषद नयागांव
नाला निर्माण हो रहा है
वर्तमान में गंदे पानी के लिए नाला बनाया जा रहा है। यह कार्य नगर परिषद कर सकती है। भारत सरकार द्वारा स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत ही नगर परिषद पानी निकासी के लिए नाला बनवा रही है। यह उनके क्षेत्राधिकार में भी आता है।
- बीएल डाबी, तहसीलदार जावद

 

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned