लोकसभा चुनाव में केजरीवाल को बहुमत की उम्मीद, कहा- गठबंधन से इनकार के बाद कांग्रेस से जनता नाराज

लोकसभा चुनाव में केजरीवाल को बहुमत की उम्मीद, कहा- गठबंधन से इनकार के बाद कांग्रेस से जनता नाराज

Shweta Singh | Publish: Mar, 12 2019 02:01:20 PM (IST) | Updated: Mar, 12 2019 06:19:52 PM (IST) New Delhi, Delhi, Delhi, India

  • आप मुख्यालय के बाहर दिल्ली सीएम केजरीवाल ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस
  • गठबंधन पर इनकार के लिए कांग्रेस और पूर्णराज्य पर केंद्र सरकार को घेरा
  • लोकसभा में बहुमत का जताया भरोसा

नई दिल्ली। चुनावी बिगुल बज चुका है, इसके बाद हर पार्टी अपनी तैयारी में जी-जान से जुटी हुई है। इसी कड़ी में आम आदमी पार्टी (आप) के प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को आगामी लोकसभा चुनावों को लेकर कई बड़े ऐलान किए हैं।

दिल्ली के साथ केंद्र सरकार की नाइंसाफी

आप मुख्यालय के बाहर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा दिल्ली वालों के लिए लोकसभा चुनाव बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने दिल्ली को पूर्ण राज्य दिलाने की मांग का हवाला देते हुए कहा, 'अब तक लोग पीएम के लिए वोट देते थे, इस बार पूर्ण राज्य के लिए वोट देंगे।' सीएम ने आगे कहा, '70 साल से दिल्ली वालों के साथ अन्याय, शोषण और अपमान हो रहा है। बाबा साहब के संविधान में एक आदमी का एक वोट कहा गया था, लेकिन दिल्ली के लोगों का आधा वोट है। बाकी देश मे एक वोट है। सीएम ने कहा कि दिल्ली देश को दूसरे नंबर पर टैक्स इकठ्ठा कर केंद्र को देता है, लेकिन दिल्ली पर सिर्फ 325 करोड़ खर्च करती है। ये नाइंसाफी है।

कांग्रेस के बिना मिलेगा बहुमत

सीएम केजरीवाल ने इस दौरान कांग्रेस पर भी निशाना साधा। गठबंधन प्रस्ताव पर कांग्रेस की ओर से नकारात्मक रवैया से नाराज केजरीवाल ने कहा कि हम उनके बिना भी दिल्ली में बहुमत लाएंगे। उन्होंने कहा, 'कांग्रेस ने देश के बजाय पार्टी को ऊपर रखकर जिसतरह गठबंधन से इनकार किया, उस कारण कांग्रेस से लोगों का मोहभंग हो रहा है।' केजरीवाल ने दावा किया कि मीडिया और सर्वे के हवाले से उनको जो रूझान मिल रहे हैं, उसके मुताबिक 'आप' बिना कांग्रेस की मदद से ही बहुमत हासिल करने वाली है। केजरीवाल ने इसके लिए कई कारण गिनाए-

- देश में इस वक्त दो तरह के लोग हैं, मोदी भक्त और एक उन्हें हराने की कोशिश वाले। मोदी भक्त की संख्या कम है। अधिक लोग मोदी-शाह की जोड़ी को हराना चाहते हैं।

- कच्ची कॉलोनियो में 'आप' सरकार ने जमकर काम किया है, इसका फायदा चुनाव में होगा।

- 'आप' केंद्र सरकार के सामने दिल्ली को पूर्ण राज्य दिलाने की मांग कर रही है, जनता इस कारण साथ देगी।

- भारत-पाक के बीच तनाव का मामला बीजेपी के खिलाफ जा रहा है।

'पीएम मोदी ने दिल्ली को धोखा दिया'

इस दौरान केजरीवाल ने पीएम मोदी को भी घेरने की कोशिश की। उन्होंने कहा, 'मोदी जी जवाब दें कि उन्होंने 5 साल दिल्ली के लोगों को धोखा क्यों दिया।' केजरीवाल ने अपने कार्यकाल की तारीफ करते हुए कहा कि चार साल पहले जनता ने उन्हें बहुमत दिया, जिसके बाद उन्होंने जमकर अच्छा काम किया।

पूर्ण राज्य मिले तो होंगे ये बड़े काम

केजरीवाल ने हालांकि दिल्ली के पूर्ण राज्य न होने के कारण आ रही दिक्कतों के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा, 'हमें सीसीटीवी की फाइल क्लियर कराने के लिए 10 दिन एलजी हाउस पर धरना देना पड़ा। काफी काम हैं जो पूर्ण राज्य का दर्जा मिले बगैर पूरा नहीं हो सकता। महिला सुरक्षा का सबसे बड़ा सवाल है। लोग पुलिस के पास जाते हैं, लेकिन पुलिस सुनती नहीं है। दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार के अधीन है। पुलिस पर हमें अधिकार मिले तो हम स्कूलों और अस्पतालों के तरह पुलिस और कानून व्यवथा ठीक करेंगे। लोगों को नौकरी मिलेगी। 85 फीसदी नौकरी दिल्ली वालों के लिए आरक्षित करेंगे। पूर्ण राज्य होगा तो नई यूनिवर्सिटी खोलेंगे।' सीलिंग के मुद्दे पर भी केंद्र सरकार को घेरते हुए कहा,'दिल्ली में सीलिंग चल रही है। केंद्र को इनसे लेना देना नहीं । अगर पूर्ण राज्य होता तो हम 5 मिनट में सुलझा देते। जैसे तेलंगाना, उत्तराखंड और झारखंड पूर्ण राज्य बन गया, उसी तरह हम भी लड़ाई लड़कर पूर्ण राज्य बनाएंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned