सोमवार को भारत बंद, काग्रेस को मिला 21 दलों का समर्थन, नहीं होगी कोई हिंसा: माकन

सोमवार को भारत बंद, काग्रेस को मिला 21 दलों का समर्थन, नहीं होगी कोई हिंसा: माकन

Anil Kumar | Publish: Sep, 09 2018 05:10:15 PM (IST) New Delhi, Delhi, India

विपक्षी दल बढ़ती पेट्रोल और डीजल की कीमत, डॉलर के मुकाबले रुपए का भाव सबसे निचले स्तर पर पहुंचे जैसे मुद्दों को लेकर भारत बंद करने का ऐलान किया है।

नई दिल्ली। देशभर में एससी-एसटी एक्ट को लेकर सवर्णों ने बीते 6 सितंबर को भारत बंद किया था और अब कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने सोमवार (10 सितंबर) को भारत बंद का ऐलान किया है। विपक्षी दलों ने बढ़ती पेट्रोल और डीजल की कीमत, डॉलर के मुकाबले रुपए का भाव सबसे निचले स्तर पर पहुंचे जैसे मुद्दों को लेकर भारत बंद करने का ऐलान किया है। बता दें कि इन दिनों हर रोज पेट्रोल और डीजल के दामों में बढ़ोतरी हो रही है। इसके अलावे 2019 के आम चुनाव और उससे पहले चार राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में एक-दूसरे को मात देने के लिए ये मुद्दे काफी अहम हैं।

कांग्रेस ने बनाई भारत बंद की रणनीति, शहर के आठों विधानसभा में निकालेंगे रैली, कराएंगे बाजार बंद

माकन ने व्यापारियों से की अपील

आपको बता दें कि सोमवार को विपक्षी दलों की ओर से किए जा रहे भारत बंद के संबंध में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने कहा कि 21 विपक्षी दलों का समर्थन मिला है। जिसमें लेफ्ट पार्टियां, डीएमके और एमएनएस ने पहले ही कांग्रेस के भारत बंद का समर्थन किया है। माकन ने कहा कि सरकार के नीतियों के विरोध में यह भारत बंद बुलाया गया है। इसके अलावा पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों और रुपये में गिरावट के खिलाफ भी यह बंद बुलाया है। अजय माकन ने आश्वासन देते हुए कहा कि सोमवार के भारत बंद शांति पूर्वक तरीके से किया जाएगा। इसमें किसी भी तरह से कोई हिंसा नहीं होगी। माकन ने दिल्ली व देश के अन्य राज्यों के व्यापारियों से अपील करते हुए कहा कि इस बंद को सफल बनाने में कांग्रेस पार्टी के साथ आएं।

मिशन 2019 में बीजेपी को मात देने के लिए कांग्रेस ने बनाई नई रणनीति, कहा सभी दलों का मिल रहा समर्थन

वार-पलटवार

आपको बता दें कि अजय माकन ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि चार वर्ष में पेट्रोल पर 211.7% और डीजल पर 443% एक्साइज ड्यूटी बढ़ी है, जबकि 2014 मई में पेट्रोल पर 9.2 रुपये एक्साइज लगता था और अब 19.48 रुपये लगता है। तो वहीं डीजल पर 3.46 रुपये एक्साइज था, जबकि अब 15.33 रुपये लगता है। माकन ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि चार वर्षों में एक्साइज ड्यूटी से 11 लाख करोड़ रुपए कमाए हैं। बता दें कि अजय माकन को जवाब देते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस देश को पीछे ले जाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि जहां एक ओर मोदी सरकार मेक इन इंडिया अभियान में लगी है तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ब्रेकिंग इंडिया अभियान में लगी हुई है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned