Punjab Congress Crisis: चरणजीत सिंह चन्नी की ताजपोशी के बाद पंजाब कांग्रेस में खत्म हो गई है अंतरकलह ?

Punjab Congress Crisis. पंजाब की सियासत में काफी उथल-पुथल के बाद चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को मुख्यमंत्री (punjab new cm) बना दिया गया है। अब सवाल उठ रहा है कि क्या चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को ताजपोशी के बाद पंजाब कांग्रेस में अंतरकलह खत्म हो गई है।

By: Nitin Singh

Published: 20 Sep 2021, 06:40 PM IST

नई दिल्ली। Punjab Congress Crisis. पंजाब की सियासत में काफी उथल-पुथल के बाद चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को मुख्यमंत्री (punjab new cm) बना दिया गया है। इसके साथ ही सुखजिंदर सिंह रंधावा (sukhjinder singh randhawa) और ओम प्रकाश सोनी (om prakash soni) ने भी डिप्टी सीएम पद की शपथ ली है। लेकिन अब सवाल यह उठ रहा है कि क्या चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को ताजपोशी के बाद पंजाब कांग्रेस में अंतरकलह खत्म हो गई है।

harish_rawat.jpg

पार्टी में फिर उठने लगे विरोध के सुर

बता दें कि पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (captain amrinder singh) , चरणजीत सिंह चन्नी की शपथ ग्रहण समारोह का न्योता मिलने के बाद भी वहां नहीं पहुंचे। इससे साफ की कैप्टन अमरिंदर सिंह इस तरह सीएम के पद से हटाए जाने से खुश नहीं हैं। हालांकि उन्होंने चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाए जाने पर बधाई जरूर दी थी। वहीं कल कांग्रेस प्रदेश प्रभारी हरीश रावत (harish rawat) ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि पार्टी कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (navjot singh siddhu) के नेतृत्व में आगामी पंजाब विधानसभा चुनाव (punjab assembly election) लड़ेगी। वहीं हरीश रावत के इस बयान के बाद पार्टी में एक बार फिर से विरोध के सुर उठने लगे हैं।

sunil_jakhar.jpeg

हरीश रावत के बयान पर सुनील जाखड़ को आपत्ति

सुनील जाखड़ (sunil jakhar) ने हरीश रावत के बयान पर हैरानी जताई है। सुनील जाखड़ का कहना है कि कांग्रेस प्रदेश प्रभारी की ओर से इस तरह का बयान आना पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) के अधिकारों का हनन है। यह न सिर्फ मुख्यमंत्री के अधिकार को कमजोर करने की कोशिश है, बल्कि चरणजीत सिंह चन्नी के उनके CM पद पर नियुक्ति के अधिकार को भी खारिज करने की कोशिश है।

यह भी पढ़ें:पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी की पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस, कर दिए कई बड़े ऐलान

captain_amrinnnnnn.jpg

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दी फ्लोर टेस्ट कराने की धमकी

वहीं दूसरे ओर पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Charanjit Singh Channi) को लेकर पहले से ही सख्त रवैया अख्तियार कर चुके हैं। सीएम पद का ऐलान होने से पहले ही उन्होंने कहा दिया था कि अगर नवजोत सिंह सिद्धू (navjot singh siddhu) को सीएम बनाया जाता है तो मैं इसका पुरजोर विरोध करूंगा। इसके साथ ही कैप्टन अमरिंदर सिंह (captain amrinder singh) ने पार्टी को फ्लोर टेस्ट कराने की धमकी भी दी थी।

siddhhhuuuu.jpg

सिद्धू पर लगाए गंभीर आरोप

पंजाब सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह (former punjab cm captain amrinder singh) ने कहा कि मुझे जानकारी दिए बिना सीएलपी की बैठकें हो रही थी, जिससे मैं अपमानित महसूस कर रहा था। इसके चलते मैंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (sonia gandhi) से फोन पर बात करने के बाद इस्तीफा दे दिया। वहीं नवजोत सिंह सिद्धू (siddhu) को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाए जाने के सवाल पर कैप्टन ने कहा कांग्रेस का यह कदम पंजाब के लिए विनाशकारी साबित हो सकता है। सिद्दू के पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (imran khan) और जनरल बाजवा संग रिश्ते हैं, जो पंजाब जैसे सरहदी मुल्क के लिए अच्छा संकेत नहीं है। अगर पार्टी ने उन्हें कोई अहम जिम्मेदारी दी तो मैं इसका विरोध करूंगा।

यह भी पढ़ें: आखिर कौन हैं ओपी सोनी और सुखजिंदर सिंह रंधावा, जो बने पंजाब के डिप्टी सीएम

राजनीतिक जानकारों का कहना है कि कांग्रेस आलाकमान ने पंजाब का नया मुख्यमंत्री और दोनों डिप्टी सीएम चुनने में पार्टी के सभी नेताओं के साथ वोट बैंक को भी साधने को कोशिश की है। अब देखना यह होगा कि कांग्रेस का यह फैसला पंजाब विधानसभा चुनाव (punjab assembly election 2022) में पार्टी को कितना फायदा पहुंचाता है। वहीं कैप्टन अमरिंदर सिंह चुनाव के दौरान क्या दांव खेलते हैं।

Show More
Nitin Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned