scriptElection Results; Congress have worst days, gandhi family | Election Results: कांग्रेस के लिए बुरे दिन, दबाव में गांधी परिवार | Patrika News

Election Results: कांग्रेस के लिए बुरे दिन, दबाव में गांधी परिवार

UP: यूपी में कांग्रेस (Congress) का बेहद खराब प्रदर्शन और पंजाब में आम आदमी पार्टी (AAP) का उदय होना कांग्रेस के लिए बुरे दिन आने की ओर इशारा कर रहा है। इन नतीजों के बाद कांग्रेस में रणनीति और नेतृत्व परिवर्तन की मांग जोर पकड़ेगी। इसके साथ ही कांग्रेस के लिए मुख्य विपक्षी दल बना रहना भी मुश्किल होगा। ऐसे में कांग्रेस को -इसी साल गुजरात और हिमाचल प्रदेश में चुनाव से पहले रणनीति बदलनी पड़ेगी।

नई दिल्ली

Updated: March 10, 2022 08:29:36 pm

शादाब अहमद
Election Results: पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार ने एक बार फिर पार्टी को बुरे दिनों की ओर धकेल दिया है। ऐसे में पार्टी के भीतर व अन्य विपक्षी दलों का गांधी परिवार पर हमले तेज होंगे। नेतृत्व परिवर्तन के साथ रणनीति में बदलाव की मांग जोर पकड़ सकती है।
सोनिया, राहुल और प्रियंका किस पद पर हैं, किससे उन्हें जान का खतरा है, जो उन्हें सुरक्षा दें : पूनिया
सोनिया, राहुल और प्रियंका किस पद पर हैं, किससे उन्हें जान का खतरा है, जो उन्हें सुरक्षा दें : पूनिया
दरअसल, कांग्रेस के लिए एक के बाद एक चुनाव नतीजे परेशानी का सबब बन रहे हैं। जहां पंजाब में आम आदमी की आंधी में पार्टी की दलित-गरीब रणनीति पूरी तरह उखड़ गई। वहीं यूपी में प्रियंका गांधी की महिला-युवा का नारा भी काम नहीं आया और पार्टी का वोट घटकर महज ढाई फीसदी से कम पर आ गया। इन नतीजों से पार्टी नेतृत्व खासतौर पर गांधी परिवार की जवाबदेही तय करने की मांग जोर पकड़ सकती है। इसके साथ ही केन्द्र की सियासत में विपक्ष की मुख्य भूमिका को लेकर भी अन्य विपक्षी दल कांग्रेस पर हमले तेज करेंगे। ऐसी सूरत में पार्टी अपनी रणनीति बदलने पर अभी से विचार कर रही है।

भावनात्मक मुद्दों की ओर बढ़ेगी पार्टी

कांग्रेस नेता इस बात से हैरान है कि महंगाई, बेरोजगारी, डूबती अर्थव्यवस्था, कोविड महामारी के दौरान अव्यवस्था, किसान आंदोलन जैसे मुद्दों के सामने धार्मिक व जातीय ध्रुवीकरण भारी पड़ गया। यही वजह है कि पार्टी आने वाले दिनों में रणनीति को बदलती दिख सकती है। कांग्रेस भी बुनियादी मुद्दों के साथ जनता को कनेक्ट करने के लिए भावनात्मक मुद्दों को आगे बढ़ाती दिख सकती है। इसके लिए सबसे पहला प्रयोग गुजरात से शुरू हो सकता है।
बतौर विपक्षी दल बने रहने की चुनौती

कांग्रेस (Congress) के लिए यूपीए (UPA) को संभालना भी अब चुनौतीपूर्ण हो सकता है। तृणमूल कांग्रेस (TMC), समाजवादी पार्टी (SP), आम आदमी पार्टी (AAP), तेलंगाना राष्ट्रीय समिति (TRS) जैसे क्षेत्रीय दलों का राष्ट्रीय राजनीति में दखल बड़ेगा। आने वाले दिनों में हो रहे राज्यसभा चुनाव से इन दलों का राज्यसभा में दबदबा बड़ेगा। ऐसे में कांग्रेस को एनसीपी, शिवसेना जैसे बड़े सहयोगी दलों को अपने साथ रखने के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ सकती है।
आगे चुनाव से पहले संगठन को करना होगा मजबूत

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि इसी साल हमें गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव में जाना है। गुजरात में पिछले 27 साल से पार्टी सत्ता से बाहर है। साथ ही पिछले 5 साल में कई विधायक साथ छोड़ चुके हैं। जबकि आम आदमी पार्टी भी चुनौती दे रही है। ऐसे में यहां पार्टी को अच्छे प्रदर्शन के लिए संगठन को बेहद मजबूत करना होगा। खासतौर पर बूथ लेवल की कमेटियों को कागजों से बाहर निकाल कर जमीन पर लाना होगा। अगले कुछ दिनों में इस पर काम शुरू किया जाएगा।
surjewala.jpgहम लौटेंगे बदलाव और नई रणनीति के साथ

हमने जातिवाद और धार्मिक ध्रुवीकरण के मुद्दों से दूर रख जनता के मुद्दों पर चुनाव लड़ा, लेकिन सच यह है कि भावनात्मक मुद्दे इन मुद्दों पर कहीं ना कहीं हावी हो गए। हम चुनाव हारें या जीतें लेकिन कांग्रेस देश की जनता के साथ लगातार खड़ी है। महंगाई, बेरोजगारी, अर्थव्यवस्था, शिक्षा, स्वास्थ्य, ढांचागत विकास के मुद्दों को उठाते रहेंगे। हम परिणामों से निराश जरूर हैं, लेकिन हताश नहीं। हम लौटेंगे नए बदलाव और नई रणनीति के साथ।
रणदीप सिंह सुरजेवाला, राष्ट्रीय महासचिव, कांग्रेस

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Gyanvapi Masjid Case: ज्ञानवापी में शिवलिंग के दावे के बीच आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई, वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई कोExclusive: ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट मेंGood News: AIIMS दिल्ली में अब 300 रुपए तक के टेस्ट होंगे मुफ्तIPL 2022, RCB vs GT: Virat Kohli का तूफान, RCB ने जीता मुकाबला, प्लेऑफ की उम्मीदों को लगे पंखBRICS Summit: ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल हुए भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने उठाया आतंकवाद का मुद्दाअफगानिस्तान में तालिबान का नया फरमान- महिला टीवी एंकर चेहरा ढककर पढ़ें खबरअमेरिकी राष्ट्रपति Biden के लिए महाराष्ट्र और आंध्र से गिफ्ट में जाएंगे आमसीएम मान ने अमित शाह से मुलाकात के बाद कहा-पंजाब में तैनात होंगे 2,000 और सुरक्षाकर्मी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.