मुफ्त कोरोना वैक्सीन के लिए हो जाइए तैयार, 1 मार्च से शुरू होगा टीकाकरण

  • केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को संवाददाता सम्मेलन में की घोषणा।
  • आगामी 1 मार्च से कोरोना वायरस वैक्सीनेशन का तीसरा चरण होगा शुरू।
  • 45 और 60 साल से अधिक आयु वर्ग के लोगों को एक लगाया जाएगा मुफ्त टीका।

नई दिल्ली। यों तो बीते 16 जनवरी से देश में कोरोना वायरस का टीकाकरण शुरू हो चुका है, लेकिन देश में अभी भी अधिकांश आबादी को इसका इंतजार है। अब आगामी 1 मार्च से शुरू होने जा रहे टीकाकरण में लोगों को मुफ्त में कोरोना वायरस वैक्सीन दी जाएगी, हालांकि इसमें सभी लोगों को शामिल नहीं किया जाएगा। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को इस बात की आधिकारिक घोषणा की।

BIG NEWS: यहां हो रही स्वस्थ लोगों को कोरोना वायरस से संक्रमित करने की तैयारी, WHO ने कही बड़ी बात

जावड़ेकर ने कहा कि आगामी 1 मार्च से कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ वैक्सीनेशन का तीसरा चरण शुरू होगा। इस दौरान 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को सरकारी अस्पतालों में मुफ्त कोरोना टीका लगाया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद जावड़ेकर ने बीते 16 जनवरी से भारत में शुरू दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण की शुरुआत की घोषणा की।

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि 60 साल से ऊपर के लोगों और 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को एक मार्च से देश भर के 10 हजार सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों और 20 हजार से अधिक निजी टीकाकरण केंद्रों पर कोरोना का टीका लगाया जाएगा।

मंत्री ने आगे कहा कि यह कोरोना वैक्सीन सरकारी केंद्रों पर मुफ्त में लगाई जाएगी। वहीं, निजी केंद्र टीकाकरण के लिए शुल्क लेंगे और अगले तीन या चार दिनों में इसके लिए दर तय कर दी जाएगी।

BIG NEWS: शोध में हुआ बड़ा खुलासा, इन व्यक्तियों में कोरोना वैक्सीन की एक ही डोज कारगर

उन्होंने कहा कि नागरिकों के वैक्सीनेशन की फीस तय करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा वैक्सीन निमार्ताओं और निजी अस्पतालों के साथ बातचीत की जा रही है। देश भर में अब तक कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान के दौरान 1.14 करोड़ लोगों को टीका लगाया जा चुका है।

केंद्र सरकार द्वारा हेल्थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए बीते 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान को शुरू किया गया था। इससे पहले भारत के ड्रग रेगुलेटर ने बीते 3 जनवरी को पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड कोरोना वैक्सीन कोविशिल्ड और भारत बायोटेक द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित कोवैक्सिन को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी थी।

वहीं, पिछले एक सप्ताह में कोरोना मामलों में बढ़ोतरी की खबरों के बीच 11 लाख से अधिक व्यक्तियों को कोरोना वायरस के टीके लगाए गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश में बुधवार को बीते 24 घंटों में 13,742 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही देश में कोरोना वायरस के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 1,10,30,176 हो गई है। पिछले 24 घंटे में इस महामारी के चलते 104 लोगों की मौत हो गई है और मरने वालों का आंकड़ा 1,56,567 तक पहुंच गया है।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned