बिहार: 12 विधान पार्षदों के मनोनयन पर हाईकोर्ट सुनाएगा फैसला , उपेन्द्र कुशवाहा सहित इन मंत्रियों को खतरा

बिहार में राज्यपाल कोटा (Governor Quota) से 12 विधान पार्षदों का मनोनयन को लेकर पटना हाईकोर्ट (Patna High Court) ने जल्द ही फैसला सुनाएगा। अब इन विधान पार्षदों का मनोनयन बरकरार रहेगा या खतरा बढ़ेगा, इसे लेकर अब सबकी निगाहें पटना हाईकोर्ट पर टिकी हुई हैं।

By: Nitin Singh

Published: 15 Sep 2021, 11:37 PM IST

नई दिल्ली। बिहार में राज्यपाल कोटा (Governor Quota) से 12 विधान पार्षदों का मनोनयन को लेकर पटना हाईकोर्ट (Patna High Court) जल्द ही फैसला सुनाएगा। अब इन विधान पार्षदों का मनोनयन बरकरार रहेगा या खतरा बढ़ेगा, इसे लेकर अब सबकी निगाहें पटना हाईकोर्ट पर टिकी हुई हैं। बता दें कि अगर हाईकोर्ट इस संबंध में सख्त रुख दिखाया है तो नीतीश मंत्रिमंडल के दो मंत्रियों के लिए मुश्किलें खड़ी हो जाएंगी।

बदल सकती है नीतीश मंत्रिमंडल की तस्वीर

बता दें कि नीतीश (nitish kumar) मंत्रिमंडल के दो मंत्री- जनक राम (janak ram) और अशोक चौधरी (ashok chaudhari) राज्यपाल कोटा से मनोनीत होकर विधान पार्षद बने हैं। इसके बाद ही यह दोनों नेताओं को बिहार की नीतीश कुमार (nitish kumar) सरकार में मंत्री बनाया गया है। वहीं इससे जनता दल युनाइटेड (JDU) के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा के एमएलसी (MLC) पद पर भी खतरा बढ़ सकता है। दरअसल, उपेन्द्र कुशवाह (upendra kushwah) को भी राज्यपाल कोटा से मनोनीत किया गया है।

क्या है पूरा मामला

यह पूरा मसला कुछ यूं है कि पटना हाईकोर्ट (Patna High Court) में एक याचिका दाखिल की गई है। इस याचिका में राज्यपाल कोटे से मनोनयन को चुनौती दी गई है। याचिका में कहा गया है कि भारत के संविधान के प्रावधानों के तहत साहित्य, कलाकार, वैज्ञानिक, सामाजिक कार्यकर्ता और सहकारिता आंदोलन से जुड़े हुए विशिष्ट लोगों का ही मनोनयन हो सकता है। वहीं सामाजिक कार्यकर्ता को काम का अनुभव व्यावहारिक ज्ञान और विशिष्ट होना चाहिए, लेकिन इन 12 विधान पार्षदों के मनोनयन में इसकी अनदेखी की गई है।

यह भी पढ़ें: राजद नेता तेज प्रताप संग हुई ठगी, पटना थाने में दर्ज कराई FIR

याचिका में कोर्ट को बताया गया कि जिन बारह लोगों को मनोनीत किया गया है उन्हें ना तो साहित्य से मतलब है, और ना ही वो वैज्ञानिक या कलाकार हैं। इस मामले में याचिका पर सुनवाई पूरी हो चुकी है और अदालत (Patna High Court) ने इस पर फैसला सुरक्षित कर लिया है। अब इस मामले पर सभी की निगाहें कोर्ट पर टिकी हुई हैं।

Show More
Nitin Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned