scriptIrrespective of the government, the usefulness of NCRB always gave str | सरकार चाहे कोई भी रही हो, एनसीआरबी की उपयोगिता की वजह से हमेशा बल और हौसला मिला-अमित शाह | Patrika News

सरकार चाहे कोई भी रही हो, एनसीआरबी की उपयोगिता की वजह से हमेशा बल और हौसला मिला-अमित शाह

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) का 37वां स्थापना दिवस समारोह

देश की आंतरिक सुरक्षा, क़ानून - व्यवस्था की स्थिति संभालने में एनसीआरबी की बहुत बड़ी भूमिका

3,500 करोड़ रूपए ख़र्च से इंटर ओपरेबल क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम के दूसरे चरण का लक्ष्य 2026 तक पूरा होगा

शाह NCRB के स्थापना दिवस समारोह में शामिल होने वाले देश के पहले गृह मंत्री

नई दिल्ली

Published: March 11, 2022 08:06:49 pm

अनुराग मिश्र
केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के 37वें स्थापना दिवस समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित किया।केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि आज का दिन देश की आंतरिक सुरक्षा के साथ जुड़े सभी लोगों के लिए एक हर्ष का दिन है कि एनसीआरबी अपना 37वां स्थापना दिवस मना रही है। कोई भी संस्था 37 वर्षों तक सतत रूप से काम करे तो ये तय हो जाता है कि इसके काम की प्रासंगिकता कितनी है। एनसीआरबी को, चाहे सरकार कोई भी रही हो, हमेशा बल और हौंसला मिला क्योंकि इसकी उपयोगिता है। अपराध नियंत्रण के लिए एक स्थान पर इसका डेटा उपलब्ध होना, उसका विश्लेषण होना, विभागीकरण करना और अपराध नियंत्रण के लिए अलग-अलग प्रकार की रणनीति बनाना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि रणनीति तभी बन सकती है जब मौजूदा चुनौती का विश्लेषण किया जाए और तथ्य हमारे सामने हो, हमें चुनौतियों का सामना करने के लिए उपलब्ध संसाधनों की जानकारी हो और इन दोनों के बीच गति के अंतर का विश्लेषण कर उसे रणनीति का हिस्सा बनाएं। शाह ने कहा कि देश की आंतरिक सुरक्षा, विशेषकर क़ानून और व्यवस्था की स्थिति को संभालने में, एनसीआरबी की बहुत बड़ी भूमिका है।

सरकार चाहे कोई भी रही हो, एनसीआरबी की उपयोगिता की वजह से हमेशा बल और हौसला मिला-अमित शाह
सरकार चाहे कोई भी रही हो, एनसीआरबी की उपयोगिता की वजह से हमेशा बल और हौसला मिला-अमित शाह

अमित शाह ने कहा कि जब वो गुजरात के गृह मंत्री थे तब गुजरात के पड़ोसी राज्यों की सीमाओं पर आईजी स्तर की क्राइम कॉन्फ्रेंस नियमित रूप से होती थीं। क्राइम कॉन्फ्रेंस को परिणामलक्षी बनाने के लिए डेटा चाहिए और जब इस पर काम करते हैं तो एनसीआरबी का डेटा बहुत काम आता है और इसके माध्यम से सीमांत जिलों की क़ानून-व्यवस्था पर नियंत्रण करने में भी ख़ासी मदद मिलती है। उन्होंने कहा कि जब विभिन्न राज्य पुलिस एकवर्षीय कार्ययोजना बनाती हैं तो ये पता चलता है कि इनका स्रोत एनसीआरबी का डेटा होता है। उन्होने कहा कि हर राज्य को अपनी वार्षिक पुलिस रणनीति बनाने में एनसीआरबी के डेटा का उपयोग करना चाहिए और अपराध नियंत्रण में इसका बहुआयामी और बहुउद्देशीय उपयोग होना चाहिए तभी ये संस्था परिणामलक्षी बनेगी। इसका उपयोग तभी हो सकता है जब इसे सिर्फ़ एक पुस्तक ना मानते हुए हर ज़िले, थाने, रेंज और डीजीपी मुख्यालय में इसका विश्लेषण कर उसका उपयोग करने की आदत डालें।

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री ने कहा कि सिर्फ़ डेटा बनाने से कुछ नहीं होता, राज्यों में जाकर संवाद करना पड़ेगा, इसके बारे में बताना पड़ेगा, इसके उपयोग की पद्धति बतानी होगी। कुछ राज्यों ने इसका उपयोग किया है शाह ने अपराध व अपराधी ट्रैकिंग नेटवर्क और सिस्टम हैकाथॉन का भी उद्घाटन हुआ है और BPR&D को हर राज्य में इसे इस्तेमाल करना चाहिए, क्योंकि एकमात्र ऐसा रास्ता है जिसके ज़रिए हम अपराध करने वालों से दो क़दम आगे रह सकते हैं।

गृह मंत्री ने कहा कि भारत सरकार ने ICJS के दूसरे चरण का लक्ष्य लगभग 3,500 करोड़ रूपए के ख़र्च से वर्ष 2026 तक रखा है। इसके पूरा होने के बाद आर्टिफ़िशियल इंटेलीजेंस, ब्लॉक चेन, एनालिटिक टूल और फ़िंगर प्रिंट सिस्टम का उपयोग करके इसे अधिक से अधिक उपयोगी बनाना चाहिए।

इस अवसर पर केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय, अजय कुमार मिश्र, केन्द्रीय गृह सचिव, NCRB के निदेशक और गृह मन्त्रालय तथा पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। अमित शाह NCRB के स्थापना दिवस समारोह में शामिल होने वाले देश के पहले गृह मंत्री हैं।

सरकार चाहे कोई भी रही हो, एनसीआरबी की उपयोगिता की वजह से हमेशा बल और हौसला मिला-अमित शाह

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातबीजेपी नेता किरीट सोमैया की पत्नी ने शिवसेना के संजय राउत के खिलाफ दर्ज कराया 100 करोड़ का मानहानि का मुकदमालैंड होते ही झटके से रूक गया यात्री विमान, सांस थामे बैठे रहे यात्रीजम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में पटरियों पर धरना-प्रदर्शन के चलते 23 ट्रेनें रद्द, 40 डायवर्ट की गईं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.