वीडियो : GSAT-6A लॉन्च, जानिए किस क्षेत्र में उपग्रह से मिलेगी मदद

Saif Ur Rehman

Updated: 29 Mar 2018, 06:56:33 PM (IST)

New Delhi, Delhi, India

नई दिल्ली : अंतरिक्ष में नए-नए कीर्तिमान स्थापित करने वाले भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने एक और उड़ान भरी है। गुरुवार को इसरो ने GSAT-6A सैटेलाइट का सफल प्रक्षेपण किया। इस उपग्रह को आंध्र प्रदेश में श्रीहरि कोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से शाम 4 बजकर 56 मिनट पर अंतरिक्ष में भेजा। यह उपग्रह 10 साल काम करेगा। उपग्रह मल्टी-बीम कवरेज सुविधा के जरिए भारत को मोबाइल संचार उपलब्ध कराएगा। 2000 किलो वजनी इस सैटेलाइट को बनाने में करीब 270 करोड़ रुपयों की लागत आई है। यह उपग्रह एक हाई पावर एस-बैंड संचार उपग्रह है, जो अपने वर्ग में दूसरा है। भारत इससे पहले GSAT-6 लॉन्‍च कर चुका है। इस नए उपग्रह में ज्‍यादा ताकतवर संचार पैनल्‍स और उपकरण लगाए गए हैं। इस उपग्रह से मोबाइल संचार के साथ-साथ सेना की ताक़त भी बढ़ेगी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned