गाड़ी खरीदने जा रहे हैं तो पहले जान लें ये बात, 1 सितंबर से इन शर्तों को पूरा करना होगा अनिवार्य

गाड़ी खरीदने जा रहे हैं तो पहले जान लें ये बात, 1 सितंबर से इन शर्तों को पूरा करना होगा अनिवार्य

Anil Kumar | Updated: 31 Aug 2018, 08:32:35 PM (IST) New Delhi, Delhi, India

देश की सर्वोच्च अदालत के आदेशानुसार आइआरडीए (इरडा) ने लॉन्ग टर्म थर्ड-पार्टी बीमा पॉलिसी को अनिवार्य कर दिया है।

नई दिल्ली। यदि आप कार या बाइक खरीदना चाह रहे हैं तो हो जाइए सावधान और उससे पहले जान लें यह जरूरी सूचना। एक सितंबर यानी शनिवार से नियमों में कुछ बदलाव किया जा रहा है। इससे कार या बाइक खरीदना महंगा हो सकता है। दरअसल गाड़ी खरीदने के लिए आपको दो शर्तें पूरी करनी जरूरी होंगी। क्योंकि देश की सर्वोच्च अदालत के आदेशानुसार आइआरडीए (इरडा) ने लॉन्ग टर्म थर्ड-पार्टी बीमा पॉलिसी को अनिवार्य कर दिया है।

क्या है नया नियम

आपको बता दें कि नए नियम के मुताबिक एक हजार सीसी से कम इंजन क्षमता वाली कार के लिए थर्ड पार्टी बीमा की कीमत 5,286 रुपए होगी जबकि एक हजार से डेढ़ हजार सीसी क्षमता वाली कार के लिए 9,534 रुपए और डेढ़ हजार या उससे अधिक सीसी की इंजन क्षमता वाली कार के लिए 24,305 रुपए होगी। बता दें कि ये सभी कीमत तीन वार्ष के लिए मान्य होगा। इसके अलावे दोपहिया वाहनों में भी नए नियमों को लागू किया गया है। नए नियम के मुताबिक दोपहिया वाहनों में 75 सीसी से कम क्षमता वाले वाहनों के लिए पांच वर्ष के थर्ड पार्टी बीमा की कीमत 1,045 रुपए, 75 से 100 सीसी इंजन क्षमता वाले वाहन के लिए 3,285 रुपए, 150 से 350 सीसी इंजन क्षमता वाले वाहन के लिए 5,453 रुपए एवं 350 से अधिक सीसी इंजन क्षमता वाले बाइक के लिए 13,034 रुपए होगी।

सुप्रीम कोर्ट: एससी-एसटी कर्मियों से पूछा, ओबीसी की तरह क्रीमीलेयर पॉलिसी को लागू करने में हर्ज क्‍या है?

पांच वर्ष के लिए लेना होगा बीमा

आपको बता दें कि नए नियम के मुताबिक कॉम्प्रिहेंसिव बीमा लेने का अधिकार वाहन खरीददार के पास ही होगा। नियम में कहा गया है कि कार खरीदने वाले एक वर्ष या तीन वर्ष का कॉम्प्रिहेंसिव बीमा ले सकेंगे जबकि दूसरी और दोपहिया वाहन खरीदने वाले को पांच वर्ष के लिए बीमा लेना होगा। देश की सर्वोच्च अदालत ने अपने एक आदेश में कहा है कि सभी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों को नई कारों को तीन वर्ष के लिए थर्ड-पार्टी बीमा कवर तथा नए दोपहिया वाहनों के लिए पांच वर्ष का थर्ड-पार्टी बीमा कवर जारी करना अनिवार्य है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned