पाकिस्तान बंदूकों से जम्मू-कश्मीर बंद करता है तो हमनें डंडे का प्रयोग कर क्या गलत किया: मनोज सिन्हा

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा का कहना है कि अगर पाकिस्तान बंद के लिए बंदूकों का इस्तेमाल कर सकता है तो हमने डंडे का प्रयोग कर कुछ गलत नहीं किया।

By: Nitin Singh

Updated: 22 Aug 2021, 02:06 PM IST

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल (LG) मनोज सिन्हा का कहना है कि अगर पाकिस्तान राज्य को बंद कराने के लिए आतंक का इस्तेमाल करके बंदूक का प्रयोग करता है तो हम उसे रोकने के लिए डंडे का प्रयोग करेंगे, इसमें कुछ गलत नहीं है। उपराज्यपाल ने यह बयान एक पत्रकार के सवाल पर दिया है। दरअसल, एक पत्रकार ने मनोज सिन्हा से पूछा कि 5 अगस्त को सब कुछ सामान्य रहे इसके लिए आपने बल का प्रयोग किया है।

मनोज सिन्हा बोले समझौते की कोई गुंजाइश नहीं

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा पत्रकार बशीर असद की किताब 'कश्मीर : द वार ऑफ नैरेटिव्स' के विमोचन के मौके पर यहां आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि 'मेरा मानना है कि यह स्पष्ट होना चाहिए कि यह सीमा रेखा है और किसी को भी इसे पार करने की अनुमति नहीं है। जब तक मैं यहां हूं, यहां ऐसा ही रहेगा, यहां किसी समझौते की गुंजाइश नहीं है।

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को समाप्त हुए दो साल का समय हो गया है। इस दौरान घाटी में शांति का माहौल है। मनोज सिंहा का कहना है कि लोगों ने मुझसे कहा था कि 5 अगस्त को बंद होगा। मुझे नहीं लगा कि 5 अगस्त कोई महत्वपूर्ण तारीख है, लेकिन भगवान की कृपा से, कोई बंद नहीं था।

डंडे का प्रयोग कर कुछ गलत नहीं किया

मनोज सिन्हा ने कहा कि एक पत्रकार ने मुझसे पूछा कि बंद न हो यह सुनिश्चित करने के लिए मैंने डंडों का इस्तेमाल किया। मैंने तर्क दिया कि सारा ट्रैफिक चल रहा था और लोग बड़ी संख्या में खरीदारी कर रहे थे, ये सब डंडे के जोर से नहीं हो सकता है। लेकिन अगर आप मानते हैं, तो मैं इसे स्वीकर करता हूं। बंद भी तो पाकिस्तान और अतंकवाद की बंदूक से होता था। अगर मैंने डंडे का प्रयोग किया तो कुछ बुरा नहीं।

गलत धारणाओं को दूर करने की जरूरत

उन्होंने कहा कि कश्मीर पर कुछ लोग स्वघोषित एक्सपर्ट बनकर इंटरनेशनल लेवल पर कहानियां बुन रहे हैं। यह जरूरी है कि हम इन गलत धारणाओं से दूर जाएं। यह जरूरी है कि यह देखा जाए कि लोग क्या चाहते हैं और उनकी जिंदगी कैसे बेहतर बनाई जा सकती है।

Show More
Nitin Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned