नक्सलियों को कारतूस सप्लाई करता था मास्टर, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने किया गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने शांति वन के पास से नक्सिलयों को थोक में कारतूस सप्लाई करने वाले एक मास्टर को गिरफ्तार किया है। मास्टर के पास से पुलिस ने 407 कारतूस रिकवर हुए हैं, जो इंसास राइफल और एलएलआर में इस्तेमाल होते हैं।

By: Anil Kumar

Published: 24 Jul 2018, 04:13 PM IST

नई दिल्ली। भारत के कई राज्य नक्सल प्रभावित हैं और नकस्लियों को मुख्य धारा में लाने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही है लेकिन इनके बावजूद भी नक्सलियों का आतंक कहीं न कहीं जरूर देखने को मिलता रहता है। सबसे हैरानी तब होती है जब समाज के कुछ शिक्षित बुद्धीजीवी वर्ग के लोग नक्सलियों के बहकावे में आकर उनका साथ देते हैं। ऐसे में एक व्यक्ति का खुलासा हुआ हो जो कि समाज के नजरों में एक शिक्षक है लेकिन वह नक्सलियों के लिए काम करता है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने शांति वन के पास से नक्सिलयों को थोक में कारतूस सप्लाई करने वाले एक मास्टर को गिरफ्तार किया है। मास्टर के पास से पुलिस ने 407 कारतूस रिकवर हुए हैं, जो इंसास राइफल और एलएलआर में इस्तेमाल होते हैं। इस गिरफ्तार की बाद पुलिस के हाथ एक अहम कड़ी लगी है जो कि नक्सलियों तक इंसास और एलएलआर के कारतूस पहुंचाने वाले मुख्य सोर्स का पता चल बता सके। बता दें कि पुलिस फिलहाल अन्य जानकारियां जुटा रही है और तफ्तीश कर रही है।

पहले भी हो चुके हैं गिरफ्तार

आपको बता दें कि मास्टर की गिरफ्तारी के बाद कुछ बड़ी बातों का खुलासा हुआ है। पुलिस की शुरुआती पूछताछ में मास्टर ने खुलासा किया है कि वह महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्सलियों तक लगभग 20 हजार कारतूस सप्लाई कर चुका है। बता दें कि गढ़चिरौली महाराष्ट्र का वह इलाका है जो कि नक्सलियों के आतंक से सबसे ज्यादा प्रभावित है। इस क्षेत्र में अर्द्धसैनिक बलों के उपर कई बार नक्सलियों ने हमला किया है। जिससे अब तक कई जवान शहीद हो चुके हैं। इस मामले को लेकर डीसीपी प्रमोद कुशवाह ने बताया कि एसीपी गोविंद शर्मा के सुपरविजन में इंस्पेक्टर अजय कुमार और सुभाष वत्स की टीम ने कुख्यात तस्कर राम किशन सिंह (55) को गिरफ्तार किया है। राम किशन सिंह बिहार के भोजपुर जिले का रहने वाला है। वह पहले एक निजी स्कूल में पढ़ाता था। किसी कारण से नौकरी छूटने के बाद आर्म्स सप्लाई करने लगा। इसी सिलसिले में राम किशन सिंह को 2015 में पहली बार गिरफ्तार किया गया था। जिसके बाद जब वह जेल से निकले तो नक्सलियों के संपर्क में आ गए और फिर उन तक कारतूस व अन्य हथियार पहुंचाने का काम करने लगे। फिलहाल दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लिया है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned