scriptNDRF's Annual Conference on Capacity Building for Disaster Response | NDRF का आपदा प्रतिक्रिया के लिए क्षमता निर्माण पर वार्षिक सम्मेलन | Patrika News

NDRF का आपदा प्रतिक्रिया के लिए क्षमता निर्माण पर वार्षिक सम्मेलन

- एनडीएमए की एनडीएमपी योजना देश में तैयार की गई पहली राष्ट्रीय आपदा योजना

- सेन्डाई आपदा जोखिम कम फ़्रेमवर्क-2015 से 2030 के सभी मानकों से मैच करती है एनडीएमपी

- दुनियाभर के आपदा मोचन और आपदा प्रतिक्रिया क्षेत्र में काम करने वाली संस्थाओं के बीच एनडीआरएफ़ ने अपना सिक्का जमाया- शाह

 

नई दिल्ली

Published: April 07, 2022 10:29:29 pm

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह विज्ञान भवन में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) द्वारा आयोजित आपदा प्रतिक्रिया के लिए क्षमता निर्माण पर वार्षिक सम्मेलन - 2022 में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। इस अवसर पर गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय, केन्द्रीय गृह सचिव और एनडीआरएफ़ के महानिदेशक अतुल करवाल सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

NDRF का आपदा प्रतिक्रिया के लिए क्षमता निर्माण पर वार्षिक सम्मेलन
NDRF का आपदा प्रतिक्रिया के लिए क्षमता निर्माण पर वार्षिक सम्मेलन

अपने संबोधन में केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में एनडीएमए, सभी मुख्यमंत्रियों की अध्यक्षता में एसडीएमए और एक समग्र एकीकृत दृष्टिकोण के साथ आपदा प्रबंधन को विश्वास के साथ केन्द्र और राज्य सरकारों ने ज़मीन पर उतारा है। नब्बे के दशक से पहले हमारा राहत-केन्द्रित दृष्टिकोण था, इसमें जान-माल बचाने की कोई गुंजाइश नहीं थी और न ये योजना का हिस्सा था। अब अर्ली वॉर्निंग, स्क्रिय निवारण, शमन और पूर्व तैयारी आधारित जान-माल को बचाने के वैज्ञानिक कार्यक्रम पर हमने काफ़ी काम किया है। आज विश्व में आपदा मोचन के क्षेत्र में हम बराबरी पर और कई क्षेत्रों में आगे भी खड़े हैं।

अमित शाह ने कहा कि वर्ष 2016 में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एनडीएमए की एनडीएमपी योजना शुरू की। ये देश में तैयार की गई पहली राष्ट्रीय आपदा योजना है और सेन्डाई आपदा जोखिम निम्नीकरण फ़्रेमवर्क-2015 से 2030 के सभी मानकों से मैच करती है। पहली बार सरकार की सभी ऐजेंसियों, विभागों के हॉरीज़ॉन्टल और वर्टिकल एकीकरण की योजना बनाई गई और इसका परिणाम हमारे सामने है। इस योजना में पंचायत, शहरी, स्थानीय निकाय के स्तर तक सरकार को और अलग अलग सरकारी विभागों को, कलेक्टर को नोडल ऐजेंसी बनाकर जोड़ा गया है। 2016 में इस योजना में 11 आपदाओं का समावेश किया गया था और 2019 में 17 आपदाओं का इसमें समावेश किया गया है। यह बताता है कि हम निरंतर हर प्रकार की आपदाओं पर काम कर रहे हैं और आपदाओं से होने वाली मृत्युओं की संख्या में हम बहुत कमी लाए हैं और यह हमारी बहुत बड़ी उपलब्धि है।

दुनियाभर के आपदा मोचन और आपदा प्रतिक्रिया क्षेत्र में काम करने वाली संस्थाओं के बीच भी एनडीआरएफ़ ने अपना सिक्का जमाकर अपना स्थान निश्चित किया है और ये देश के लिए यह बहुत गौरव की बात है। कई बार पड़ोसी देशों में जाकर भी एनडीआरएफ़ ने मानवता की दृष्टि से उनकी मदद की है और विश्व में भारत का संदेश पहुंचाया है।

शाह ने कहा कि भारत में वर्ष 2000 से 2022 तक का समय आपदा प्रबंधन के क्षेत्र के लिए स्वर्णिम काल माना जाएगा। बीस साल के इतने कम अंतराल में भारत में बहुत लंबी यात्रा करके हम एक यशस्वी स्थान पर पहुंचे हैं। आपदा प्रबंधन हमारे देश में कोई नई बात नहीं है, हम सबने भगीरथ के बारे में सुना है कि उन्होंने गंगा को पृथ्वी पर उतारा। लेकिन आज उत्तराखंड की पहाड़ियों से गंगा को बंगाल के सागर तक जाते हुए देखते हैं तो पता लगता है कि किसी ने साइंटिफ़िक तरीक़े से सोचकर ये रास्ता बनाया और बाढ़ प्रबंधन का बहुत बढ़िया काम करने के साथ ही जल प्रबंधन भी मज़बूती के साथ किया है।

एनडीआरएफ़ के भगीरथ प्रयासों के कारण आज हम 20 साल से भी कम समय में ही बहुत बड़ी यात्रा तय कर चुके हैं। 1999 के ओडिशा के सुपर साइक्लोन को सबने देखा है जिसमें दस हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हुई थी, 2001 के गुजरात भूकंप में हज़ारों लोगों की जान गई थी, लेकिन आज हम ऐसे स्थान पर खड़े हैं कि कितने भी साइक्लोन आ जाएं, मौत को हम एक प्रतिशत से भी कम पर ले आए हैं।

26 राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में एसडीआरएफ का गठन हो चुका है। एसडीआरएफ के गठन के समय ही एनडीआरएफ उसके प्रशिक्षण के साथ जुड़ता है, इसी कारण इतने बड़े देश में एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पंचायत स्तर पर प्रबंधन के क्षेत्र में एकरूपता लाने में सफलता मिली है। फेडरल स्ट्रक्चर का सम्मान करते हुए हमने इस सफलता को प्राप्त किया है। अब तक लगभग 21,000 से ज्यादा एसडीआरएफ कर्मियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि जो कॉमन अलर्ट प्रोटोकोल लागू किया गया है उसका भी बहुत बड़ा फायदा हुआ है और नॉर्थ ईस्ट के क्षेत्र में नेसेक के द्वारा फ्लड मैनेजमेंट, सड़क एलाइनमेंट और इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण में पानी के प्रवाह को देखकर इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण किया जाए और पानी के प्रवाह को इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण से रोका न जाए, इस तरह भी बाढ़ की बहुत अच्छी मैपिंग की गई है।

NDRF का आपदा प्रतिक्रिया के लिए क्षमता निर्माण पर वार्षिक सम्मेलन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

'तमिल को भी हिंदी की तरह मिले समान अधिकार', CM स्टालिन की अपील के बाद PM मोदी ने दिया जवाबहिन्दी VS साऊथ की डिबेट पर कमल हासन ने रखी अपनी राय, कहा - 'हम अलग भाषा बोलते हैं लेकिन एक हैं'Asia Cup में भारत ने इंडोनेशिया को 16-0 से रौंदा, पाकिस्तान का सपना चूर-चूर करते हुए दिया डबल झटकाअजमेर की ख्वाजा साहब की दरगाह में हिन्दू प्रतीक चिन्ह होने का दावा, पुलिस जाप्ता तैनातबोरवेल में गिरा 12 साल का बालक : माधाराम के देशी जुगाड़ से मिली सफलता, प्रशासन ने थपथपाई पीठममता बनर्जी का बड़ा फैसला, अब राज्यपाल की जगह सीएम होंगी विश्वविद्यालयों की चांसलरयासीन मलिक के समर्थन में खालिस्तानी आतंकी ने अमरनाथ यात्रा को रोकने की दी धमकीलगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.