ओलंपिक: खिलाड़ियों की ट्रेनिंग पर सरकार खर्च करती है इतनी रकम

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में भारत ने शानदार प्रदर्शन किया, लेकिन क्या आपको पता है कि भारत के इस प्रदर्शन में सरकार की महत्वपूर्ण भूमिका है। दरअसल सरकार खिलाड़ियों की ट्रेंनिग में भारी रकम खर्च करती है।

By: Nitin Singh

Published: 10 Aug 2021, 10:03 AM IST

नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में इस बार भारत ने इतिहास रच दिया है। माना जा रहा है कि ओलंपिक में भारत का यह अब तक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया है। बता दें कि इस दफा भारत ने ओलंपिक में कुल सात मेडल जीते हैं, जिनमें एक गोल्ड, दो सिल्वर और 4 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं। इसी बीच विपक्ष ने राज्यसभा में पूछ लिया कि ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों मे भारत के प्रदर्शन को बेहतर करने के लिए सरकार ने क्या किया है। वहीं इस सवाल का खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने विस्तृत जानकारी दी है।

क्या है सरकार की ओलंपिक पोडियम स्कीम

सवाल का जवाब देते हुए अनुराग ठाकुर ने बताया कि ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों में भारत के प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए खेल मंत्रालय ने सितंबर 2014 में टारगेट ओलंपिक पोडियम स्कीम (TOPS) शुरू की थी। इसके साथ ही अप्रैल 2018 में इस स्कीम में थोड़ा बदलाव भी किया गया, इस स्कीम के तहत कोर ग्रुप में चुने गए एथलीटों को हर महीने 50 हजार रुपए और डेवलपमेंट ग्रुप को 25 हजार रुपए का भत्ता दिया जाता है। फिलहाल, कोर ग्रुप में 162 एथलीट, हॉकी टीम (महिला-पुरुष) और डेवलपमेंट ग्रुप में 254 एथलीटों को शामिल किया गया है।

खिलाड़ियों को मिलती हैं ये सुविधाएं

खेल मंत्री के मुताबिक, इस स्कीम के तहत खिलाड़ियों को टॉप कोच से कोचिंग, खेल से जुड़े इक्विपमेंट खरीदने में मदद की जाती है। वहीं पेरिस, टोक्यो और लॉस एंजिल्स में होने वाले ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों में भाग लेने के लिए भी आर्थिक मदद भी मुहैया कराई जाती है। इसके अलावा खिलाड़ियों को सपोर्ट स्टाफ जैसे फिजियोथेरेपिस्ट और फिजिकल ट्रेनर्स भी दिए जाते हैं। ताकि अभ्यास के दौरान उन्हें किसी तरह की परेशानी न हो।

स्कीम में अब तक कितना खर्च

अनुराग ठाकुर ने बताया कि इस स्कीम के तहत सरकार ने 2018-19, 2019-20 और 2020-21 में क्रमश: 14.31, 12.41 और 15.65 लाख करोड़ रुपए खर्च किए हैं। अगर वित्त वर्ष 2021-22 की बात करें तो 4 अगस्त तक स्कीम के तहत 12.48 लाख करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं। इसके साथ ही सरकार ने मिशन ओलंपिक सेल (MOC) का भी गठन किया है, जो स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) के अंतर्गत काम करती है। इस सेल का काम TOPS के तहत चुने गए एथलीट की पहचान करना और उन्हें सपोर्ट करना है।

यह भी पढ़ें: दो साल की उम्र में हुआ था लकवा, भोपाल में पैरालांपिक की तैयारी में जुटा भारतीय दिग्गज

अनुराग ठाकुर ने बताया कि सरकार अपनी नेशनल स्पोर्ट्स फेडरेशन (NSF) को सहायता की स्कीम के जरिए ओलंपिक, एशियन और कॉमनवेल्थ जैसे खेलों की तैयारी करने वाले खिलाड़ियों को मदद देती है। इस स्कीम के तहत सरकार ट्रेनिंग कैम्प्स आयोजित करने के लिए फंड देती है। उन्होंने बताया कि इस स्कीम के तहत तहत 2018-19 में 244 करोड़ रुपए, 2019-20 में 301 करोड़ रुपए, 2020-21 में 152 करोड़ और 2021-22 में 4 अगस्त तक 20 करोड़ रुपए से ज्यादा दिए जा चुके हैं।

खेलो इंडिया से 3 हजार खिलाड़ियों की सहायता

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने आगे कहा कि खेलो इंडिया स्कीम के तहत सरकार 3 हजार खिलाड़ियों की सहायता कर रही है। इसके तहत एथलीटों को हर साल 6.28 लाख रुपए की सहायता दी जाती है, जिसमें ट्रेनिंग सपोर्ट के अलावा 10 हजार रुपए हर महीने का भत्ता भी शामिल है।

Nitin Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned