सर्वे में हुआ खुलासा, सिर्फ 33 प्रतिशत मुस्लिम ही करते हैं काम

सर्वे में हुआ खुलासा, सिर्फ 33 प्रतिशत मुस्लिम ही करते हैं काम
muslim

Rakesh Mishra | Publish: Jan, 05 2016 07:58:00 AM (IST) New Delhi, Delhi, India

देश में धर्म आधारित कामकाजी आबादी के आंकड़ों से खुलासा हुआ है कि मुस्लिमों की कुल जनसंख्या में कामकाज करने वाले महज 33 फीसदी है

नई दिल्ली। देश में धर्म आधारित कामकाजी आबादी के आंकड़ों से खुलासा हुआ है कि मुस्लिमों की कुल जनसंख्या में कामकाज करने वाले महज 33 फीसदी हैं। यह राष्ट्रीय औसत (40 फीसदी) से भी कम है। एक अंग्रेजी अखबार की खबर के मुताबिक, जैन और सिख में यह आंकड़ा 36-36 फीसदी है। वहीं सबसे ज्यादा कामकाज करने वाले लोग बौद्ध धर्म में हैं। खास बात यह भी है कि बौद्ध धर्म अपनाने वालों में ज्यादातर दलित हैं। देश की हिंदू आबादी में कामकाज करने वालों का आंकड़ा 41 फीसदी है। 2011 की जनगणना के आधार पर यह रिपोर्ट तैयार की गई है। इन आंकड़ों और दस साल पहले की गई जनगणना के आंकड़ों में बड़ा फर्क नहीं आया है।

रिपोर्ट की खास बातें
  •  देश में कमाने वालों की संख्या 48.20 करोड़ है। यह कुल आबादी का 40 फीसदी हिस्सा है।
  •  इनमें से 55 फीसदी कृषि व 41.2 फीसदी इंडस्ट्री और सर्विस सेक्टर से जुड़े हैं।
  •  कामकाजी पुरुष 53 फीसदी, तो महिलाओं का आंकडा 26 फीसदी है।
  •  मुस्लिम, जैन और सिख जैसे समुदायों में तुलनात्मक रूप से कम कामकाजी आबादी होने का बड़ा कारण महिलाओं की भागीदारी नहीं होना है।
  •  मुस्लिम और सिख की कामकाजी आबादी में महिलाओं का हिस्सा महज 15 फीसदी है। जैन में यह सबसे कम 12 फीसदी है।
  •  हिंदुओं में 27, ईसाइयो में 31 और बौद्धधर्म में 33 फीसदी महिलाएं कामकाजी हैं
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned