पत्रिका पोल: क्या शराब पर ज्यादा टैक्स से दुकानों के बाहर लंबी लाइनेें कम हो जाएंगी? 60% लोगों का जवाब 'हां'

  • मोदी सरकार ने एक बार फिर लॉकडाउन की मियाद बढ़ा दी है
  • नए आदेश के अनुसार लॉकडाउन अब 17 मई तक जारी रहेगा

By: Mohit sharma

Published: 05 May 2020, 09:32 PM IST

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के फैलते संक्रमण को देखते हुए मोदी सरकार ने एक बार फिर लॉकडाउन की मियाद बढ़ा दी है। नए आदेश के अनुसार लॉकडाउन अब 17 मई तक जारी रहेगा। इसके हालांकि लॉकडाउन में शर्तों के आधार पर कुछ छूट दी गई है। इस दौरान सरकार ने शराब की दुकानें भी खोल के आदेश जारी किए। वहीं, सोमवार को शराब की दुकानों के सामने लोगों की लंबी—ंलंबी कतारे देखने को मिले। लोग शराब के ठेके पर सुबह छह बजे से ही पहुंचना शुरू हो गए थे और 10 बजते—बजते सड़क पर लंबी—लंबी लाइनें लगी थी। लोगों ने इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जिायं उड़ा दी। यहां तक की पुलिस को कानून—व्यवस्था बनाए रखने के लिए कई जगहों पर लाठी तक चार्ज करना पड़ा। हालांकि इस बीच बड़ा सवाल यह है कि शराब की इस आपाधापी में लोगों के कोरोना वायरस की चपेट में आने की आशंका बनी हुई है।

 

untitled.png

ऐसे में पत्रिका ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर ऑनलाइन पोल किया है। पत्रिका ने अपने ऑनलाइन पोल में पूछा कि क्या शराब की बिक्री पर ज्यादा टैक्स लगाने से वाइन की दुकानों के बाहर लगी लोगों की लंबी-लंबी लाइनों को कम किया जा सकेगा? इस सवाल के जवाब में यूजर्स को हां, नहीं और पता नहीं का बटन दबाना था। फेसबुक पर पत्रिका के इस पोल में 60 प्रतिशत यूजर्स का जवाब हां था। यानी वो मानते हैं कि शराब पर टैक्स लगने से ठेकों के बाद लगनी वाली लाइनें कम हो जाएंगी, जबकि 40 प्रतिशत यूजर्स ने इस पर अपनी असहमति जताई।

 

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned