scriptPattern will change, digital account will be unlocked without password | बदल जाएगा पैटर्न, बिना पासवर्ड अनलॉक होगा डिजिटल अकाउंट | Patrika News

बदल जाएगा पैटर्न, बिना पासवर्ड अनलॉक होगा डिजिटल अकाउंट

एपल, माइक्रोसॉफ्ट और गूगल ने पासवर्ड मुक्त सिस्टम पर शुरू किया काम

नई दिल्ली

Updated: May 10, 2022 11:20:43 pm

नई दिल्ली. पासवर्ड याद करने के झंझटों से जल्द मुक्ति मिलने की उम्मीद है। दुनिया की तीन बड़ी कंपनियां एपल, माइक्रोसॉफ्ट और गूगल ने बिना पासवर्ड साइन-इन करने की सुविधा पर काम शुरू कर दिया है। माना जा रहा है कि अगले कुछ साल में पासवर्ड पूरी तरह खत्म हो सकते हैं। इसकी जगह दूसरा अधिक सुरक्षित तरीका प्रयोग में लाया जाएगा। कंपनियों का कहना है कि आने वाले समय में फोन को अनलॉक करने के लिए पासवर्ड की जगह फिंगर प्रिंट या फेस रिक्गनिशन का प्रयोग होगा। इसी तकनीकी को दूसरे अकाउंट में भी उपयोग किया जा सकता है।
बदल जाएगा पैटर्न, बिना पासवर्ड अनलॉक होगा डिजिटल अकाउंट
बदल जाएगा पैटर्न, बिना पासवर्ड अनलॉक होगा डिजिटल अकाउंट

दरअसल, एपल, गूगल, माइक्रोसॉफ्ट ने फिडो गठबंधन और वल्र्डवाइड वेब के नए मानकों को स्वीकार किया है। इसके तहत ऐप या पासवर्ड को ज्यादा बेहतर तरीके से उपयोग में लाया जाएगा। फिडो (फास्ट आइडेंटिटी ऑनलाइन) वेबसाइट और ऐप को तेजी तथा सुरक्षित तरीके से एक्सेस करने के लिए प्रतिबद्ध खुला उद्योग संघ है। इसका मिशन ऐसे मानकों को विकसित करना और बढ़ावा देना है, जो पासवर्ड पर दुनिया की निर्भरता को कम करने में मदद करते हैं।
फॉर्गेट पासवर्ड के विकल्प से बचेंगे
फेस रिक्गनिशन या फिंगर प्रिंट सिक्योरिटी से पासवर्ड भूल जाने की समस्या नहीं रहेगी। फॉर्गेट पासवर्ड के विकल्प पर नहीं जाना होगा।
फॉर्गेट पासवर्ड के उपयोग के दौरान मोबाइल में नेटवर्क न हो तो ओटीपी नहीं आता। नई पहचान तकनीक इस समस्या से भी बचाएगी।
आमतौर पर यूजर्स कॉमन पासवर्ड बनाते हैं। उन्हें आसानी से हैक कर लिया जाता है। नई तकनीक हैकिंग से बचाएगी।
इससे फिशिंग (ऑनलाइन धोखाधड़ी) से छुटकारा मिलेगा, क्योंकि बार-बार मल्टीपल ऑथेंटिकेशन के लिए वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) की जरूरत नहीं रहेगी।
उद्योग जगत, फाइनेंशियल सर्विसेज, टेलीकॉम एवं मोबाइल, सरकार, स्वास्थ्य और इंश्योरेंस के क्षेत्र में यह तकनीक फायदेमंद रहेगी।
कमजोर और मजबूत पासवर्ड की उलझन

80 प्रतिशत डेटा चोरी की घटनाओं की मूल वजह कमजोर पासवर्ड होता है।
90 ऑनलाइन अकाउंट होते हैं औसतन एक यूजर के पास।
51 प्रतिशत ऐसे पासवर्ड होते हैं, जिनका प्रयोग यूजर दोबारा करते हैं और ऑनलाइन धोखाधड़ी का शिकार हो जाते हैं।
एक तिहाई ऑनलाइन खरीद पासवर्ड भूल जाने के कारण बीच में छोड़ दी जाती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

BJP National Executive Office Bearers Meeting: कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम ने PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाShivling In Gyanvapi: असदुद्दीन ओवैसी का अजीबोगरीब दावा, ज्ञानवापी में शिवलिंग नहीं, फव्वारा मिला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.