corona third wave: कोरोना की तीसरी लहर का खतरा टला, अब आम फ्लू रह जाएगा कोरोना, AIIMS के निदेशक ने कही कई बड़ी बातें

भारत में कोरोना संक्रमण (covid-19) अब कमजोर पड़ गया है। दो महीने से अधिक समय से भारत में कोरोना (corona in india) के 50 हजार से कम नए मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में दिल्ली एम्स (aiims) के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया (randeep guleria) का कहना है कि कोरोना वायरस अब महामारी नहीं रह गया है। वहीं कोरोना की तीसरी लहर (third wave of corona) का खतरा भी टल गया है।

By: Nitin Singh

Published: 22 Sep 2021, 01:22 PM IST

नई दिल्ली। भारत में कोरोना संक्रमण (covid-19) अब कमजोर पड़ गया है। दो महीने से अधिक समय से भारत में कोरोना (corona in india) के 50 हजार से कम नए मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में दिल्ली एम्स (aiims) के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया (randeep guleria) का कहना है कि कोरोना वायरस अब महामारी नहीं रह गया है। हालांकि अभी भी लोगों को कोरोना से सावधान रहने की जरूरत है और कोरोना वैक्सीन न लगने तक इससे अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। खास तौर पर सभी को त्योहारों पर भीड़-भाड़ से बचना चाहिए।

टल गया तीसरी लहर का खतरा

डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि भारत में दर्ज हो रहे आंकड़े अब 25 हजार से 40 हजार के बीच आ रहे हैं। अगर लोग कोरोना गाइडलाइन (covid-19) का सख्ती से पालन करें तो संक्रमण के मामले धीरे-धीरे कम होते रहेंगे। उन्होंने कहा कि देश में कोरोना कभी पूरी तरह खत्म नहीं होगा, लेकिन भारत में जितनी तेजी से कोरोना टीकाकरण हो रहा है, उसे देखते हुए कोरोना का अब महामारी की शक्ल लेना या बड़े पैमाने पर फैलना मुश्किल है। उन्होंने बताया कि देश में कोरोना महामारी की तीसरी लहर (third wave of corona) का खतरा टल गया है।

बीमार लोगों को सतर्क रहने की जरूरत

उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ सरकार भी टीकाकरण (corona vaccination) पर खास ध्यान दे रही है। अब वो दिन दूर नहीं जब कोरोना वायरस आम फ्लू यानी साधारण खांसी, जुकाम की तरह हो जाएगा क्योंकि लोगों में अब इस वायरस के खिलाफ इम्युनिटी तैयार चुकी है। हालांकि बीमार और कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों को इस बीमारी से जान का खतरा बना रहेगा।

यह भी पढ़ें: लगातार दूसरे दिन भारत में कोरोना से राहत, 24 घंटे में करी7 27 हजार नए मामले

एम्स निदेशक का कहना है कि कोरोना महामारी से बचने के लिए नियमों का पालन करना और कोरोना टीकाकरण (corona vaccination) करवाना बेहद जरूरी है। भारत में संपूर्ण टीकाकरण होने के बाद कोरोना महामारी से और राहत मिलेगी। टीकाकरण के बाद ही बूस्टर डोज पर जोर दिया जाना चाहिए। कुछ वक्त के बाद बेहद बीमार, बुजुर्गों या कमजोर इम्युनिटी वालों को बूस्टर डोज दी जा सकती है। ये भी जरूरी नहीं कि बूस्टर उसी वैक्सीन का लगे जो किसी ने पहले लगवाई हो। हालांकि इस बारे में पहले एक पॉलिसी बनाई जाएगी। फिलहाल कोरोना (covid-19) से डरने की जरूरत नहीं है बस गाइडलाइन का सख्ती से पालन करना है।

COVID-19 COVID-19 virus Covid-19 in india
Show More
Nitin Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned