'लूट की छूट' चाहते हैं कैब टैक्सी चलाने वाले

दिल्ली में यात्रियों से अधिक किराया वसूली के मामले में एप आधारित 50 और कैब को जब्त किया गया है

By: शंकर शर्मा

Published: 20 Apr 2016, 11:35 PM IST

नई दिल्ली. दिल्ली में यात्रियों से अधिक किराया वसूली के मामले में एप आधारित 50 और कैब को जब्त किया गया है। वहीं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मनमाना किराया वसूली को खुली लूट करार देते हुए संकेत दिए हैं कि इस तरह का पैंतरा अपनाने वालों पर हमेशा के लिए प्रतिबंध लग सकता है। दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने कहा, ग्राहकों की शिकायतों पर हमने 50 और कैब को जब्त किया है। सभी टैक्सियों का परिचालन एप आधारित है। उन्होंने कहा कि जब्त की गई 50 में से 35 टैक्सियां दिल्ली से बाहर पंजीकृत हैं।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा, कुछ टैक्सी वाले कह रह हैं कि अगर उन्हें खुली लूट की अनुमति नहीं मिली, तो वे टैक्सी नहीं चलाएंगे। यह खुली ब्लैकमेलिंग है और सरकार ऐसा होने नहीं देगी। दिल्ली सरकार ने स्पष्ट कहा है कि अगर मनमाना किराया वसूला गया, तो टैक्सियों को जब्त करने के साथ ही उसके चालक का लाइसेंस जब्त कर लिया जाएगा।

ग्राहकों से अधिक किराया वसूली को लेकर दिल्ली सरकार ने सोमवार को ओला और उबर से संबंधित 18 टैक्सियों को जब्त किया। इन टैक्सियों ने दिल्ली में लागू सम-विषम परिवहन योजना का फायदा उठाते हुए ग्राहकों से मनमाना किराया वसूला था। अरविंद केजरीवाल ने मांग बढऩे पर टैक्सियों द्वारा अधिक किराये की वसूली पर कैब संचालकों को कड़ी चेतावनी दी है। केजरीवाल ने कहा कि सरकार द्वारा निर्धारित किराये से अधिक किराया वसूलने पर कार्रवाई होगी।

मीडिया घराने पर निशाना
मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, मनमाना किराया, डीजल कार, बिना लाइसेंस या बैज वाले चालकों और कंपनियों द्वारा ब्लैकमेलिंग को मंजूरी नहीं मिलेगी। उन्होंने आरोप लगाया कि एक मीडिया घराने ने मनमाने किराए का समर्थन किया है, जिसने एक कैब कंपनी में 150 करोड़ रुपए का निवेश किया है। उन्होंने हालांकि किसी मीडिया घराने का नाम नहीं लिया।
 
मजबूरी का उठा रहे फायदा
उल्लेखनीय है कि 15 अप्रैल से लेकर 30 अप्रैल तक सम-विषम परिवहन योजना के कार्यान्वयन के कारण राजधानी में टैक्सी की मांग में तेजी रहेगी। योजना के दौरान पेट्रोल और डीजल कारों पर पाबंदी के कारण हजारों लोगों को टैक्सी से काम चलाना पड़ रहा है। केजरीवाल ने मनमाने किराए को दिन दहाड़े डकैती करार दिया है और दिल्ली सरकार को खुले तौर पर ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया है।

हमारी सरकार ऑनलाइन कैब कंपनियों के खिलाफ नहीं है, लेकिन उन्हें कानून का पालन करना चाहिए।
अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, नई दिल्ली
शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned