पाक के तीन जवानों के सिर काट लाए थे हमारे सैनिक

पाक के तीन जवानों के सिर काट लाए थे हमारे सैनिक
delhi news

Shankar Sharma | Publish: Oct, 09 2016 11:26:00 PM (IST) New Delhi, Delhi, India

भारतीय सेना ने 2011 में एलओसी पारकर अपने छह जवानों की शहादत का बदला लिया था। 'ऑपरेशन जिंजर' नाम के इस ऑपरेशन में हमारी सेना ने पाक के आठ सैनिकों को ढेर किया था

नई दिल्ली. भारतीय सेना ने 2011 में एलओसी पारकर अपने छह जवानों की शहादत का बदला लिया था। 'ऑपरेशन जिंजर' नाम के इस ऑपरेशन में हमारी सेना ने पाक के आठ सैनिकों को ढेर किया था।

इस ऑपरेशन में हमारे जवान पाक के तीन सैनिकों के सिर भी  काट लाए थे। यह दावा किया है कि अंग्रेजी अखबार 'द हिंदू' ने। अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय सेना ने इस ऑपेरशन के लिए पाक की तीन पोस्ट को चुना था। हाल में हुुई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से ही कांग्रेस दावे कर रही है कि यूपीए के कार्यकाल में भी ऐसी कई सर्जिकल स्ट्राइक की थी। अखबार ने इस ऑपरेशन के आधिकारिक दस्तावेजों, वीडियो और फोटोग्राफ को हासिल करने का दावा किया है।    

इसमें कहा गया है कि ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाने, सर्जिकल स्ट्राइक और निगरानी के लिए अलग-अलग टीमें बनाई गई थीं। अखबार के अनुसार, 30 जुलाई, 2011 को कुपवाड़ा की गूगलधर चोटी पर स्थित भारतीय सेना की चौकी पर पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) ने हमला किया था। हमले में 5 भारतीय जवान मौके पर शहीद हो गए थे। बीएटी दो भारतीय जवान हवलदार जयपाल सिंह अधिकारी और लांस नायक देवेंंद्र सिंह के सिर काटकर ले गई थी। इसकी जानकारी 19 राजपूत बटालियन के जख्मी जवान ने दी थी। यह जवान भी हॉस्पिटल में शहीद हो गया था।


25 पैरा कमांडो ने दिया अंजाम
इस कार्रवाई को 25 पैरा कमांडो ने अंजाम दिया था। ये लोग उनके लॉन्च पैड पर सुबह 29 अगस्त को 3 बजे पहुंच गए थे और दूसरे दिन 30 अगस्त सुबह तक रहे। यहां इन्होंने बारूदी सुरंगे बिछाईं और 30 अगस्त को सुबह 7 बजे तक इंतजार किया। बारूदी सुरंगों के धमाके में चार पाक जवान जख्मी हो गए। भारतीय कमांडो ने तीन जवानों के सिर काट लिए, जबकि एक पाक जवान भागने में सफल रहा। यह ऑपरेशन करीब 45 मिनट चला। ऑपरेशन को अंजाम देने के बाद सेना की पहली टुकड़ी सुबह 7.45 तक लौट आई। इसके बाद दूसरी टीम दोपहर 12 बजे और तीसरी टुकड़ी 2.30 बजे तक लौटी। इस हमले में कुल 8 पाक जवान मारे गए थे, जबकि दो या तीन गंभीर रूप से जख्मी हुए।

ईद से एक दिन पहले हुआ ऑपरेशन
अखबार ने एक सैन्य अफसर के हवाले से कहा है कि इसके लिए 30 अगस्त मंगलवार का दिन चुना था, क्योंकि इस दिन को हमने हमेशा जीत हासिल की थी। यह ऑपरेशन ईद से एक दिन पहले किया था।

जवाब में बनाई गई रणनीति...
अखबार के मुताबिक, कुपवाड़ा बेस 28 डिवीजन के चीफ रहे रिटायर्ड मेजर जनरल एसके चक्रवर्ती ने भारत की सर्जिकल स्ट्राइक की योजना बनाई थी। खुद चक्रवर्ती ने कार्रवाई की पुष्टि की।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned