scriptWe will give up Roti for one time, but will be ready to give everythin | Agneepath: हम एक समय की रोटी छोड़ देंगे, लेकिन फौजियों को सबकुछ देने को तैयार रहेंगे-सचिन पायलट | Patrika News

Agneepath: हम एक समय की रोटी छोड़ देंगे, लेकिन फौजियों को सबकुछ देने को तैयार रहेंगे-सचिन पायलट

Exclusive Interview with Sachin Pilot: राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने कहा कि सेना के शौर्य को दुनिया मानती है, लेकिन देश के वर्तमान हालात में बिना किसी अध्ययन के इसमें अमूलचूल बदलाव ठीक नहीं है। खुद फौजी परिवार से होने व टेरीटोरियल आर्मी (Army) के केप्टन (Captain) होने के नाते पायलट कहते हैं कि हम एक समय की रोटी छोड़ देंगे, लेकिन फौजियों को सबकुछ देने को तैयार रहेंगे। वह कहते हैं कि अग्निपथ सेना भर्ती योजना युवाओं के साथ देशहित में नहीं है। केन्द्र सरकार को इसे भी कृषि कानूनों की तरह वापस लेना पड़ेगा। पायलट ने यह बातें ‘पत्रिका’ के शादाब अहमद (Shadab Ahmed) से विशेष बातचीत में कहीं। उनसे बातचीत के मुख्य अंश

नई दिल्ली

Updated: June 21, 2022 09:45:40 am

1: अग्निपथ सेना भर्ती योजना का विरोध क्यों?

पायलट: देश में जो हालात बने हैं, उससे रेकॉर्ड बेरोजगारी है। सरकार ने हर साल दो करोड़ नौकरी देने का वादा किया था। फïौज में पिछले दो साल से भर्ती हुई नहीं। जिन लड?ों ने सुबह जल्दी उठकर तैयारी की थी, उन्हें बड़ी उम्मीद थी। अब चार साल का फौजी बनने की योजना लाकर युवाओं के साथ अन्याय किया है। इसके साथ ही फौज नाम, नमक, निशान पर करती है। फौजी अपनी मिट्टी व साथी के लिए गोली खाता है। यह जज्बा दो साल की ट्रेनिंग से पैदा नहीं होता। यदि सरकार को इसे करना भी था तो पहले इसे पायलट प्रोजेक्ट की तरह दो-चार साल देखते हैं। दूरगामी प्रभाव देखते हैं। फिर जो कमियां होती उन्हें दूर कर इसे लागू करते। हम भी चाहते हैं फौज में सुधार होने चाहिए। यह भावनात्मक मुद्दा है।

2: भारत की सीमा पर उथल-पुथल के बीच इस तरह की योजना कारगर साबित होगी?

पायलट: देखिए, सेना के शौर्य, बलिदान और क्षमता का लोहा पूरी दुनिया मानती है। हमारी सबसे प्रोफेशनल फौज है। पाकिस्तान अस्थिर है और वहां कुछ भी हो सकता है। उसके पास परमाणु हथियार भी है। वहीं चीन हमारी सीमा के अंदर घुसे जा रहा है। हमारे सामने कश्मीर, चीन, पाकिस्तान सीमा, एलओसी जैसी चुनौतियां सामने खड़ी है। ऐसे समय में सेना में बिना किसी अध्ययन के अमूलचूल परिवर्तन कर छेड?ानी करना खतरनाक हो सकता है। यही वजह है कि रिटायर्ड कर्नल व जनरल इसे ठीक नहीं मान रहे हैं। साथ ही यह समय भी उचित नहीं है।

3: भाजपा नेता कांग्रेस पर राष्ट्रीय सुरक्षा मुद्दे पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगा रहे हैं?

पायलट: भाजपा वाले कांग्रेस पर सवाल खड़े करते हैं, लेकिन वह भूल जाते हैं कि इंदिरा गांधी ने ही 1 लाख पाकिस्तानी सैनिकों को बंदी बनाया था। मेरे पिता राजेश पायलट ने 1971 की लड़ाई लड़ी थी। मैं खुद एयरफोर्स स्कूल में पढ़ा और फौज से जुड़ा व्यक्ति हूं। कभी भी एक फीसदी कुछ कमी नहीं चाहूंगा। हम एक समय की रोटी छोड़ सकते हैं, लेकिन फौजियों को सबकुछ देने को तैयार रहेंगे। जबकि भाजपा नेताओं की मानसिकता का पता कैलाश विजयवर्गीय के बयान से लग रहा है। रेगिस्तान, बर्फ और जंगलों में हमारे लिए खड़े होने वाले सैनिकों को भाजपा दफ्तर का गार्ड बनाना चाहते हैं। जबकि एक मंत्री सैनिकों को नाई, टेलर जैसे प्रशिक्षण की बात कर रहे हैं। यह फौज के मानसम्मान को धक्का पहुंचा रहे हैं।


sachin_army.jpg
4: आखिर किस तरह लागू होनी चाहिए थी योजना?

पायलट: फौज में करीब 1.10 लाख पद खाली पड़े हुए हैं। इसके बावजूद सरकार ऐसी योजना लेकर आई, जिसकी चर्चा संसद, संसदीय कमेटी में नहीं हुई। यहां तक कि हितधारकों से कोई संवाद नहीं किया गया। मनमाने तरीके से सारी भर्ती बंद कर एक प्रक्रिया को लागू कर दिया। नोटबंदी और जीएसटी की तरह इसमें भी बार-बार संशोधन करने पड़े रहे हैं। सरकार का यह राजनीतिक फैसला था और इसके बचाव में सेना के अधिकारियों को उतार दिया।

5:
सरकार ने साफ मना कर दिया है कि वह इस योजना को वापस नहीं लेगी, फिर आप क्या करेंगे?

पायलट: सरकार चलाने वालों को घमंड हो गया है कि वोट हमारे पास है। जो मर्जी हो निर्णय ले लें। महंगाई कितनी हो जाए, लेकिन भावनात्मक मुद्दों को उठाकर ध्रुवीकरण से लोग वोट देंगे। यह देशहित में नहीं है। सरकार के मंत्री अहंकार में बोलते हुए नौकरी देने को अहसान बता रहे हैं। सरकार और मंत्री, सांसद, विधायक अपने वेतन-भत्ते खुद तय करते हैं। जबकि जो युवा धरती मां के लिए मरने को तैयार है, उसका वेतन और रिटायरमेंट की आयु भी हम तय करेंगे। यह युवाओं के हक मारने जैसा है। जनरल वीके सिंह अपनी सेवा बढ़ाने के लिए कोर्ट तक चले गए थे। पहले भी भाजपा नेता गांव-गांव जाकर कृषि कानून के फायदे गिनाते थे। माफी मांगकर एक झटके में वापस ले लिया। अब अग्निपथ को लेकर भी ऐसा किया जा रहा है। इस सरकार की नीति ही आक्रमण करने की रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

NSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडोरोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियागुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानलालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाBJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलMaharashtra Monsoon Session: व्हिप को लेकर आमने-सामने हुए शिंदे गुट और ठाकरे खेमा, महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष का जमकर हंगामा'अपने पहले मैच में 4 रन बनाकर आउट हो गए थे सचिन तेंदुलकर' 35 साल बाद उसी मैदान पर पहुंच भावुक हुए मास्टर ब्लास्टरIPL फ्रेंचाइजी टीम कोलकाता नाइट राइडर्स को चंद्रकांत पंडित के रूप में मिला नया हेड कोच, ब्रैंडन मैक्कुलम की लेंगे जगह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.