Cyclone Yaas को लेकर पश्चिम बंगाल की तैयारियां पूरी, ममता बनर्जी ने की समीक्षा

पश्चिम बंगाल सरकार चक्रवाती तूफान यास से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर चुकी है।

By: Mohit sharma

Updated: 23 May 2021, 08:48 PM IST

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल सरकार चक्रवाती तूफान यास से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर चुकी है। माना जा रहा है कि 26 मई की सुबह यास बंगाल और ओडिशा तट पर दस्तक देगा। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को एक हाई लेवल मीटिंग को संबोधित किया। मीटिंग में सभी संबंधित विभागों को चौबीसों घंटे काम करने और तूफान के संभावित रास्ते से लोगों को निकालने को कहा है। राज्य की ममता सरकार ने पूरी स्थिति पर नजर रखने के लिए एक नियंत्रण कक्ष भी स्थापित किया है।

आपदा प्रबंधन की तैयारियों की व्यापक समीक्षा की

मीटिंग में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि उन्होंने डीएम और एसपी के साथ संबंधित केंद्रीय और राज्य एजेंसियों के सभी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आसन्न यस चक्रवात के संबंध में आपदा प्रबंधन की तैयारियों की व्यापक समीक्षा की है। सभी अधिकारियों को तटीय और नदी क्षेत्रों से एकीकृत कमान, अग्रिम योजना और शीघ्र निकासी की सलाह दी गई है चक्रवात और बाढ़ आश्रयों सहित आश्रयों को बचाने और जल्द से जल्द राहत और पुनर्वास अभियान चलाने के लिए कहा गया है।

Lunar eclipse 2021: 26 मई को खूनी लाल रंग का दिखाई देगा चांद, जानिए क्या हैं 'Red Blood Supermoon' के मायने

मछुआरों को तुरंत लौटने के लिए सतर्क कर दिया गया

उन्होंने कहा कि मछुआरों को तुरंत लौटने के लिए सतर्क कर दिया गया है। 24 इंटू 7 नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं (फोन नंबर 1070 और 033 22143526)। सभी एजेंसियों को कार्रवाई में शामिल होने के लिए कहा गया है। राहत सामग्री भेज दी गई है और त्वरित प्रतिक्रिया दल जुटाए गए हैं। सभी से सतर्क रहने का अनुरोध किया गया है। पिछले साल, अम्फान चक्रवात के दौरान, बिजली सबसे बुरी तरह प्रभावित हुई थी और सामान्य स्थिति बहाल करने में 10 दिनों से अधिक का समय लगा था। अतीत से सबक लेते हुए, राज्य बिजली विभाग विशेष रूप से अस्पतालों और सुरक्षित घरों में निर्बाध बिजली आपूर्ति के लिए हर संभव व्यवस्था कर रहा है, जहां बड़ी संख्या में कोरोना रोगी मौजूद हैं।

बिजली मंत्री अरूप विश्वास ने कहा '' हमें मौसम कार्यालय से अलर्ट मिला है। मुख्य सचिव ने शुक्रवार को एक बैठक की, जिसके बाद हमारे विभाग में एक बैठक हुई। हमने आज कुछ निर्णय लिए हैं। पिछली बार के अनुभव से सीखते हुए हम एक व्यापक योजना लेकर आए हैं। सूक्ष्म स्तर पर समय दिया जाए ताकि तत्काल मरम्मत और बहाली कार्य सुनिश्चित किया जा सके।''

Mucormycosis: ब्लैक फंगस के बढ़ते केसों को लेकर चिंतित सोनिया गांधी, PM को पत्र में लिखी यह बात

उच्च जोखिम वाले छह जिलों की पहचान की गई

चक्रवात से तबाही के उच्च जोखिम वाले छह जिलों की पहचान की गई है, इनमें उत्तर और दक्षिण 24 परगना, हावड़ा, हुगली और पूर्व और पश्चिम मिदनापुर शमिल हैं। इन जिलों के प्रत्येक ब्लॉक में तीन हाई टेंशन और तीन लो टेंशन गैंग होंगे जो तत्काल बहाली का काम करेंगे। विधाननगर के लिए भी यही किया जाएगा। हर गैंग में छह से सात बिजली कर्मचारी होंगे। गैंग 25 मई को दोपहर 1 बजे तक बीडीओ को रिपोर्ट करेगा। कोलकाता में हर केएमसी वार्ड के लिए सामग्री के साथ दो गैंग तैनात किए जाएंगे। विश्वास ने रविवार को सीईएससी के साथ बैठक कर तैयारियों का जायजा लिया।

नियंत्रण कक्ष के संपर्क नंबर 8900793503 और 8900793504 हैं

बिजली विभाग में एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जो 25 मई से 24 घंटे कार्य करेगा। नियंत्रण कक्ष के संपर्क नंबर 8900793503 और 8900793504 हैं। मंत्री अतिरिक्त मुख्य सचिव, राज्य बिजली वितरण निगम के एमडी और मुख्य अभियंता वितरण के साथ होंगे। स्थिति की बारीकी से निगरानी के लिए 25 और 26 मई को नियंत्रण कक्ष में मौजूद रहें। दक्षिण 24 परगना और पूर्वी मिदनापुर के जिला प्रशासन चक्रवाती तूफान यास से होने वाले नुकसान को कम करने के लिए हर संभव उपाय कर रहे हैं, जिसके 26 मई को पश्चिम बंगाल के पास बंगाल की उत्तरी खाड़ी और इससे सटे उत्तरी ओडिशा और बांग्लादेश तट तक पहुंचने की उम्मीद है।

कोरोना से निपटने के लिए आयुष मंत्रालय ने जारी किया हेल्‍पलाइन नंबर, ऐसे मिलेगी मदद

कुल 115 चक्रवात केंद्र और कई स्कूल भवनों को तैयार किया गया

जिला मजिस्ट्रेट (डीएम), दक्षिण 24 परगना, पी उलगनाथन ने एसडीओ कार्यालय, काकद्वीप में एक समन्वय बैठक की और जमीनी स्तर पर तैयारियों का जायजा लिया। इसमें नदी के करीब और समुद्र के करीब रहने वाले निवासियों के अस्थायी आवास के लिए विभिन्न चक्रवात केंद्रों की तैयारी शामिल है। सैनिटाइजेशन के बाद कुल 115 चक्रवात केंद्र और कई स्कूल भवनों को तैयार किया गया है। तटबंधों की मरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है और सूखा भोजन, पानी आदि राहत सामग्री मंगवाई गई है।

हल्दिया डॉक कॉम्प्लेक्स में नियंत्रण कक्षों ने संचालन शुरू

इस बीच, श्यामा प्रसाद मुखर्जी पोर्ट, कोलकाता (एसएमपी) ने भी आसन्न चक्रवात के मद्देनजर मानव जीवन, जहाजों, संपत्ति आदि के नुकसान से बचने के उपाय किए हैं। कोलकाता डॉक सिस्टम और हल्दिया डॉक कॉम्प्लेक्स में नियंत्रण कक्षों ने संचालन शुरू कर दिया है। एसएमपी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि चक्रवात की शुरूआत से पहले, सभी बंदरगाह जहाजों को आश्रय के लिए शेलटर के अंदर ले जाया जाएगा। किसी भी जहाज को नदी के लंगर या घाटों में नहीं रखा जाएगा।

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned