scriptअपनों की दगाबाजी और संगठनात्मक कमजोरी रही हार की बड़ी वजह | Patrika News
समाचार

अपनों की दगाबाजी और संगठनात्मक कमजोरी रही हार की बड़ी वजह

लोकसभा चुनाव में 11 सीटों पर हार के कारण खोजने के लिए प्रदेश भाजपा मुख्यालय में दो दिन से चल रही संगठनात्मक बैठक में आपसी कलह सबसे ज्यादा सामने आई है। हार के कारण भी गिनाए। दूसरे दिन रविवार को हुई बैठक में प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी, चुनाव प्रभारी विनय सहस्त्र बुद्धे, राष्ट्रीय संगठक वी सतीश और सहप्रभारी विजया राहटकर ने भरतपुर, करौली-धौलपुर, गंगानगर और डूंगरपुर-बांसवाड़ा लोकसभा सीटों का फीडबैक लिया। भरतपुर लोकसभा की बैठक में मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा भी मौजूद रहे।

जयपुरJun 17, 2024 / 06:50 pm

GAURAV JAIN

भाजपाः 11 लोकसभा सीटों पर हार को लेकर दूसरे दिन में चला मंथन

भरतपुर सीट पर मंथन में रही गरमा-गरमी

जयपुर. लोकसभा चुनाव में 11 सीटों पर हार के कारण खोजने के लिए प्रदेश भाजपा मुख्यालय में दो दिन से चल रही संगठनात्मक बैठक में आपसी कलह सबसे ज्यादा सामने आई है। हार के कारण भी गिनाए। दूसरे दिन रविवार को हुई बैठक में प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी, चुनाव प्रभारी विनय सहस्त्र बुद्धे, राष्ट्रीय संगठक वी सतीश और सहप्रभारी विजया राहटकर ने भरतपुर, करौली-धौलपुर, गंगानगर और डूंगरपुर-बांसवाड़ा लोकसभा सीटों का फीडबैक लिया। भरतपुर लोकसभा की बैठक में मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा भी मौजूद रहे।
सूत्रों के मुताबिक बैठक में कई नेताओं ने दर्द बयां कर कहा कि हार में अपने लोग भी बड़ा कारण रहे। इन नेताओं का फीडबैक भी पहले ही दे दिया गया, लेकिन कुछ नहीं हुआ। इन नेताओं ने अंदरखाने साथ रहने का नाटक किया, लेकिन उनके समर्थकों ने पार्टी को हरवाने में दिन-रात एक कर दिया।
बैठक में सामने आया कि कांग्रेस ने जिस तरह एससी-एसटी आरक्षण खत्म होने का प्रचार किया। उसका समय पर जवाब नहीं दे सके। इससे एससी-एसटी वोट का काफी नुकसान हुआ। इसके अलावा ओवर कॉन्फिडेंस भी हार का बड़ा कारण रहा। इसी प्रकार संगठन के जिन नेताओं के पास बड़े पद थे, वे भी वोट नहीं दिला सके।
पदाधिकारी हुए आमने-सामने…

भरतपुर लोकसभा की बैठक में क्षेत्रीय पदाधिकारी ही आमने-सामने हो गए। वहीं प्रत्याशी ने कहा कि चुनाव में सामुहिक प्रयास नहीं हो सके। लोकसभा प्रभारी व संभाग सह प्रभारी के बीच सामंजस्य नहीं रहा। टिकट मिलने के बाद 22 मंडल अध्यक्षों को बदला गया। आखिर टिकट मिलने के बाद बदलने की क्या वजह थी। इसी तरह टिकट मिलने के 24 दिन बाद लोकसभा प्रभारी को लगाया गया। इससे संगठनात्मक काम भी नहीं हो सके। बाद में मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने सभी से कहा कि आगे से मिलकर काम करना है। आगे भी निकाय व अन्य चुनाव हैं।
अभी कई चुनौतियां…

बैठक के बाद प्रदेश चुनाव प्रभारी विनय सहस्त्र बुद्धे ने मीडिया से कहा कि पार्टी की रीति और पद्धति के अनुसार मंथन किया गया है। हार की जिम्मेदारी के सवाल को वे टाल गए। कहा कि आने वाले समय में पार्टी के सामने कई चुनौतियां हैं। उप चुनाव में तैयारी को लेकर भी चर्चा हुई है।
मंथन का संगठन और राजनीतिक नियुक्तियों में दिखेगा असर

बताया जा रहा कि मंथन में आए फीडबैक के आधार पर कई बड़े नेताओं के नंबर घटेंगे-बढ़ेंगे। उसी आधार पर आगामी दिनों में संगठन और राजनीतिक नियुक्तियों में असर देखने को मिलेगा। जो नेता चुनाव में पूरी तरह नहीं लगे, उनका कद कम हो सकता है। वहीं जिन्होंने पूरी तरह चुनाव में मेहनत की, उन्हें पदोन्नति मिल सकती है।

Hindi News/ News Bulletin / अपनों की दगाबाजी और संगठनात्मक कमजोरी रही हार की बड़ी वजह

ट्रेंडिंग वीडियो