scriptनगर निगम में नामांतरण के नाम पर 30 हजार रुपए की घूस , महापौर के घर भेजी जा रहीं फाइलें | Patrika News
समाचार

नगर निगम में नामांतरण के नाम पर 30 हजार रुपए की घूस , महापौर के घर भेजी जा रहीं फाइलें

जनसुनवाई में महिला पार्षद ने आवेदन देकर कहा, जनता ने मुझे चुना है अधिकारी हमारी बात नहीं सुन रहे

खंडवाJul 03, 2024 / 12:42 pm

Rajesh Patel

जनसुनवाई में महिला पार्षद ने आवेदन देकर कहा, जनता ने मुझे चुना है अधिकारी हमारी बात नहीं सुन रहे

कलेक्टर ने जांच का दिया आश्वासन

जनसुनवाई में मंगलवार को आवेदकों की लंबी कतार लगी। दोपहर ढाई बजे तक कलेक्टर समस्याएं सुनते रहे। इस बार भी जनसुनवाई में नगर निगम का मुद्दा छाया रहा। नगर निगम में नामांतरण के नाम पर 30 से 40 हजार रुपए घूस ली जा रही है। और फाइलें महापौर के घर भेजी जा रही हैं। जनसुनवाई में इस तरह की आवाज गूंजती रही। कलेक्टर ने जांच कराने का आश्वासन देते हुए कार्यालय में चर्चा के लिए बुलाया।
किस नियम के तहत महापौर के घर भेजी जा रही फाइलें

नेता प्रतिपक्ष दीपक राठौर ने कलेक्टर से कहा कि नगर निगम की फाइलें किस नियम के तहत महापौर के घर भेजी जा रही हैं। महिला पार्षद प्रतिभा मनोज कसेरा ने कलेक्टर को आवेदनों का पुलिंदा देकर कहा कि जनता ने मुझे चुना है। अधिकारी न तो जनता का कार्य कर रहे हैं और न ही मेरी बात सुनी जा रही है। आखिर जाएं तो जाएं कहां। साथ में मौजूद बुजुर्ग चंद्र कुमार वर्मा चंदू सेठ ने कलेक्टर से कहा कि साहब सबकुछ ठीक नहीं चल रहा। नगर निगम में नामांतरण के नाम पर तीस हजार रुपए लिया जा रहा है। कर्मचारी जनता से पैसे वसूली कर रहे हैं। दो साल से नाली तक साफ नहीं हुई।
बैठक नहीं हो रही, महापौर के घर में चला रहा कार्यालय

जनसुनवाई में नगर निगम नेता प्रतिपक्ष दीपक राठौर मुल्लू ने कलेक्टर से कहा कि नगर निगम में साधारण सभा की बैठक नहीं हो रही। यहां तक आना पड़ रहा है। फाइलें महापौर के घर भेजी जा रही हैं। कलेक्टर से कहा कि किस नियम के तहत फाइलें जा रही हैं। शहर की जनता परेशान है। पार्षदों को जनसुनवाई में आना पड़ रहा है। 24 अगस्त 2023 के बाद साधारण सभा की बैठक नहीं हुई। एक साल होने को है। पहली बैठक में 290 करोड़ बजट को मंजूरी मिली थी। अमल नहीं हो रहा है। जनता पर सीधे असर पड़ रहा है। कलेक्टर ने नेता प्रतिपक्ष से कहा कि इस संबंध में कार्यालय में चर्चा करेंगे।
पार्षद ने कलेक्टर को दिए ये आवेदन

वार्ड क्रमांक 18 में छह माह पूर्व नाली पर स्लैब डाया गया, कुछ दिनों में ही उखड़ गया। कितने दिन की गारंटी थी, जवाब नहीं दिया जा रहा। जलकर के संबंध में खाली प्लाटों पर टैक्स लगाकर जनता से संपत्ति कर वसूल किया जा रहा है। प्लाट नामांतरण की जानकारी नहीं दी जा रही है। नल कनेक्शन नहीं है, जानकारी मांगने पर नहीं देते। घंटाघर चौक में आधुनिक टॉप कंडीशन का पेशाब घर नहीं है। इससे महिलाएं परेशान होती हैं। अच्छी सड़कों को बनाई जा रही है। खराब सड़कों की ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। बेसमेंट में दुकानें, मार्गों पर ठेलो का कब्जा है। आदि शिकायतें लंबित हैं।

Hindi News/ News Bulletin / नगर निगम में नामांतरण के नाम पर 30 हजार रुपए की घूस , महापौर के घर भेजी जा रहीं फाइलें

ट्रेंडिंग वीडियो