सुबह साढ़े नौ बजे से अस्पताल में भटकता रहा बालक का दादा, बहता रहा बच्चे का खून

Rakesh Kumar Goutam

Publish: May, 08 2019 10:43:41 PM (IST)

ख़बरें सुनें

चूरू.
मेडिकल कॉलेज से जुड़े राजकीय डेडराज भरतिया अस्पताल में मंगलवार को डाक्टरों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। सरदारशहर से आए एक मरीज के परिजन को सुबह साढ़े नौ बजे से लेकर करीब दो बजे तक अस्पताल में इधर-उधर भटकना पड़ा। इस दौरान बच्चे के गुप्तांग से काफी खून बह गया।

 

बच्चे की हालत गंभीर होती जा रही थी। दादा उसे इधर-उधर लेकर भटक रहा था। दोपहर करीब 1.55 बजे उसे आपाताकालीन कक्ष में ले जाकर भर्ती कराया। लेकिन डेढ़ घंटे तक कोई सर्जन नहीं आया और उसका खून बहता रहा। जानकारी के मुताबिक सरदारशहर निवासी पीडि़त बालक अयान (पांच) के दादा ने बताया कि पांच मई को धार्मिक रीति-रिवाज के तहत ***** करवाया गया था। लेकिन बालक की ब्लीडिंग नहीं रुकी। इसके बाद उसे सरदारशहर में दिखाया तो उसे चूरू रैफर कर दिया यहां। डीबीएच में बच्चों के डॉक्टर को दिखाया तो उन्होंने भर्ती कर दिया।

 

छह मई को छुट्टी दे दी। मंगलवार सुबह बच्चे को फिर दिखाने आया तो 20 नंबर कक्ष में बैठे डाक्टर ने पट्टी खोली तो खून बहने लगा। इस पर डाक्टर किसी बड़े डाक्टर को बुलाने की बात कहकर चला गया। कुछ देर बाद एक कम्पाउंडर को लेकर आए और पट्टी करवा दी, बताया कि कुछ देर बाद सही हो जाएगा। वह अपने रिश्तेदार के यहां लेकर चला गया लेकिन खून बंद नहीं हुआ। दोपहर करीब दो बजे उसे आपातकालीन कक्ष में लेकर आए।

 

ड्यूटी डाक्टर ने प्राथमिक उपचार कर उसे भर्ती कर दिया। उन्होंने सर्जन डाक्टरों को बुलाने के लिए फोन किया लेकिन सर्जन के आने में काफी देर हो गई। लेकिन उसके खून बंद नहीं हो रहा था। डेढ़ घंटे तक कोई सर्जन नहीं आया। करीब डेढ़ घंटे बात डा. मनीराम डूडी आए और उन्होंने मरीज को संभाला और ऑपरेट किया। तब तक बच्चे के शरीर से काफी खून बह गया था। बच्चे की पेशाब भी बंद हो गई थी।

 

जिम्मेदारों को नहीं पता कौन सर्जन ऑनकाल ड्यूटी पर

वहीं पत्रिका ने जब इस मामले में पड़ताल की तो पता चला कि जिम्मेदारों को यह भी नहीं पता की कौन सर्जन ऑनकाल ड्यूटी पर है। कोई बता रहा था डा. जेपी चौधरी की ऑनकॉल ड्यूटी है तो कोई कह डा. मनीराम डूडी की डयूटी बता रहा था। इस संबंध में उप नियंत्रक डा. जेपी महायच से बात की गई तो उन्होंने बताया कि डा. जेपी चौधरी की ड्यूटी होनी चाहिए।

 

लेकिन डा. जेपी चौधरी पहले से ही बुधवार तक के लिए अवकाश पर हैं, जिसकी उन्होंने आवेदन दे रखा है। डा. महायच ने बताया कि सुबह डा. संदीप को ऑनकाल ड्यूटी व सीएम विजिट ड्यूटी के लिए कहा गया तो उन्होंने मना कर दिया। इसके बाद डा. मुकुल धाभाई को सालासर सीएम विजिट की ड्यूटी में भेज दिया गया। मुख्यालय पर कोई सर्जन डाक्टर नहीं था, इसके कारण डा. मनीराम डूडी जो कहीं जा रहा थे उन्हे बुलावाया गया। लेकिन अस्पताल प्रशासन खुद का आदेश नहीं मानने वाले चिकित्सकों पर भी कार्रवाई नहीं कर रहा। इस कारण अस्पताल की व्यवस्था गड़बड़ा रही है।

 

''मामले की सूचना मिलने पर सर्जनों का फोन कर पता किया गया। डा. मनीराम डूडी को बुलाकर बच्चे का उपचार करवाया गया। बच्चे के तीन टांके लगे हैं बच्चे को भर्ती कर दिया गया है।''
डा. एफए गौरी, कार्यवाहक अधीक्षक, डीबीएच, चूरू

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned