scriptDue to the breakdown of heavy vehicles on the ghat, there is a jam of | घाट पर भारी वाहन खराब होने से लगता 6 से 8 घंटे का जाम | Patrika News

घाट पर भारी वाहन खराब होने से लगता 6 से 8 घंटे का जाम

२०१७-१८ में बंद हो गया था टोल प्लाजा, ३० से अधिक बार हुआ पेंचवर्क

Published: June 01, 2022 12:07:01 am

डॉ. आंबेडकर नगर (महू). खस्ता हाल हो चुके इंदौर-खण्डवा-इच्छापुर रोड पर टोल बंद होने से भारी वाहनों का यातायात दबाव इतना बढ़ गया है कि एक वाहन भी खराब हो जाए तो कई किमी का जाम लग जाता है। जबकि इस फोरलेन में इंदौर-बड़वाह के बीच 24 घंटे लोकल यातायात दबाव बना रहता है। हालांकि अब इस फोर लेन को नए सिरे से बनाने का काम शुरू हो चुका है, लेकिन फिलहाल दो सालों तक जाम की समस्या से निजात पाना मुश्किल है। टोल फ्री होने से सबसे ज्यादा नार्थ-साउथ का यातायात दबाव यहां बना रहता है। इसके साथ महाराष्ट्र की ओर से आने जाने वाले वाहन भी एबी रोड की जगह इसी मार्ग से गुजरते हैं। करीब चार साल पहले 2017-18 में इंदौर-इच्छापुर रोड पर टोल खत्म कर दिया गया था। इसके बाद से नार्थ-साउथ और महाराष्ट्र की ओर आने-जाने वाले भारी वाहन इसी मार्ग से गुजर रहे हंै। एक बार में यहां से गुजरने पर वाहन चालकों को 1200 से 1500 रुपए तक का टोल बच जाता है। ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के विजय कालरा ने बताया कि इंदौर-इच्छापुर मार्ग पर हर 8 हजार से अधिक भारी वाहनों की आवाजाही होती है, जो टोल होने पर करीब 1500 था। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है यहां कितना यातायात दबाव है। वहीं इंदौर से सनावद की ओर 140 से अधिक रूट परमिट और 60 से अधिक बसे ऑन इंडिया परमिट पर चल रही हैं। वहीं हजारों की संख्या में छोटे निजी व कमर्शियल वाहन गुजरते हैं।
आए दिन लगता है जाम
इंदौर-बलवाड़ा के बीच में आए दिन जाम लगता है। दरअसल, बाइग्राम घाट और भेरूघाट पर भारी वाहन खराब हो जाते हंै। टू लेन सडक़ होने से वाहन क्रॉस होने में दिक्कत होती है। जिसके चलते चंद मिनट में ही यहां जाम लगना शुरू हो जाता है। कई बार जाम खुलने में 6 से 8 घंटे का समय लग जाता है। इस दौरान यात्री बसे, एंबुलेंस, निजी वाहन फंस जाते हंै। जाम से वाहन हटाने के लिए यहां क्रैन भी नहीं पहुंच पाती है।
फोरलेन सडक़ बनना है
ंइंदौर-इच्छापुर फोर लेन सडक़ को अलग-अलग चरण में पूरा किया जाना है। जिसके कुछ हिस्सों में काम शुरू हो गया है। 1163 करोड़ रुपए के इस प्रोजेक्ट में इंदौर के तेजाजीनगर से बलवाड़ा के बीच 29 मई को भूमिपूजन होना था। लेकिन आचार संहिता लगने से कार्यक्रम आगे टाल दिया गया है। बता दे कि इस हिस्से में भी जाम की सबसे ज्यादा दिक्कत होती है। इसलिए यहां घाट सेक्शन को सीधा किया जाएगा। इसके साथ चार बायपास भी बनाए जाएंगे। सिमरोल में 3.80 किमी, भेरूघाट में 4 किमी, बाईग्राम व चोरल के बीच 7 किमी और बलवाड़ा के पास 4.40 किमी के बायपास बनेंगे। घाट होने के कारण 50 किमी के इस हिस्से को पार करने में वर्तमान में 2 घंटे का समय लगता है। फोरलेन बनने पर 40 मिनट का समय बचेगा। फोरलेन बनने से बाइग्राम घाट और भेरूघाट सेक्शन से राहत मिलेगी। वर्तमान में इंदौर से सनावद जाने में ढाई से तीन घंटे लगते हैं। फोरलेन बनने से इसमें काफी कम समय लगेगा। वहीं सिमरोल, चोरल, बलवाड़ा, बड़वाह में बायपास बनने से वाहन चालकों को फायदा मिलेगा।
घाट पर भारी वाहन खराब होने से लगता 6 से 8 घंटे का जाम
घाट पर भारी वाहन खराब होने से लगता 6 से 8 घंटे का जाम

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

PM Modi In Telangana: 6 महीने में तीसरी बार तेलंगाना के CM केसीआर एयरपोर्ट पर PM मोदी को नहीं किया रिसीवMaharashtra Politics: संजय राउत का बड़ा दावा, कहा-मुझे भी गुवाहाटी जाने का प्रस्ताव मिला था; बताया क्यों नहीं गएक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाउदयपुर हत्याकांड के दरिदों को लेकर आई चौंकाने वाली खबरपाकिस्तान में चुनावी पोस्टर में दिख रहीं सिद्धू मूसेवाला की तस्वीरें, जानिए क्या है पूरा मामला500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोटनूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट लिखने पर अमरावती में दुकान मालिक की हुई हत्या!
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.