scriptअच्छी नींद लेना अकेलापन दूर करने के लिए ज्यादा कारगर | Patrika News
समाचार

अच्छी नींद लेना अकेलापन दूर करने के लिए ज्यादा कारगर

शोध में सलाह, देर रात जागने के बजाय समय पर सोएं युवा

नई दिल्लीJun 21, 2024 / 12:44 am

ANUJ SHARMA

वॉशिंगटन. अकेलापन दुनियाभर में बड़ी स्वास्थ्य चिंता बनकर उभर रहा है। इसको लेकर चिंता इसलिए भी ज्यादा है, क्योंकि इसका कोई इलाज निर्धारित नहीं है, जैसा दूसरी बीमारियों का होता है। विशेषज्ञ इस समस्या के समाधान के उपाय तलाशने में जुटे हैं। अमरीकी विशेषज्ञों के नए शोध में बताया गया कि नींद और अकेलेपन के बीच गहरा संबंध है। बेहतर नींद लेना अकेलेपन को कम करने का प्रभावी तरीका हो सकता है। युवाओं में यह विशेष रूप से ज्यादा कारगर पाया गया।अमरीका के नेशनल स्लीप फाउंडेशन के विशेषज्ञों ने शोध के दौरान 2,300 से ज्यादा युवाओं को सर्वेक्षण में शामिल किया। इनकी औसत उम्र 44 साल थी और आधे से ज्यादा पुरुष थे। सर्वे में ऑनलाइन नींद स्वास्थ्य प्रश्नावली और डीजॉन्ग गियरवेल्ड लोनलीनेस स्केल का इस्तेमाल किया गया। पाया गया कि अकेलेपन के शिकार युवाओं को स्वस्थ नींद से ज्यादा लाभ हुआ। शोध के निष्कर्ष एसोसिएटेड प्रोफेशनल स्लीप सोसाइटीज की बैठक में पेश किए गए।
संपर्कों की कमी से भी सेहत को खतरा

यह शोध अमरीकी सर्जन जनरल विवेक मूर्ति की 2023 की रिपोर्ट का समर्थन करता है, जिसमें अकेलेपन, सामाजिक अलगाव और संपर्कों की कमी को भी सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरा बताया गया था। शोधकर्ताओं का कहना है कि स्लीप हाइजीन में सुधार की दिशा में विशेषज्ञों को गंभीरता से चिंतन करना चाहिए, ताकि अकेलेपन से निपटने के लिए प्रभावी रणनीति विकसित की जा सके।
समझ बढ़ाने के लिए और शोध जरूरी

नेशनल स्लीप फाउंडेशन के उपाध्यक्ष और शोध के मुख्य लेखक जोसेफ डेजिएरजेव्स्की का कहना है कि युवाओं में अकेलेपन को समझने के लिए नींद की महत्त्वपूर्ण भूमिका है। युवा अगर देर रात काम या मोबाइल पर समय बिताने के बजाय समय पर सोने की आदत डालें तो अकेलेपन या अवसाद से बच सकते हैं। नींद और अकेलेपन के संबंध को पूरी तरह समझने के लिए और शोध की जरूरत है।

Hindi News/ News Bulletin / अच्छी नींद लेना अकेलापन दूर करने के लिए ज्यादा कारगर

ट्रेंडिंग वीडियो