scriptजिले में कौनसे नशे के कितने रोगी, जल्दी होगा सर्वे, नशे के खिलाफ जन जागरुकता को चलेगा अभियान | Patrika News
समाचार

जिले में कौनसे नशे के कितने रोगी, जल्दी होगा सर्वे, नशे के खिलाफ जन जागरुकता को चलेगा अभियान

जिला प्रशासन व पुलिस की भी रहेगी भूमिका, सख्ती व समझाइश से नशे पर अंकुश का होगा प्रयास, चिकित्सा विभाग ने शुरू किया प्रशिक्षण

हनुमानगढ़Jun 26, 2024 / 11:44 am

adrish khan

Public awareness campaign will be run against drugs, Hanumangarh district administration and police will play a role

Public awareness campaign will be run against drugs, Hanumangarh district administration and police will play a role

हनुमानगढ़. जिले में चिट्टे व मेडिकेटेड सहित अन्य नशों के बढऩे तथा नशा रोगियों की मौत की निरंतर सामने आ रही घटनाओं के चलते नशे पर प्रभावी अंकुश को लेकर जिले से लेकर राज्य स्तर तक मंथन किया रहा है। एक बार फिर राज्य सरकार के आदेश पर जिला तथा पुलिस प्रशासन अन्य सरकारी विभागों की मदद से नशे के खिलाफ अभियान शुरू कर रहा है।
इसमें जहां नशे के कारोबार में लिप्त लोगों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई का डंडा और तेजी से चलाएगी, वहीं नशा रोगियों को चिह्नित कर इससे दूर रहने का संदेश दिया जाएगा। साथ ही आमजन को जागरूक एवं प्रेरित कर नशे के तस्करी करने वालों के संबंध में जानकारी हासिल करने का प्रयास किया जाएगा। इस अभियान में जन जागरुकता का जिम्मा चिकित्सा विभाग के कर्मचारियों पर ही ज्यादा रहेगा। वे ना केवल जन जागरुकता का प्रयास करेंगे बल्कि नशा रोगियों के संबंध में सर्वे भी करेंगे। इससे यह पता चल सकेगा कि जिले में कौनसे नशे के कितने रोगी हैं। हालांकि यह संशय भी रहेगा कि परिवार के लोग बदनामी के डर से नशा रोगी के संबंध में जानकारी छिपा ले।

मास्टर ट्रेनर तैयार करने के लिए प्रशिक्षण

जिला कलक्टर कानाराम के निर्देशन में सोमवार को नशा मुक्ति अभियान के तहत जिला अस्पताल में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। सीएमएचओ डॉ. नवनीत शर्मा ने बताया कि एनटीसीपी के अंतर्गत जिला स्तरीय प्रशिक्षक तैयार करने के उद्देश्य से यह प्रशिक्षण कार्यक्रम हुआ। इसमें वरिष्ठ मनोरोग विशेषज्ञ एवं एनटीसीपी जिला नोडल अधिकारी डॉ. ओपी सोलंकी ने प्रशिक्षण दिया। कार्यशाला में डिप्टी सीएमएचओ डॉ. सुनील विद्यार्थी, एसीएमएचओ डॉ. ज्योति धींगड़ा, सहायक प्रशासनिक अधिकारी कुलदीप चौहान, जिले के समस्त मनोरोग विशेषज्ञ, एनसीडी काउंसलर, जिला तंबाकू नियंत्रण पर प्रकोष्ठ से अंजू बाला, त्रिलोकेश्वर शर्मा, जिला चिकित्सालय से मीनाक्षी, सुनील कुमार शर्मा आदि मौजूद रहे।

ब्लॉक से एक, आगे देंगे प्रशिक्षण

जिले के प्रत्येक ब्लॉक से एक-एक ट्रेनर, जिला मुख्यालय से चार ट्रेनर एवं एनसीडी काउंसलर आदि को मास्टर ट्रेनर के रूप में तैयार किया जा रहा है। जिला स्तरीय प्रशिक्षक इस प्रशिक्षण के बाद जिले में प्रत्येक चिकित्सा संस्थान के चिकित्सक, आशा एवं एएनएम तथा अन्य विभागों के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को नशे से बचाव के लिए प्रशिक्षण देेंगे।

घर-घर होगा नशे का सर्वे

डॉ. ओपी सोलंकी ने बताया कि नशा मुक्त हनुमानगढ़ कार्यक्रम के आगामी चरण में आशा व एएनएम घर-घर जाकर नशे से संबंधित सर्वे करेंगी। इसके बाद खंड स्तर पर लगने वाले राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत लगने वाले कैम्प में नशा रोगी को रेफर किया जाएगा। मरीजों की काउंसलिंग एवं उपचार किया जाएगा। आवश्यकता होने पर मरीज को भर्ती करने के लिए उसे जिला चिकित्सालय हनुमानगढ़ रेफर किया जाएगा।

रोगियों को किया जाएगा चिह्नित

नशा मुक्त हनुमानगढ़ कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षक तैयार किए जा रहे हैं। आशा, एएनएम आदि नशा रोगियों का सर्वे करेंगी। आवश्यक होने पर रोगियों को ब्लॉक स्तरीय कैम्प एवं जिला अस्पताल रेफर किया जाएगा। इसके अलावा अन्य विभागों के कर्मचारियों को भी प्रशिक्षण दिया जाएगा। – डॉ. नवनीत शर्मा, सीएमएचओ।

Hindi News/ News Bulletin / जिले में कौनसे नशे के कितने रोगी, जल्दी होगा सर्वे, नशे के खिलाफ जन जागरुकता को चलेगा अभियान

ट्रेंडिंग वीडियो