script42 स्कूलों में नए सत्र से मिलेगा आईटी एवं फूड प्रोसेसिंग का ज्ञान | 42 स्कूलों में नए सत्र से मिलेगा आईटी एवं फूड प्रोसेसिंग का ज्ञान | Patrika News
समाचार

42 स्कूलों में नए सत्र से मिलेगा आईटी एवं फूड प्रोसेसिंग का ज्ञान

42 स्कूलों में नए सत्र से मिलेगा आईटी एवं फूड प्रोसेसिंग का ज्ञान

झालावाड़May 30, 2024 / 09:15 pm

harisingh gurjar

-चार साल का मिलेगा प्रमाण- पत्र – अंकतालिका में जुड़ेंगे नंबर

एक्सक्लूसिव

हरिसिंह गुर्जर

सरकारी स्कूलों में शिक्षा के साथ व्यावसायिक शिक्षा के प्रति विद्यार्थियों का रुझान बढ़ा है। व्यावसायिक शिक्षा के माध्यम से छात्राएं ब्यूटी एवं वेलनेस तथा हेल्थ केयर जैसे कोर्स सीख रही हैं। वहीं कई विद्यार्थी आईटी, ऑटोमोबाइल, सिविल कंस्ट्रक्शन, एग्रीकल्चर सहित कई कोर्स सीख रहे हैं। स्कूल समय में ही रोजगारोन्मुखी कोर्स के प्रति ना केवल विद्यार्थियों बल्कि अभिभावकों का भी फोकस है। इसी वजह से सरकार ने भी जिले में इसबार 42 नए स्कूलों में व्यावसायिक शिक्षा शुरू की है। इन स्कूलों में नए सत्र से जुलाई से प्रवेश दिया जाएगा। अब जिले में कुल 86 स्कूलों में व्यावसायिक शिक्षा का अध्ययन करवाया जाएगा। जिले में इन ट्रेड में दिया जाएगा प्रवेश- जिले में जिन स्कूलों में नई ट्रेड शुरू की है उनमें बैंकिंग फाइनेंस, एग्रीकल्चर, टेलीकॉम, एप्रेल एंड मेडअप होम फर्निशिंग, प्लम्बर, ऑटोमोटिव, सिविल कंस्ट्रक्शन, इंर्फोमेशन, फुड प्रोसेसिंग आदि नई ट्रेड खोली गई है।
पढ़ाई के साथ मिल रहा हुनर-

सरकारी स्कूलों में पढऩे वाली अधिकांश छात्राएं मध्यम या इससे कम आय वर्ग वाले परिवारों की हैं। ऐसे में बिना कुछ खर्च किए पढ़ाई के साथ बालिकाएं ब्यूटी एवं वेलनेस का कोर्स सीख रही हैं। वहीं छात्र कोई ऑटोमोबाइल तो आईटी, रिटेल सहित अन्य कोर्स सीख रहे हैं। इससे बालिकाओं में ना केवल स्वास्थ्य के प्रति अवेयरनेस आ रही है बल्कि अपने परिवार में भी स्वास्थ्य शिक्षा के बारे में जानकारी दे रही है।
इन स्कूलों में नए सत्र से होगा प्रवेश-

ब्लाक स्कूल का नाम

खानपुर: राउमावि सूमर, महू बोरदा

झा.पाटन: राउमावि झूमकी, महात्मागांधी पाटन, डंूगरगांव, टांडी सोहनपुरा

मनोहरथाना: आंवलहेडा, कोलूखेडी कला, जावर, सेमलीहाट, कोलूखेडी मालियान,कामखेड़ा
सुनेल: पिड़ावा, मगीसपुर, हेमड़ा, माथनिया, खारपाकला, हिम्मतगढ़, सलोतिया डग: सुनारी, कूंडला, हरनावदा, टोडी, रोझाना, पिपलिया खुर्द किटिया

अकलेरा:सरड़ा, घाटोली, देवली

भवानीमंडी: पचपहाड़, करावन, मोगरा, आंकखेड़ी, रामनिवास-घटोद, बिस्तुनिया, आंवलीकला

ओपन यूनिवर्सिटी की तरह पांच स्कूल में होगा अध्ययन-
जिले में नए शिक्षा सत्र से पांच स्कूलों में ओपन यूनिवर्सिटी की तरह शिक्षा दी जाएगी। जहां कोई भी बच्चा जो ड्रॉप-आउट है, वो आकर अपने अपनी सुविधा के अनुसार अध्ययन कर सकेगा। जिले में ऐसे पांच स्कूल में सारोला कला में ब्यूटी एवं वेलनेस, रीछवा में ओटोमोटिव, सिंघानिया व माणकपुर-पिपलिया में एप्रेल, मेड अप होम फर्निशिंग ट्रेड खोली गई है, जहां 18 साल का कोई भी बच्चा अध्ययन कर सकता है।
यहां आ रही परेशानी-

जिले के 9 स्कूलों में हेल्थ केयर एवं फस्र्ट एड फिजोयोथैरपिस्ट की ट्रेड लेकिन उनमें कोई शिक्षक नहीं होने से इस कोर्स में छात्राएं ड्रिप लगाना, इंजेक्शन लगाना, प्राथमिक उपचार संबंधी सभी तरह का प्रशिक्षण नहीं ले पा रही है। ऐसे में जिले के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पगारिया, भालता, बकानी गल्र्स एवं ब्वाईज,ल्हास, कोटडी, चौमहला, मिश्रोली, भवानीमंडी आदि स्कूलों में वीटी (वोकेशनल ट्रेनर) के अभाव में अध्ययन नहीं हो पा रहा है। वहीं जिले में अन्य ट्रेड में अभी 13 शिक्षकों के पद खाली चल रहे हैं। इससे भी अध्ययन में समस्या आती है। इसका भी सरकार को समाधान करना चाहिए।
चार वर्षीय पाठ्यक्रम दिल्ली से मिलेंगे सर्टिफिकेट

व्यावसायिक शिक्षा के कक्षा नवमीं में प्रथम चरण,दसवीं में द्वितीय, ग्यारहवीं में तृतीय चरण तथा बारहवीं में चतुर्थ चरण के पाठ्यक्रम संचालित हैं। चारों चरणों के बाद दिल्ली से सर्टिफिकेट का प्रावधान है।ये सर्टिफकेट भविष्य में विद्यार्थियों के खासा काम आता है।
नई शिक्षा नीति में कॉलेज में भी शुरू होगी- व्यावसायिक शिक्षा प्रभारी रफत अनवर ने बताया कि नई शिक्षा नीति के अनुसार व्यावसियक शिक्षा अभी स्कूलों में दी जा रही है। ये अब कॉलेज स्तर पर भी शुरू की जाएगी। ऐसे में कोई भी बच्चा चार स्कूल में पढऩे के बाद उसे कॉलेज स्तर पर भी पढ़ेगा तो उसकी अच्छी पकड़ उस क्षेत्र में हो जाएगी। जो उसे भविष्य में काफी काम आएगी। बच्चों के लिए नई ट्रेड के अनुसार पुस्तकों की डिमांड भेज रखी है। 42- जिले में इस सत्र के लिए 42 नए स्कूलों में व्यावसायिक शिक्षा शुरू की जाएगी। इससे बच्चे हुनरमंद बनेंगे। वहीं कई बालिकाएं ब्यूटी एंड वेलनेस का कोर्स सीख रही है जो उन्हे घर बैठे रोजगार से जोड़ा।सरकार का अच्छा प्रयास है कि बच्चे पढ़ाई के साथ-साथ कुछ हुनर सीखे। सीताराम मीणा, एडीपीसी, समसा,झालावाड़।

Hindi News/ News Bulletin / 42 स्कूलों में नए सत्र से मिलेगा आईटी एवं फूड प्रोसेसिंग का ज्ञान

ट्रेंडिंग वीडियो