scriptअब दिव्यांगों को मेडिकल बोर्ड बैठने का नही करना होगा इंतिजार, ओपीडी में होगी जांच | Patrika News
समाचार

अब दिव्यांगों को मेडिकल बोर्ड बैठने का नही करना होगा इंतिजार, ओपीडी में होगी जांच

जिला अस्पताल में अब दिव्यांगों के लिए मेडिकल प्रमाण पत्र बनवाने की राह थोड़ी आसान कर दी गई है। नई गाइड लाइन के तहत मरीजों को बोर्ड बैठने का इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

दमोहMay 16, 2024 / 09:12 pm

आकाश तिवारी

-जिला अस्पताल में शुरू हुआ नई गाइड लाइन पर काम।
दमोह. जिला अस्पताल में अब दिव्यांगों के लिए मेडिकल प्रमाण पत्र बनवाने की राह थोड़ी आसान कर दी गई है। नई गाइड लाइन के तहत मरीजों को बोर्ड बैठने का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। मरीज संबंधित डॉक्टर के पास उनकी ओपीडी में जाकर उन्हें चेक करा सकते हैं और अपना प्रमाण पत्र बनवा सकते हैं। बता दें कि अभी तक दिव्यांग मरीजों के लिए मेडिकल बोर्ड बैठता था। इसका समय दोपहर २ बजे होता था, लेकिन अब व्यवस्था से मरीज ओपीडी टाइम में उनके पास जाकर अपनी जांच करा सकता है। खासबात यह है कि इस अप अमल शुरू हो गया है। जिला अस्पताल प्रबंधन ने पिछले मंगलवार को ही यह व्यवस्था लागू कर दी है। यहां पर तकरीबन ४० दिव्यांगों ने अपने-अपने प्रमाण पत्र संबंधित विभाग की ओपीडी में जाकर बनवाए हैं। जिला चिकित्सालय में दिव्यांगजन प्रमाणपत्र के लिए नई हितग्राही सुलभ व्यवस्था शुरू की गई है। जिसके अनुसार मरीज व परिजनों को 2-3 घण्टे के अंदर मरीज के हाथ मे उसका प्रमाणपत्र मिल जाएगा।
यह करना होगा मरीजों को
-जिला अस्पताल के सिविल सर्जन कार्यालय में सुबह 10 के पहले कार्यालय में उपस्थित होकर अपना कंप्यूटराइज्ड पंजीयन कराना होगा।
-पंजीयन अधिकतम दोपहर 12 बजे तक किया जाएगा।
-पंजीयन उपरांत हितग्राही, परिजन को इलाज के दस्तावेजों सहित विषय विशेषज्ञ चिकित्सक के ओपीडी कक्ष में जांच के लिए जाना होगा।
-जांच उपरांत सम्बंधित चिकित्सक प्रमाणपत्र जारी करेगा, जांच कर्ता चिकित्सा अधिकारी की सील कार्यालय से प्राप्त कर सकेगा।
यह होंगे जरूरत दस्तावेज
-आधार कार्ड की प्रतिलिपी
-समग्र आई डी की प्रतिलिपि
-०3 फोटो
-पुराना दिव्यांग प्रमाणपत्र

वर्शन
हमारे यहां पर यह व्यवस्था लागू कर दी गई है। नई व्यवस्था के तहत दिव्यांग अब संबंधित डॉक्टर के पास ओपीडी टाइम में जाकर अपनी जांच करा सकता है।
डॉ. राजेश नामदेव, सिविल सर्जन दमोह

झोलाछापों पर कार्रवाई, दो क्लीनिक सील और ८ के घरों पर चस्पा किए नोटिस

मडिय़ादो. गुरुवार दोपहर को स्वास्थ्य और राजस्व विभाग की टीम द्वारा मडिय़ादो में अवैध क्लीनिक और झोलाछाप के यहां दबिश देकर दो क्लीनिक सील किए गए। वहीं 8 झोलाछाप, जो घर से से क्लिनिक चला रहे थे। उनके घर सूचना चस्पा कर तीन दिवस में चिकित्सा से जुड़े दस्तावेज हटा मुख्यालय पर प्रस्तुत करने को निर्देशित किया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा कार्यवाही की खबर फैलने के बाद झोलाछाप अपनी-अपनी दुकानें बंद कर भाग खड़े हुए। बता दे कि मडिय़ादो से लगभग एक दर्जन झोलाछाप डॉक्टर्स द्वारा अवैध रूप से क्लीनिक संचालित होने की शिकायत कलेक्टर को प्राप्त हुई थी। इसके बाद हटा सीबीएमओ उमाशंकर पटेल, नायब तहसीलदार मानसी अग्रवाल, बीपीएम विक्रम सिंह, बुद्धदन तंतुवाय, गोस्वामी, राहुल खरे सहित स्थानीय पुलिस ने मडिय़ादो में संचालित चांदसी दवाखाना पर दबिश दी। इसी तरह की वर्धा में रंजीत सरकार के चांदसी दवाखाना पर कार्रवाई की गई। वहीं मडिय़ादो में आधा दर्जन से अधिक डॉक्टर्स के यहां भी दबिश दी गई। मौके पर पंचनामा कार्यवाही कर सूचना चस्पा की गई। सीबीएमओ डॉ. उमाशंकर पटेल ने बताया कि शिकायत आधार पर मडिय़ादो और वर्धा में सयुक्त टीम द्वारा एक दर्जन झोलाछाप डॉक्टर्स की अवैध क्लीनिक पर छापामार कार्यवाही की गई है, जिसमे दो अवैध क्लिनिक सीज किए गए। वही 9 अवैध क्लीनिक पर सूचना चस्पा कर दस्तावेज मांगे गए है

Hindi News/ News Bulletin / अब दिव्यांगों को मेडिकल बोर्ड बैठने का नही करना होगा इंतिजार, ओपीडी में होगी जांच

ट्रेंडिंग वीडियो