scriptअफसरों पर बरसे जनप्रतिनिधि, बोले- फोन तक नहीं उठाते, आम जनता के क्या काम होते होंगे | भीलवाड़ा जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक में सांसद ने अधिकारियों को लिया आडे हाथों | Patrika News
समाचार

अफसरों पर बरसे जनप्रतिनिधि, बोले- फोन तक नहीं उठाते, आम जनता के क्या काम होते होंगे

भीलवाड़ा जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक में सांसद ने अधिकारियों को लिया आडे हाथों

भीलवाड़ाJun 22, 2024 / 11:38 am

Suresh Jain

भीलवाड़ा जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक में सांसद ने अधिकारियों को लिया आडे हाथों

भीलवाड़ा जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक में सांसद ने अधिकारियों को लिया आडे हाथों

भीलवाड़ा जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक शुक्रवार को कलक्ट्रेट सभागार में हुई। सांसद दामोदर अग्रवाल व जनप्रतिनिधि अधिकारियों पर जमकर बरसे। सांसद ने बिजली, पानी, सड़क, अवैध खनन और कृषि जैसी समस्याओं का समाधान न होने पर नाराजगी जताई। जनप्रतिनिधियों ने अधिकारियों पर आरोप लगाए के वह फोन तक नहीं उठाते है, तो आम जनता का क्या काम होगा।
जिला प्रमुख बरजी बाई भील की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में चार माह पुराने मुद्दे ही छाए रहे। सीईओ शिवपाल ने बैठक की शुरूआत की। सड़क निर्माण पर अधिकारी ने कहा कि बजट नहीं है तो सांसद ने कहा कि सरकार में बजट की कोई कमी नहीं है। इसकी चिंता अधिकारी न करें वह आम जनता के काम करें।
चार बार बिजली हुई बंद

बैठक में चार बार बिजली गुल हुई। जनप्रतिनिधियों ने इस पर कहा कि बिजली विभाग के अधिकारी बैठे है, फिर भी बिजली कटौती के यह हालात है। जनप्रतिनिधियों ने कलक्टर को बैठक में बुलाया। गर्मी से परेाान सांसद, जिला प्रमुख पसीना पूछते रहे। सदस्य बैठक एजेंडा फाइल से हवा करते रहे। सदस्यों ने शाहपुरा में बिजली कटौती का विरोध किया। अधिकारी ने बताया कि कटौती जयपुर से होती है। केबल के अभाव में कृषि कनेक्शन न होने पर कहा कि गाजियाबाद से केबल टेस्ट होने के बाद आएगी। कोटड़ी प्रधान करण सिंह ने कहा कि किसानों के कनेक्शन नहीं हो रहे है। राशि जमा कराए चार माह हो गए।
अमृत-2 में सभी कॉलोनी को मिले पानी

विधायक गोपाल खंडेलवाल ने जल जीवन मिशन के नाम पर लोगों से ली गई राशि का मामला फिर उठाया। कलक्टर नमित मेहता इसकी सूची बनाने को कहा। विधायक अशोक कोठारी ने नेहरू विहार में अब भी चंबल का पानी नहीं मिलने की बात कहीं। एसई ने कहा कि टेस्टिंग चल रही अगले सप्ताह मिल जाएगा। अमृत-2 में सभी कॉलोनियों को जोड़ने के सवाल पर कहा कि डीपीआर का काम चल रहा है।
इन्होने भी रखे मुद्दे

अशोक तलाइच ने कहा कि स्कूलों में छात्राओं के लिए शौचालय नहीं है। कलक्टर ने 85 स्कूलों के प्रस्ताव मांगे। इनका निर्माण स्वच्छ भारत मिशन में कराया जाएगा। जिला प्रमुख बरजी भील ने सज्जनखेड़ा, शाहपुरा विधायक लालाराम बैरवा ने शाहपुरा के कई गांवों में पानी नही मिलने का मुद्दा उठाया। करेड़ा प्रधान राजेंद्र सरगरा ने कहा कि 3 साल से समाधान नहीं हुआ है। करेड़ा में भू माफिया ने अतिक्रमण कर रखा है तो अधिकारी ने कहा कि प्रभावशाली लोगों के कारण कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं। मांडल विधायक उदयलाल भडाणा ने कहा कि अधिकारियों व सचिव की मिलीभगत से जोरावरपुरा में चारागाह भूमि के पट्टे जारी कर दिए। मांडल तालाब की रपट पर नाला बनाए। उप जिला प्रमुख शंकरलाल गुर्जर ने अवैध खनन का मामला उठाया।
सार्वजनिक निर्माण विभाग की चर्चा शुरू होते ही सांसद ने कहा कि कोई भी अधिकारी सीरियस नहीं है। एक-एक साल से सड़क निर्माण के टैंडरपड़े है, लेकिन सड़के नहीं बन रही है। ठेकेदारों को नोटिस देकर छोड़ देते बैठक में विधायक कोठारी व खंडेलवाल के निजी सहायक भी मौजूद रहे।
यह हुए निर्णय

  • – चंबल की लाइन से अवैध नल कनेक्शन को हटाएं जाएंगे। जनप्रतिनिधि भी सहयोग करेंगे।
  • – आसीन्द को 20 एमएलडी पानी दिया जाएगा।
  • – स्कूलों के खैल मैदान में हो रहे अतिक्रमण हटाए जाएंगे।
  • – करेड़ा में भू माफियों के अवैध कब्जे हटेंगे।
  • – झरमरी व अंग्रेजी बबुल को मनरेगा से हटाएं जाएंगे।
एक-एक कर जाते रहे
आसीन्द विधायक जब्बरसिंह सांखला अपने काम के लिए कलक्टर के हाथ जोड़ते रहे। कलक्टर के हां करने के बाद वे बैठक से चले गए। कुछ देर बाद सांसद भी चले गए। विधायक लादूलाल पितलिया व गोपी चन्द मीणा एक साथ चले गए। लालाराम बैरवा भी अपनी बात कहकर निकल गए। मांडलगढ़ विधायक खंडेलवाल के जाने के बाद मांडल विधायक भंडाणा ने कहा कि सभी चले जाएंगे तो बैठक कैसे होगी। दोपहर तीन बजे तक सदन की आधी कुर्सियां खाली हो गई थी।

Hindi News/ News Bulletin / अफसरों पर बरसे जनप्रतिनिधि, बोले- फोन तक नहीं उठाते, आम जनता के क्या काम होते होंगे

ट्रेंडिंग वीडियो