scriptखराब खाद्य तेल से हृदय रोग और कैंसर का खतरा, झोटवाड़ा में 53 हजार लीटर का सबसे बड़ा स्टॉक पकड़ा | Patrika News
समाचार

खराब खाद्य तेल से हृदय रोग और कैंसर का खतरा, झोटवाड़ा में 53 हजार लीटर का सबसे बड़ा स्टॉक पकड़ा

विभाग ने पहले की रैकी..3-4 कंपनियों के सैंपल लिए, जिनमें एक हुआ फेल

अमानक की आशंका पर खाद्य सुरक्षा आयुक्तालय की अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई

जयपुरJul 10, 2024 / 02:28 pm

Vikas Jain

जयपुर। प्रदेश भर में चलाए जा रहे शुद्ध के लिए युद्ध अभियान के तहत खाद्य सुरक्षा आयुक्तालय की टीम ने मंगलवार को जयपुर के झोटवाड़ा इलाके में अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई करते हुए 53 हजार लीटर सरसों का खाद्य तेल अमानक होने की आशंका के चलते पकड़ा है। अतिरिक्त खाद्य सुरक्षा आयुक्त पंकज ओझा के नेतृत्व में खाद्य सुरक्षा विभाग की एक टीम ने झोटवाड़ा इंडस्ट्रियल एरिया स्थित तिरुपति ऑयल इंडस्ट्री के पवन ऑयल ब्रांड की फैक्ट्री पर छापा मारा। इसमें सरसों का अमानक खाद्य तेल होने की आशंका पर सीज किया गया है।
इस कार्रवाई से पहले विभाग 3-4 प्रतिष्ठित कंपनियों के सरसों तेल के सैंपल लेकर भी एक जांच अपने स्तर पर करवा चुका था। जिसमें इसी का ही नमूना फेल हुआ था। इसके आधार पर सैंपल अमानक पाए जाने पर झोटवाड़ा इंडस्ट्रियल एरिया स्थित परिसर में सीज की कार्रवाई की गई है। यहां से सैंपल लेकर विभागीय लेबोरेटरी में जांच के लिए भेजे गए हैं।
खराब तेल बीमारियों को खुला निमंत्रण

हृदय रोग : खराब तेल में ट्रांस फैट की उच्च मात्रा होती है, जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाकर हृदय रोगों का खतरा बढ़ा सकता है

मधुमेह : खराब तेल से बने भोजन का नियमित सेवन इंसुलिन संवेदनशीलता को कम कर सकता है, जिससे टाइप 2 मधुमेह का खतरा बढ़ सकता है
कैंसर : बार-बार इस्तेमाल किए गए तेल में हानिकारक कार्सिनोजेन्स बन सकते हैं, जो विभिन्न प्रकार के कैंसर का कारण बन सकते हैं।

पेट संबंधी समस्याएं : खराब तेल का सेवन पाचन तंत्र में समस्याएं, जैसे कि पेट दर्द, अपच, और दस्त, उत्पन्न कर सकता है।
मोटापा: खराब तेल में कैलोरी की उच्च मात्रा होती है, जो मोटापे का कारण बन सकता है।

हाई ब्लड प्रेशर : खराब तेल में उच्च मात्रा में सोडियम और अन्य हानिकारक तत्व होते हैं, जो उच्च रक्तचाप का कारण बन सकते हैं।

खाद्य तेल का चयन करते समय हमेशा उच्च गुणवत्ता और सुरक्षित तेल का उपयोग करना चाहिए। इसके अलावा, तेल को एक बार गर्म करने के बाद बार-बार उपयोग करने से बचना चाहिए और एक निश्चित तापमान से अधिक गर्म नहीं करना चाहिए।
डॉ.रमन शर्मा, वरिष्ठ मेडिसिन रोग विशेषज्ञ

Hindi News/ News Bulletin / खराब खाद्य तेल से हृदय रोग और कैंसर का खतरा, झोटवाड़ा में 53 हजार लीटर का सबसे बड़ा स्टॉक पकड़ा

ट्रेंडिंग वीडियो