scriptप्लास्टिक ‘कैंडी’ का सहारा, इसके बगैर कोई यूक्रेनी सैनिक मोर्चे पर जाने को तैयार नहीं | Patrika News
समाचार

प्लास्टिक ‘कैंडी’ का सहारा, इसके बगैर कोई यूक्रेनी सैनिक मोर्चे पर जाने को तैयार नहीं

रूस के ड्रोन हमलों से अलर्ट के लिए सबसे लोकप्रिय डिटेक्टर प्लास्टिक ‘कैंडी’ का सहारा

नई दिल्लीJun 18, 2024 / 12:30 am

ANUJ SHARMA

कीव. अगर किसी यूक्रेनी सैनिक से पूछा जाए कि मोर्चे पर जाने से पहले उसे क्या चाहिए तो उसका जवाब होगा ‘कैंडी’। यह कैंडी कोई टॉफी या मिठाई नहीं, बल्कि प्लास्टिक के छोटे-से डिब्बेनुमा ड्रोन डिटेक्टर का नाम है। इसमें स्क्रीन और एंटीना होता है। यह सस्ता उपकरण यूक्रेन की सेना में काफी लोकप्रिय हो चुका है। यूक्रेनी सैनिक मोर्चे पर जाने से पहले हर कीमत पर इसे खरीदने की कोशिश करते हैं।
बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक यूक्रेन की सीमा के अंदर रूसी जासूसी ड्रोन्स का इस्तेमाल इस डिवाइस के महत्त्व को दिन-प्रतिदिन बढ़ा रहा है। विमान, वायु रक्षा प्रणाली और बैलिस्टिक मिसाइलों को निशाना बनाने के लिए रूस ड्रोन का इस्तेमाल करता है। ऐसे में यूक्रेन की सशस्त्र सेनाओं के जवानों के लिए यह जानना जरूरी है कि उनके ऊपर जो उड़ान भर रहा है, वह रूसी ड्रोन तो नहीं है। ‘कैंडी’ किसी भी ड्रोन की मौजूदगी की सूचना देकर इसके निशाने पर आने वाली गाड़ी में बैठे लोगों को बाहर निकलने का मौका देता है।
बचाता है जीवन

यूक्रेनी सेना की एक बटालियन के कमांडर निकोलाई कोलेसनिक ने बताया कि ‘कैंडी’ की मदद से रूसी लैंसेट ड्रोन के टकराने से कुछ सेकंड पहले वह अपनी कार से बाहर कूदने में कामयाब हो गए। उनका कहना है कि इस तरह का डिवाइस हर सिपाही के पास और हर गाड़ी में होना चाहिए, क्योंकि यह जीवन बचाता है।
इसलिए यह नाम…

‘कैंडी’ का आविष्कार यूक्रेनी प्रोग्रामर दमित्री सेलन ने किया। इसका पहला प्रोटोटाइप 2022 में बनाया गया था। सेलन कहते हैं, पहले प्रोटोटाइप के लिए मैं किसी आम डिब्बे की तलाश में था। जो सबसे सही दिखा, वह प्लास्टिक का चीनी का डिब्बा था। इसीलिए इसका नाम कैंडी रख दिया।

Hindi News/ News Bulletin / प्लास्टिक ‘कैंडी’ का सहारा, इसके बगैर कोई यूक्रेनी सैनिक मोर्चे पर जाने को तैयार नहीं

ट्रेंडिंग वीडियो