scriptनिकाय क्षेत्र में फिर आचार संहिता लागू, वार्ड नंबर एक में होगा उपचुनाव | Patrika News
समाचार

निकाय क्षेत्र में फिर आचार संहिता लागू, वार्ड नंबर एक में होगा उपचुनाव

निरस्त हो सकते हैं उपचुनाव

हनुमानगढ़Jun 07, 2024 / 10:21 pm

Anurag thareja


सभापति का चुनाव 8 को व उपसभापति का चुनाव 9 जुलाई को

हनुमानगढ़. लोकसभा चुनाव की आचार संहिता हटते ही निकाय क्षेत्र में उपचुनाव को लेकर एक माह के लिए फिर से आचार संहिता लागू हो गई है। राज्य निर्वाचन आयोग ने शहरी निकाय क्षेत्र में उपचुनाव की घोषणा कर दी है। सभापति पद को लेकर चुनाव आठ जुलाई को होंगे। नौ जुलाई को उपसभापति के लिए मतदान होगा। जबकि विधायक गणेशराज बंसल के वार्ड नंबर एक में उपचुनाव को लेकर मतदान तीस जून को होगा और मतगणना एक जुलाई को होगी। जारी आदेशों के अनुसार निकाय क्षेत्र के सभी साठ वार्डों में आचार संहिता लागू रहेगी। वार्ड नंबर एक के उपचुनाव के लिए नामांकन पत्र की अंतिम तिथि 16 जून निधार्रित की गई है। 22 जून को चुनाव चिन्ह का आवंटन किया जाएगा। इस वार्ड के गत कई चुनावों में विधायक गणेशराज बंसल जीतते आऐं। इसी वार्ड से पार्षद चुनने के बाद सभापति निवार्चित हुए थे और करीब चार वर्ष के कार्यकाल के बाद जनता ने इन्हें विधायक निर्वाचित किया है। वहीं १४ दिसंबर 2023 को राज्य सरकार ने सभापति के पद पर विधायक गणेशराज बंसल के करीबी पार्षद सुमित रिणवा को दो माह के लिए मनोनीत किया था। तब से लेकर अब तक डीएलबी की ओर से इनका कार्यकाल बढ़ाया जा रहा है।
पार्षदों की फिर होगी बाड़ाबंदी
सभापति सुमित रिणवा के मनोनीत होने के बाद पूर्व उपसभापति अनिल खीचड़ ने हाइकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। पूर्व उपसभापति अनिल खीचड़ ने हाइकोर्ट के समक्ष सभापति के पद का अतिरिक्त चार्ज देने का आग्रह किया था। यह मामला विचाराधीन है। मामला हाइकोर्ट में जाने पर विधायक गणेशराज बंसल के निर्देशानुसार सभापति सुमित रिणवा की ओर से मंडावा में पार्षदों को बाड़ाबंदी की गई और गत २९ दिसंबर २०२३ को पूर्व उपसभापति अनिल खीचड़ के खिलाफ अविश्वास पारित किया गया। इसके चलते पूर्व उपसभापति अनिल खीचड़ को इस पद से हटना पड़ा। वर्तमान में राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से ०९ जलाई को उपसभापति पद के लिए भी उपचुनाव करवाए जा रहे हैं।
विधायक के खेमे में 53 पार्षद
विधायक गणेश राज बंसल के खेमे ५३ पार्षद हैं। इनके खेमे में भाजपा, कांग्रेस व निर्दलीय पार्षद शामिल हैं।
सूत्रों की माने तो नंवबर में निकाय चुनाव होने के कारण के कारण कई पार्षद अपना खेमा भी बदल सकते हैं। सच्चाई तो ८ व ९ जुलाई को सभापति व उपसभापति चुनाव को लेकर होने वाले मतदान के दौरान ही सामने आएगी।
निरस्त हो सकते हैं उपचुनाव
जानकारों की माने तो हनुमानगढ़ नगर परिषद क्षेत्र में निकाय चुनाव को लेकर छह माह से भी कम का समय शेष है। ऐसे में राज्य निर्वाचन आयोग उपचुनाव कराने के निर्णय को टाल भी सकता है।

Hindi News/ News Bulletin / निकाय क्षेत्र में फिर आचार संहिता लागू, वार्ड नंबर एक में होगा उपचुनाव

ट्रेंडिंग वीडियो