script‘मतभेद हो सकता है, लेकिन सदन में एकजुट रहना है’ | Patrika News
समाचार

‘मतभेद हो सकता है, लेकिन सदन में एकजुट रहना है’

भाजपा विधायक दल की बैठक मंगलवार रात मुख्यमंत्री निवास पर हुई। बैठक में मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा के अलावा प्रदेश चुनाव प्रभारी विनय सहस्रबुद्दे सहित अन्य नेता मौजूद रहे। बैठक में इस बात पर फोकस रहा कि सत्र के दौरान विपक्ष का मुकाबला एकजुट होकर करना है। आपसी मतभेद भले ही हों, लेकिन सदन में एकजुट होकर रहना है।

जयपुरJul 03, 2024 / 06:57 pm

GAURAV JAIN


– विपक्ष का मुकाबला करने की भाजपा ने बनाई रणनीति

जयपुर. भाजपा विधायक दल की बैठक मंगलवार रात मुख्यमंत्री निवास पर हुई। बैठक में मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा के अलावा प्रदेश चुनाव प्रभारी विनय सहस्रबुद्दे सहित अन्य नेता मौजूद रहे। बैठक में इस बात पर फोकस रहा कि सत्र के दौरान विपक्ष का मुकाबला एकजुट होकर करना है। आपसी मतभेद भले ही हों, लेकिन सदन में एकजुट होकर रहना है। बैठक में मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने पर अभिनंदन प्रस्ताव रखा, जिसका अन्य मंत्रियों ने अनुमोदन किया। इस दौरान विधायक दल ने हाल ही में संपन्न पंचायत एवं निकाय चुनावों में भाजपा के शानदार प्रदर्शन पर सीएम शर्मा का अभिनंदन किया गया।
बैठक में तय किया गया कि विधानसभा सत्र के दौरान केन्द्र सरकार की योजनाओं और राज्य सरकार की ओर से आचार संहिता के बावजूद कम समय में किए गए जनहित के बड़े फैसलों और कार्यों का सदन में पुरजोर तरीके से उल्लेख किया जाएगा।
इधर, जूली बोले… जनहित के मुद्दों और योजनाओं को बंद करने पर सरकार से मांगेंगे जवाब

राज्य विधानसभा के बुधवार से शुरू हो रहे बजट सत्र को लेकर नेता प्रतिपक्ष टीकाराम जूली ने कहा कि जनहित के मुद्दों पर सरकार से जवाब मांगने को लेकर कांग्रेस पार्टी ने रणनीति चर्चा कर ली है। नेता प्रतिपक्ष जूली ने कहा कि किसानों, युवाओं, महिलाओं, ईआरसीपी, पानी, बिजली, स्वास्थ्य, कानून व्यवस्था, बेरोजगारी, महंगाई, भ्रष्टाचार, मंत्रियों के विवादित बयान और पूर्ववर्ती सरकार की कामों की समीक्षा के नाम पर योजनाओं को बंद करने को लेकर राज्य की भाजपा सरकार से सदन में जवाब मांगा जाएगा। भाजपा सरकार बदले की भावना से कर रही काम है। जूली ने कहा कि प्रदेश की पर्ची वाली सरकार ने पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार में बनाए नए जिलों, संभागों और कॉलेजों की समीक्षा का आदेश हाल ही में जारी किया है। इससे पहले चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना को बंद कर दिया गया, वहीं महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम स्कूलों को भी फिर से हिंदी माध्यम स्कूलों में बदलने को लेकर बयानबाजी की जा रही है। उन्होंने कहा कि विधानसभा सत्र में सबसे पहला मुद्दा देश के युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ करने वाली नीट परीक्षा का रहेगा।

Hindi News/ News Bulletin / ‘मतभेद हो सकता है, लेकिन सदन में एकजुट रहना है’

ट्रेंडिंग वीडियो