scriptअधिक डीसीएम पदों पर कांग्रेस आलाकमान का फैसला होगा अंतिम: सिद्धू | U | Patrika News
समाचार

अधिक डीसीएम पदों पर कांग्रेस आलाकमान का फैसला होगा अंतिम: सिद्धू

सत्तारूढ़ कांग्रेस के भीतर से उठ रही तीन उप मुख्यमंत्रियों की नियुक्ति की मांग ने प्रदेश की सियासत में एक तल्खी सी घोल दी है। उप मुख्यमंत्री डीके शिवकुमार जहां इन से असहज नजर आते हैं वहीं, कैबिनेट मंत्रियों के बयान जोर पकड़ते जा रहे हैं। इसे शिवकुमार के खिलाफ मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या समर्थकों की ओर […]

बैंगलोरJun 27, 2024 / 06:37 pm

Rajeev Mishra

सत्तारूढ़ कांग्रेस के भीतर से उठ रही तीन उप मुख्यमंत्रियों की नियुक्ति की मांग ने प्रदेश की सियासत में एक तल्खी सी घोल दी है। उप मुख्यमंत्री डीके शिवकुमार जहां इन से असहज नजर आते हैं वहीं, कैबिनेट मंत्रियों के बयान जोर पकड़ते जा रहे हैं। इसे शिवकुमार के खिलाफ मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या समर्थकों की ओर से साधे जा रहे निशाने के तौर पर देखा जा रहा है तो, डीके शिवकुमार के मुख्यमंत्री पद पर दावा करने का संकेत भी समझा जा रहा है। इसे शिवकुमार को एक दायरे में रखने के लिए मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या की सोची-समझी रणनीति का हिस्सा भी बताया जा रहा है।
इन तमाम अंदरुनी उठापटक के बीच मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने कहा कि, तीन उप मुख्यमंत्रियों की नियुक्ति की मांग पर पार्टी आलाकमान का फैसला अंतिम होगा। डीके शिवकुमार भी इस मांग पर कह चुके हैं कि, पार्टी आलाकमान इसका उचित जवाब देगा। अभी तक उप मुख्यमंत्री पद की मांग पर तल्ख टिप्पणी करने वाले डीके शिवकुमार के भाई व बेंगलूरु ग्रामीण के पूर्व सांसद डीके सुरेश ने एक अलग बयान दिया। उन्होंने कहा कि, तीन क्या, पांच उप मुख्यमंत्री नियुक्त किए जा सकते हैं। उन्होंने सतीश जारकीहोली, जमीर अहमद खान और डॉ.जी.परमेश्वर के साथ रामलिंगा रेड्डी और चेलुवरायस्वामी का भी नाम जोड़ दिया।
असहज हुए डीके शिवकुमार, कहा-आलाकमान ही देगा जवाब

सूत्रों का कहना है कि, तीन उप मुख्यमंत्री पद की मांग करने वाले कैबिनेट मंत्री भी अपनी बात रखने दिल्ली जा सकते हैं। इसके लिए चलो दिल्ली अभियान चलाने की बात भी कही जा रही है। सहकारिता मंत्री के एन राजण्णा, आवास तथा अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री बीजेड जमीर अहमद खान और लोक निर्माण मंत्री सतीश जारकीहोली इस मांग को हवा दे रहे हैं। जबकि, डॉ जी.परमेश्वर के अलावा तीन से चार और कैबिनेट मंत्री हैं जो इसका समर्थन कर रहे हैं। इन्हें सिद्धरामय्या का करीबी माना जाता है। इन मंत्रियों का कहना है कि, मंत्रिमंडल को संतुलित करने के लिए वोक्कालिगा के अलावा वीरशैव/लिंगायत, एससी/एसटी और अल्पसंख्यक समुदाय से एक-एक उप मुख्यमंत्री होना जरूरी है। वोक्कालिगा समुदाय से एक मात्र उप मुख्यमंत्री डीके शिवकुमार हैं। जब शिवकुमार से यह पूछा गया कि, क्या कांग्रेस में एक से अधिक उप मुख्यमंत्री बनाने की योजना है? तो उन्होंने कहा कि, यह सवाल कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, प्रदेश मामलों के प्रभारी महासचिव (रणदीप सिंह सुरजेवाला) अथवा मुख्यमंत्री से पूछें।

Hindi News/ News Bulletin / अधिक डीसीएम पदों पर कांग्रेस आलाकमान का फैसला होगा अंतिम: सिद्धू

ट्रेंडिंग वीडियो