scriptयह कैसा उतावलापन : जमीन मिलने के पहले ही तैयार कर दिया बस स्टैंड अब मांग रहे दावे-आपत्तियां | Patrika News
समाचार

यह कैसा उतावलापन : जमीन मिलने के पहले ही तैयार कर दिया बस स्टैंड अब मांग रहे दावे-आपत्तियां

मनमर्जी और लेटलतीफी को लेकर बदनाम स्मार्ट सिटी ने केवल एक बड़ा काम समय सीमा में पूरा किया है, लेकिन उसमें भी घालमेल सामने आया है। भोपाल रोड पर करोड़ों रुपए खर्च कर जिस बस स्टैंड को करीब छह माह पहले बनाकर तैयार कर लिया था, उसकी जमीन का आवंटन अब तक नहीं हुआ है।

सागरJun 20, 2024 / 01:01 pm

Madan Tiwari

भोपाल रोड बस स्टैंड

भोपाल रोड बस स्टैंड

स्मार्ट सिटी का एक और कारनामा आया सामने, घालमेल में प्रशासनिक अधिकारी भी शामिल

स्मार्ट सिटी का एक और कारनामा आया सामने, घालमेल में प्रशासनिक अधिकारी भी शामिल

मधुर तिवारी/सागर. मनमर्जी और लेटलतीफी को लेकर बदनाम स्मार्ट सिटी ने केवल एक बड़ा काम समय सीमा में पूरा किया है, लेकिन उसमें भी घालमेल सामने आया है। भोपाल रोड पर करोड़ों रुपए खर्च कर जिस बस स्टैंड को करीब छह माह पहले बनाकर तैयार कर लिया था, उसकी जमीन का आवंटन अब तक नहीं हुआ है। जमीन आवंटन का प्रकरण तहसीलदार सागर कार्यालय में लंबित है। हैरानी की बात तो यह है कि राजस्व विभाग निर्माण कार्य पूरा होने के छह माह बाद जमीन आवंटन को लेकर दावे-आपत्ति बुला रहा है। इस बात का खुलासा तहसीलदार सागर द्वारा जारी इश्तहार से हुआ है।- प्रशासन की सहमति पर घालमेल
स्मार्ट सिटी ने लगभग 22 करोड़ रुपए की लागत से राजघाट व भोपाल रोड पर दो नए बस स्टैंड तैयार किए हैं। इन दोनों बस स्टैंड पर 13 मई से बसों का संचालन भी शुरू हो गया है और भोपाल रोड वाले बस स्टैंड से भोपाल, रायसेन, विदिशा, इंदौर सहित जिले के जैसीनगर, राहतगढ़ आदि स्थानों की बसें संचालित हो रहीं हैं, लेकिन इस बस स्टैंड की जमीन आवंटन का प्रकरण लंबित है। शायद प्रदेश का यह पहला मामला होगा, जहां स्मार्ट सिटी ने उतावलापन दिखाते हुए जमीन मिले बिना ही करोड़ों रुपए खर्च कर काम पूरा करा दिया। इस घालमेल में जिला प्रशासन के अधिकारी भी शामिल हैं, जिन्होंने नियम और प्रक्रिया पूरे किए बिना निर्माण की अनुमति दे दी।

– दो मई को जारी किया इश्तहारत

हसीलदार सागर ने 2 मई को एक इश्तहार जारी कर आमजन को सूचित किया था। जिसमें बताया था कि आयुक्त नगर पालिक निगम द्वारा मौजा बामनखेड़ी पटवारी हल्का नंबर 67 स्थित भूमि खसरा नंबर 102 रकवा 1.7610 हेक्टेयर व खसरा नंबर 103 रकबा 0.84 हेक्टेयर में से रकवा 0.27 हेक्टेयर इस प्रकार कुल रकवा 2.03 हेेक्टेयर बस टर्मिनल के निर्माण के लिए आवंटित किए जाने को लेकर प्रकरण कलेक्टर सागर से जांच कर प्रतिवेदन के लिए प्राप्त हुआ है। इस संबंध में जिस किसी व्यक्ति को कोई आपत्ति हो तो वह अपनी आपत्ति या आवेदन पत्र पेशी दिनांक 17.05.2024 तक स्वयं उपस्थित होकर या मान्य अधिवक्ता के माध्यम से इस न्यायालय में प्रस्तुत करें।

– तहसीलदार जानकारी देने से बच रहे

भोपाल रोड पर बने बस स्टैंड के लिए जमीन आवंटन का प्रकरण फिलहाल सागर तहसीलदार प्रवीण पाटीदार के पास है, लेकिन वे दो दिन से जानकारी देने से बच रहे हैं। उनसे जब दावे-आपत्तियों के बारे में जानकारी चाही तो मंगलवार शाम को उनका कहना था कि कार्यालय समय पर बता पाएंगे, इसके बाद बुधवार दोपहर में संपर्क करने पर पहले तो वे बात सुनने तैयार हो गए, लेकिन जैसे ही बस स्टैंड की जमीन की बात शुरू की तो व्यस्तता बताते हुए फोन रख दिया।

– फैक्ट फाइल

भोपाल रोड बस स्टैंड

– जी-प्लस-1 इमारत

– 50 बस, 60 कार और 125 दो पहिया वाहन खड़े करने की व्यवस्था

– 5 एकड़ जमीन होनी है आवंटित

– शायद वही मामला होगा

भोपाल रोड पर नए बस स्टैंड के साथ सिटी बस डिपो और इलेक्ट्रिक बस टर्मिनल का भी प्लान है। सरकारी काम में जो जमीनों के अलॉटमेंट होते हैं उसमें पजेशन पहले दे दिया जाते हैं। इसके बाद विधिवत कागजी कार्रवाई तो हमको भी करनी पड़ती हैं। इसको लेकर जो कागजी कार्रवाई हो रही है शायद वही मामला होगा, लेकिन स्पष्ट जानकारी मुझे भी नहीं है।
– राजकुमार खत्री, निगमायुक्त सह कार्यकारी निदेशक, एसएससीएल

Hindi News/ News Bulletin / यह कैसा उतावलापन : जमीन मिलने के पहले ही तैयार कर दिया बस स्टैंड अब मांग रहे दावे-आपत्तियां

ट्रेंडिंग वीडियो