सोशल इंजीनियरिंग करने वाली पार्टी के विधायक सोशल मीडिया पर 'सोशल' नहीं

Agra, Uttar Pradesh, India
सोशल इंजीनियरिंग करने वाली पार्टी के विधायक सोशल मीडिया पर 'सोशल' नहीं

सोशल मीडिया पर बिना प्रचार-प्रसार के भी जीते चुनाव, फेसबुक-ट्विटर पर नहीं हैं सक्रीय

आगरा। उत्तर प्रदेश में जब बसपा वर्ष 2007 में पूर्ण बहुमत में आई तब उसके पीछे का राज सोशल इंजीनियरिंग बताया जा रहा था। और अब 10 साल बाद भी बसपा के प्रत्याशी सोशल इंजीनियरिंग तो कर रहे है लेकिन सोशल मीडिया से दूर है। आगरा में 6 विधान सभा सीटों पर बसपा का कब्ज़ा है। इसमें से दो ऐसे विधायक है जो हैट्रिक लगाने की कगार पर है। जब सोशल मीडिया के जरिये जनता अपने नेता तक अपनी बात आसानी से पहुंचा सकती हो ऐसे में ये विधायक सोशल मीडिया पर सक्रीय ही नहीं हैं। जनता की बातें कैसे सुन और जान पाते होंगे। इन सभी विधायकों को बसपा ने फिर उम्मीदवार बनाया है। 'विधायकों की सोशल मीडिया पर कितनी पकड़ है' अभियान में यें बातें फेसबुक, ट्विटर और यू ट्यूब पर सर्च करने के बाद सामने आई। पढ़िए पूरी रिपोर्ट। 

डॉ धर्मपाल सिंह, विधायक, एत्मादपुर

फेसबुक पर धर्मपाल सिंह के  9571 फॉलोवर्स हैं। जिसपर इनकी सक्रियता बहुत नहीं है। एक दिन में एक पोस्ट डाल देते हैं। इन्हें 1200 से 1600 लाइक्स भी मिल जाते है। डॉ धर्मपाल सिंह चौहान एत्मादपुर से बसपा टिकट पर पहली बार विधायक बने। वर्ष 2017 के विधान सभा चुनाव के लिए बसपा ने इन्हें फिर उम्मीदवार बनाया है। फेसबुक पर ग्राम नगला जालिम में 23 सितंबर 2014 की  आरसीसी का उद्घाटन करते हुए फोटो मिली। जिसे किसे दूसरे ने शेयर किया था न की खुद विधायक ने। 12 दिसम्बर 2016 को डा.धर्मपाल सिंह का एक प्रेस वार्ता का यू ट्यूब पर वीडियो मिला जिसे 122 व्यूज मिले थे।

गुटियारी लाल दुवेश, विधायक, आगरा कैंट 

आगरा कैंट के बसपा विधायक गुटियारी लाल दुवेश का फेसबुक पेज है जिसे उनके फैन क्लब चालते है। फॉलोवर्स भी उनके मात्र 474 ही हैं। जिनकी पोस्ट को 100 से अधिक लाइक्स नहीं मिलते। गुटियारी लाल वर्ष 2012  बसपा के टिकट पर पहली बार विधायक बने। 9 दिसम्बर 2016 का यू ट्यूब पर एक वीडियो मिला जिसे 72 व्यूज मिले थे। 

कालीचरन सुमन, विधायक, आगरा ग्रामीण 

आगरा ग्रामीण से बसपा के विधायक है कालीचरन सुमन। जो बसपा के टिकट पर 2012 में इस सीट से विधायक चुने गये। इनके फेसबुक पर 4983 मित्र हैं। लेकिन इनकी सक्रियता कम है। फेसबुक पर रोज पोस्ट भी नहीं करते। इनके  कुछ पोस्ट पर 600 लाइक्स आ जाते है। ट्विटर और यू ट्यूब पर भी सक्रियता नहीं है।

सूरज पाल सिंह, विधायक, फतेहपुर सिकरी 

फतेहपुर सिकरी से सूरज पाल सिंह लगातार दो बार से बसपा विधायक है। इनका फेसबुक और ट्विटर पर कोई अकॉउंट नहीं मिला। खोजने पर भी नहीं मिला। 

भगवान् सिंह कुशवाहा, विधायक,  खेरागढ़ 

भगवान् सिंह कुशवाहा बसपा के टिकट पर खेरागढ़ विधान सभा से लगातार दो बार से विधायक है। फेसबुक पर 3 नवम्बर 2016 को इनकी एक पोस्ट मिली जिसे किसी दूसरे अकॉउंट से शेयर की गई थी। ट्विटर और यू ट्यूब पर कोई वीडियो भी नहीं मिला। इन्होंने सपा के प्रत्याशी को करारी मात दी थी। 

छोटेलाल वर्मा, विधायक, फतेहाबाद 

छोटेलाल वर्मा वर्ष 2012 में बसपा के टिकट पर फतेहाबाद से विधायक बने। इन्होंने सपा प्रत्याशी राजेंद्र सिंह को मामूली अंतर से चुनाव में हराया था। ये न फेसबुक पर सक्रीय है  न ही ट्विटर पर। 

रिपोर्ट : संतोष कुमार पांडेय 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned