आगरा की देवियां ऐसी रखेंगी करवाचौथ का व्रत

Agra, Uttar Pradesh, India
आगरा की देवियां ऐसी रखेंगी करवाचौथ का व्रत

देश भर में करवाचौथ का पर्व मनाया जा रहा है। आगरा में भी करवाचौथ पर्व पर महिलाओं में खासा उत्साह है।

आगरा। महिलाओं के लिए करवाचौथ का व्रत खास अहमियत रखता है। देश भर में करवाचौथ का पर्व मनाया जा रहा है। आगरा में भी करवाचौथ पर्व पर महिलाओं में खासा उत्साह है। ग्रहणी के साथ—साथ वर्किंग वीमन के लिए कैसा रहता है करवाचौथ का व्रत। इसके लिए पत्रिका टीम ने बात की आगरा की कुछ वर्किंग वीमन से। महिलाओं ने बताया कि काम को सबसे उपर रखकर भी वे करवाचौथ का व्रत रखती हैं। 

नौकरी के साथ व्रत भी
आगरा में पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात बबीता साहू कहती हैं कि पुलिस की नौकरी के साथ समय निकालकर करवाचौथ का व्रत रखती हैं। करवाचौथ की जो रीतियां होती हैं, उन्हें निभाती हैं। वे ड्यूटी को सर्वोपरि मानती हैं। ड्यूटी में समय न मिल पाने पर जिस तरीके से भी व्रत की रीतियां हैं, उन्हें निभाती हैं। आज करवाचौथ व्रत पर पूरा दिन उन्होंने ड्यूटी में बिताया।

सरोज सिंह 
ऐसे बीती थी पहली करवाचौथ
चिकित्सक के लिए करवाचौथ का व्रत और मरीजों की देखभाल का जिम्मा दोनों ही जरूरी होते हैं। एसएन मेडिकल कॉलेज में प्राचार्य डॉ.सरोज सिंह कहती हैं कि उन्हें याद है जब उनका पहला करवाचौथ पड़ा था। उनकी ड्यूटी गायनिक में थी। करवाचौथ का व्रत रखकर वे गायनिक गईं। पूरे दिन नौकरी में समय दिया, शाम को घर आने में देरी हुई। उस दिन चंद्रमा निकलने के काफी देर बाद उन्होंने व्रत तोड़ा। हर करवाचौथ पर वे निर्जला उपवास रखती हैं। करवाचौथ व्रत के लिए कभी भी उन्होंने अवकाश नहीं लिया। नौकरी करने के बाद वे पूरे विधिविधान से व्रत खोलती हैं।

पति सेना में, इसलिए अहम है करवाचौथ
राज्य महिला आयोग की सदस्य और लेखिका डॉ.रोली तिवारी मिश्रा करवाचौथ को सौभाग्यशाली दिन मानती हैं। बताती हैं कि उनके पति फौज में हैं, सेना में होने के चलते अधिकांश तौर पर करवाचौथ पर साथ होना संभव नहीं रहता है। उन्हें याद है पिछली बार उन्होंने वीडियोकॉलिंग से व्रत तोड़ा था। कहती हैं कि करवाचौथ उनकी जिंदगी का सबसे बड़ा त्योहार है। पिछले 15 वर्षों से वे निर्जला व्रत रखती हैं। हालांकि इस दिन कोशिश करती हैं कि वर्कलोड थोड़ा सा कम किया जाए, लेकिन 15 वर्षों से व्रत रख रही हैं तो अब आदत में आ गया है। 

 saroj singh
कुंदनिका शर्मा
30 सालों से निर्जला व्रत
समाजवादी पार्टी प्रत्याशी और पार्षद कुंदनिका शर्मा 30 सालों से करवाचौथ का व्रत रह रही हैं। वो अपने क्षेत्र से चार बार की पार्षद है। उनका कहना है कि ऐसे में क्षेत्रीय जनता के प्रति उनका दायित्व और बढ़ जाता है। इसलिए करवाचौथ व्रत के दिन भी जनता के बीच समय देती हैं। सुबह से लेकर शाम चार बजे तक का समय वे लोगों के लिए रखती हैं। इसके बाद परिवार के साथ पूजा अर्चना की जाती है। कहती हैं कि शादी को 30 साल हो गए और तब से लगातार निर्जला व्रत रहती हैं। उन्हें याद है एक करवाचौथ ऐसा था जब बल्केश्वर में एक महिला के बेटे की दुर्घटना हुई थी। उसके बाद पोस्मार्टम हुआ था तो समय अधिक लग गया। रात को बहुत देरी से पूजा कर सकीं थीं। परिवार में घर की बहू भी अब साथ में व्रत रहती हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned