डॉक्टर साहब! आपसे तो ऐसी उम्मीद नहीं थी

Abhishek Saxena

Publish: Jun, 20 2017 10:12:00 (IST)

Agra, Uttar Pradesh, India
डॉक्टर साहब! आपसे तो ऐसी उम्मीद नहीं थी

मेडिकल कॉलेज की इमरजेंसी में जिंदा युवक को मुर्दा बना दिया गया। उसका पोस्टमार्टम के लिए पुलिस कर्मी घर पहुंच गए।

आगरा। एसएन मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर्स की घोर लापरवाही देखने को मिली है। मेडिकल कॉलेज की इमरजेंसी में जिंदा युवक को मुर्दा बना दिया गया। उसका पोस्टमार्टम के लिए पुलिस कर्मी घर पहुंच गए। एसएन प्रशासन ने दो जूनियर डॉक्टर को सस्पेंड कर दिया है और पूरे मामले की जांच को तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है।

लगा सांप ने डंस लिया युवक
आगरा के केदार नगर में कुश चौरसिया अपनी पत्नी रिचा और बेटी शैली के साथ रहते हैं। वे एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते हैं। वाक्या 17 जून की सुबह का है, जब वे सो रहे थे, उनके पलंग पर सांप आ गया। सांप को देख उनके होश उड़ गए। परिजनों को लगा कि कुश को सांप ने डंस लिया है। इसके चलते कुश को एसएन की इमरजेंसी में लाया गया। यहां डॉक्टरों ने चार घंटे रखकर कुश को ठीक बताकर छुट्टी कर दी। 18 जून को थाना शाहगंज से दारोगा पहुंचे, उन्होंने कुश की पत्नी रिचा को बताया कि उनके पति की एसएन इमरजेंसी में 17 जून को मौत हो गई है।

शव पोस्टमार्टम में रखा है
दरोगा ने कहा कि शव पोस्टमार्टम हाउस में रखा है और पोस्टमार्टम कराने के लिए परिजन को चलना होगा। पुलिस की इस बात से परिवार के होश फाख्ता हो गए। उन्होंने तुरंत अपने पति को आवाज दी। जब कुश बाहर आए और पुलिस को बताया कि वे ही कुश हैं और ठीक ठाक उनके सामने खड़े हैं। मौत कैसे हो सकती है। इस पर पुलिस को भरोसा नहीं हुआ। पुलिस ने कुश और उनके परिजनों को एसएन के डॉक्टरों द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट दिखाई। इस रिपोर्ट के अनुसार कुश की मौत हो चुकी थी और शव पोस्टमार्टम हाउस में रखा था। कुश ने पड़ोसियों को बुला लिया, उन्होंने भी बताया कि यह कुश है। इसके बाद पुलिस को रिपोर्ट पर शक हुआ, उन्होंने कुश से जिंदा होने की एप्लीकेशन लिखवाई और उसे लेकर एसएन इमरजेंसी पहुंच गए।

जूनियर डॉक्टरों की पड़ताल
इसके बाद पुलिसकर्मी कुश के जिंदा होने की रिपोर्ट लेकर एसएन इमरजेंसी पहुंचे। 
 यहां जूनियर डॉक्टरों ने फाइल निकाली, इसके बाद मामला खुला। 17 जून को ही एक अज्ञात व्यक्ति की भी मौत हुई थी, उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया था, रिपोर्ट में अज्ञात की जगह कुश को मृत दिखा दिया गया। 

प्राचार्य ने गठित की कमेटी
एसएन की प्राचार्य डॉ. सरोज सिंह ने इस मामले पर सख्ती दिखाई। उनके आदेश पर मेडिसिन विभाग के जूनियर डॉक्टर विवेक गौतम और पूनम रभा को सस्पेंड कर दिया है। इस पूरे मामले की जांच के लिए डॉ.पीके माहेश्वरी, डॉ. एससी जैन और  डॉ. आरबी लाल की कमेटी बनाई गई है, जो जांच करेगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned