पाकिस्तान से आए विस्थापितों ने लगाई नागरिकता की गुहार

Mukesh Sharma

Publish: Apr, 21 2017 12:17:00 (IST)

Ahmedabad, Gujarat, India
पाकिस्तान से आए विस्थापितों ने लगाई नागरिकता की गुहार

शहर में बसने वाले पाकिस्तान, अफगानिस्तान व बंगलादेश के अल्पसंख्यक विस्थापितों ने संयुक्त संसदीय

राजकोट।शहर में बसने वाले पाकिस्तान, अफगानिस्तान व बंगलादेश के अल्पसंख्यक विस्थापितों ने संयुक्त संसदीय समिति के समक्ष भारतीय नागरिकता की गुहार लगाई है।

समिति के अध्यक्ष डॉ सत्यपाल सिंह ने धार्मिक व अल्पसंख्यक विस्थापित नागरिकों की समस्याओं को सरकार तक पहुंचाते हुए उचित समाधान करने का आश्वासन दिया है। महिलाओं व बालकों की स्थिति का तुरंत निराकरण करने तथा इन विस्थापित नागरिकों को दीर्घकालीन वीजा (एलटीवी) दिए जाने का भी आश्वासन दिया।

उन्होंने कहा कि एलटीवी प्राप्त नागरिक ऋण ले सकते हैं। इसके साथ ही संपत्ति खरीद सकते हैं और अपना व्यवसाय भी आरंभ कर सकते हैं। शहर के भगवतीपरा रोड पर स्थित सुखसागर हॉल में आयोजित इस कार्यक्रम में भारी संख्या में हिन्दू विस्थापित पहुंचे।

नागरिकता अधिनियम-2016 में संशोधन को लेकर यहां पहुंची 10 सदस्यों की संसदीय समिति के समक्ष मेहरबेन, राजभाई, कनरभाई, भोवानभाई, जयसिंगभाई, जीवराजभाई  सहित अन्य लोगों ने वीजा के लिए आवेदन सरल भाषा में उपलब्ध कराने, भारतीय नागरिकता देने, बिछड़े परिजनों को भारत वापस लाने की मांग की।

 इन लोगों के अनुसार पहले के प्रावधान के अनुसार लगातार 11 वर्ष तक या इससे ज्यादा समय तक भारत में रहने वाले को भारतीय नागरिकता दी जाती थी। इस समयकाल में कमी करते हुए अब 6 वर्ष कर दिया गया है, लेकिन यह समय भी ज्यादा है। इन लोगों ने कहा कि कम से कम समय में भारतीय नागरिकता मिलनी चाहिए।हालांकि इन लोगों ने आवास, स्वास्थ्य, शिक्षा व रोजगार जैसी मूलभूत आवश्यकताओं के प्रति संतोष व्यक्त किया।

समिति ने शहर के रिद्धि सिद्धि सोसाइटी, गणेशनगर, सुखसागर सोसाइटी, जयप्रकाशनगर सहित अन्य इलाकों का दौरा किया। समिति के सदस्यों ने इन इलाकों में रहने वाले अल्पसंख्यक नागरिकों की जीवनशैली व पूरे परिवेश के बारे में जानकारी प्राप्त की। नागरिकता अधिनियम-2016 में संशोधन करने के लिए 10 सदस्यों की संसदीय समिति इन दिनों गुजरात दौरे पर है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned