गुम पत्नी की बंद कर दी थी तलाश, मिली तो गदगद हो गए रामप्रसाद

Mukesh Sharma

Publish: Feb, 16 2017 10:55:00 (IST)

Ahmedabad, Gujarat, India
गुम पत्नी की बंद कर दी थी तलाश, मिली तो गदगद हो गए रामप्रसाद

गुम हुई पत्नी को एक दो महीने तक खूब ढूंढा, जिसने जहां की संभावना बताई वहीं पहुंच कर तलाश भी की जाती लेकिन

अहमदाबाद।गुम हुई पत्नी को एक दो महीने तक खूब ढूंढा, जिसने जहां की संभावना बताई वहीं पहुंच कर तलाश भी की जाती लेकिन निराशा ही हाथ लगती थी। इसके बाद तो उम्मीद ही खो दी। मन में बुरे विचार भी आते थे। इसके बाद बुधवार को एक फोन के माध्यम से मिली सूचना ने मन गदगद कर दिया। दरअसल   सूचना मिली थी कि ममता को कुछ नहीं हुआ, वह इस दुनिया में है। यह कहना है इन्दौर के परदेशीपुरा निवासी रामप्रसाद हरसोटिया कायत का।

मामला यूं है कि करीब छह माह पूर्व उनकी पत्नी ममता (30) मानसिक बीमारी के चलते घर से निकल गई थी। गुरुवार को वह अहमदाबाद स्थित अस्पताल से मिल गई। पत्नी को लेने आए रामप्रसाद ने बताया  कि करीब छह माह पूर्व घर से निकली ममता को सभी जगह तलाशा गया। सब्जी बेचकर गुजारा करने वाले रामप्रसाद ने बताया कि पत्नी को ढूंढने के अलावा उन्हें अपने तीन बच्चों और अपनी मां की देखभाल भी करनी थी।


मन में बुरे-बुरे खयाल आते थे और आखिर सब जगह खोजने के बाद हार थककर घर बैठना पड़ा। बुधवार को उस समय खुशी का ठिकाना नहीं रहा जब इन्दौर पुलिस की ओर से ममता के अहमदाबाद में होने की सूचना मिली थी। उनके लिए इससे बढ़कर कोई खुशी नहीं थी। रामप्रसाद तत्काल इन्दौर से निकलकर गुरुवार को अहमदाबाद के मानसिक आरोग्य अस्पताल पहुंच गए। जहां से गुरुवार को ही अपनी पत्नी को ले गए।

अहमदाबाद के मनोचिकित्सक सामाजिक कार्यकर्ता अर्पण नायक एवं अशोक पांडव के अनुसार ममता को 30 नवम्बर को माधोपुरा पुलिस लेकर अस्पताल आई थी। अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अजय चौहाण के मार्गदर्शन में मनोचिकित्सक डॉ. चिराग परमार ने ममता का उपचार किया। उसके बाद लगातार  ममता का स्वास्थ्य सुधरता गया। हाल में उसकी हालत अच्छी बताई गई है। पिछले दिनों इस महिला से पूछताछ की गई तो उसने खुद को इन्दौर के परदेशीपुरा को बताया । अस्पताल प्रशासन ने इन्दौर पुलिस का संपर्क किया और उसके बाद उसके परिजनों तक पहुंचना आसान हो गया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned