बिना सर्जरी के किया ऑपरेशन

Mukesh Sharma

Publish: Apr, 14 2017 10:08:00 (IST)

Ahmedabad, Gujarat, India
 बिना सर्जरी के किया ऑपरेशन

पिछले दिनों सफल हार्ट ट्रान्सप्लान्टेशन के बाद अब सिम्स अस्पताल में दो मरीजों का अनूठे ढंग से हृदय

अहमदाबाद।पिछले दिनों सफल हार्ट ट्रान्सप्लान्टेशन के बाद अब सिम्स अस्पताल में दो मरीजों का अनूठे ढंग से हृदय संबंधित बीमारियों का उपचार किया गया है। चिकित्सकों का दावा है कि बिना सर्जरी के वाल्व रिप्लेसमेंट किया गया है जो गुजरात में पहली बार है।

सिम्स अस्पतला के चेयरमैन केयूर परीख के अनुसार हाल ही में हुआ दो मरीजों का उपचार बिना सर्जरी के ऑपरेशन जैसा है। पेशे से चिकित्सक 75 वर्षीय एक बुजुर्ग का बिना किसी चीरा लगाए वाल्व को रिप्लेसमेंट किया है। इस मरीज को सुई के माध्यम से पंक्चर कर पैर की नस में ट्रान्स केथेटर आओर्टिक वाल्व रिप्लेसमेंट (टीएवीआर) किया गया था। उन्होंने इस प्रक्रिया को पूरी तरह से नोन सर्जीकल बताया।


इस मरीज का वाल्व अवरोधित होने से यह प्रक्रिया अपनानी पड़ी थी। वैसे भी मरीज सर्जरी नहीं कराना चाहता था। हाल में मरीज की हालत ठीक बताई गई है। इस ऑपरेशन को करने वाले डॉ. मिलन चग  ने बताया कि गुजरात का यह अपने आप में पहला केस है। यह मरीज मधुमेह, कमजोर किडनी और पूर्व में धुम्रपान करने से पीडि़त था। दूसरा ऑपरेशन डॉ. केयूर परीख के नेतृत्व में टीम ने किया।

 जिसमें 57 वर्ष का ऐसा मरीज है जिसका लीवर प्रत्यारोपित किया जाना था। उन्हें आओर्टिक वाल्व संबंधित गंभीर बीमारी थी। इस मरीज की ऑपन सर्जरी या ट्रान्सप्लान्ट काफी खतरनाक साबित हो सकता था। 102 किलो वजन वाले इस मरीज को मुंबई से यहां लाया गया था। यहां हाईब्रिड एप्रोच (कार्डियाक सर्जन) की मदद से पैर की नस में छोटा सा चीरा लगाकर टीएवीआर किया गया। इसके बाद मरीज बारह घंटे में नए वाल्व के साथ ठीक हो गया।

 कार्डियाक सर्जन डॉ. धीरेन शाह के अनुसार दो वर्ष पूर्व भी 82 वर्ष के एक बुजुर्ग का भी इसी तरह से सिम्स अस्पताल में उपचार किया गया था। अस्पताल के डॉ. मनन देसाई, डॉ. चिन्तन शेठ, डॉ. मनन भावसार, डॉ. दीपा  शाह  डॉ. विपुल कपूर समेत चिकित्सकों ने इन ऑपरेशनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned