बिहार के दशरथ मांझी जैसा जोश दिखाकर पशु पक्षियों के लिए युवाओं ने किया यह काम 

Akanksha Singh

Publish: Jun, 20 2017 12:14:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
बिहार के दशरथ मांझी जैसा जोश दिखाकर पशु पक्षियों के लिए युवाओं ने किया यह काम 

इन दिनों पूरा प्रदेश भीषण गर्मी की चपेट में हैं, दिन का तापमान इस कदर लोगों हैरान किये हुए है कि लोगों का जीना दुश्वार हो गया है।

अंबेडकरनगर। इन दिनों पूरा प्रदेश भीषण गर्मी की चपेट में हैं, दिन का तापमान इस कदर लोगों हैरान किये हुए है कि लोगों का जीना दुश्वार हो गया है। ऐसे में पशु पक्षियों का क्या हाल हो रहा होगा, इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। पशु पक्षियों के लिए सरकार ने सभी जिलों के जिलाधिकारी को निर्देशित कर गांव गांव में तालाब और पोखरों को भरने आदेश जारी किया है, लेकिन यह अभियान केवल कागजों तक ही सीमित होकर रह गया है। कुछ गांवों के ग्राम प्रधान तो तालाब और जलाशयों में पानी भरवाने का काम कर लिए हैं हैं, लेकिन जिले में अधिकांश तालाब अभी भी सूखे हुए ही हैं, जिसके कारण पशु और पक्षियों को पानी नहीं नसीब हो पा रहा है। 
          
पशु पक्षियों की इसी कठिनाई को देखते हुए अम्बेडकर नगर जिले के युवाओं के एक समूह ने ऐसा कार्य शुरू किया है, जिसके चलते जहां पशु पक्षियों के पानी की समस्या समाप्त हो जायेगी। वहीं उनके इस कार्य से और भी लोग प्रेरणा लेकर जानवरों की पानी की समस्या को दूर करने में मददगार साबित हो सकते हैं। युवाओं के लगभग आधादर्जन समूह ने आपस में यह तय किया कि उनके आसपास जो भी सरकारी तालाब, पोखरा या जलाशय हो उसमे किसी भी तरह से पानी भरवाया जाय। इसके लिए वे सभी स्वयं आगे बढ़कर नहरों की पहुंच से पानी तालाबों में लाने का इंतजाम शुरू किया और देखते ही देखते उनका प्रयास रंग लाया। युवाओं के इस अभियान से कई तालाब और जलाशय जलमग्न हो गए। 

बदल गया इस ऐतिहासिक पोखरे का नजारा

आलापुर तहसील मुख्यालय के सामने स्थित अति प्राचीन गैया जी का पोखरा है। इस पोखरे की मान्यता है कि किसी राजा ने गायों के पानी पीने के लिए किसी समय में इसकी खुदाई कराई थी तभी से इस पोखरे का नाम गैया जी का पोखरा पड़ा हुआ है, लेकिन विगत कई सालों से इस पोखरे में बरसात के अलावा कभी पानी नहीं रहता है। इस भीषण गर्मी के बावजूद किसी भी सरकारी विभाग ने इस तालाब में पानी भरवाने की जहमत नहीं उठाई। इस साल भी भीषण गर्मी में यह पोखरा सूखा हुआ था, जिसे भरने के लिए इन युवाओं ने पानी भरने की ठानी और नहर के माध्यम से लंबी नाली खोदकर पोखरे को भरने का कार्य शुरू कर दिया है। 

रामनगर बाजार निवासी समाजसेवी दुष्यंत यादव, आलोक कुमार राजेश मिश्रा दुर्गेश कुमार अशोक श्याम सुंदर समेत कई अन्य युवाओं ने नहर से एक किलोमीटर लंबी नाली बनाकर पोखरे को भरने का कार्य शुरु कर दिया है। जिससे पोखरा अब भरना शुरू हो गया है और पशु पक्षियों से गुलजार हो गया है। युवाओं के इस मुहिम की क्षेत्र में काफी सराहना भी हो रही है। समाजसेवी दुष्यंत यादव ने बताया कि नहर के किनारे स्थित अन्य तालाबों को भराने का प्रयास किया जा रहा है जिससे जल स्तर को बढ़ाने में सफलता मिलेगी तथा पशु पक्षियों के लिए भी जीवन सुखमय होगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned