बुरी तरह घिरे ट्रंप, चल सकता है महाभियोग, अपने भी हुए विरोधी

America
बुरी तरह घिरे ट्रंप, चल सकता है महाभियोग, अपने भी हुए विरोधी

अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की प्रक्रिया चलाए जाने की संभावना व्यक्त की जा रही है। इसके लिए रिपब्लिकन पार्टी के भी कुछ सीनेटर तैयार होते दिख रहे है।

नई दिल्ली. अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की प्रक्रिया चलाए जाने की संभावना व्यक्त की जा रही है। इसके लिए रिपब्लिकन पार्टी के भी कुछ सीनेटर तैयार होते दिख रहे है। हाल के दिनों में डोनाल्ड ट्रंप की कार्यप्रणाली पर कई सवाल खड़े किए गए है। इससे अमरीका के सीनेटर नाराज चल रहे है। ट्रंप से खिलाफत करने वाले लोगों में विपक्षी पार्टी के नेताओं के साथ-साथ ट्रंप की पार्टी के भी कुछ सीनेटर शामिल है।  

रिपब्लिक पार्टी के ये सीनेटर है विरोध में 
ट्रंप के विरोध में रिपब्लिक पार्टी के नेता जस्टिन अमैश, जॉन मैक्केन और कोंलिस खूल कर सामने आ चुके है। समाचार पत्र द हिल के मुताबिक रिब्लिकन नेता जस्टिन अमैश का कहना है कि एफबीआई के निदेशक जेम्स कॉमे पर यदि ट्रंप के दबाव वाली बात सही साबित होती है, तो उन पर महाभियोग चल सकता है। रिपब्लिकन सीनेटर कोलिंस ने कहा कि यदि गोपनीय सूचना लीक की गई है तो यह परेशानी का सबब है। 

जॉन मैक्केन भी विरोध में 
डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले सीनेटरों में रिब्लिकन सीनेटर जॉन मैक्केन भी शामिल है। जॉन का कहना है कि ताजा खुलासे वॉटरेगेट कांड तक पहुंच गए है। इससे पहले देर हो जाए, हमें कदम उठाने चाहिए। बता दें कि जॉन मैक्केन भी राष्ट्रपति का चुनाव लड़ चुके हैं।

एफबीआई निदेशक का इस्तिफा बना विवाद का कारण
यूं तो ट्रंप पर कई आरोप लगाए जा रहे है, मगर सबसे अहम एफबीआई के निदेशक का इस्तिफा माना जा रहा है। बता दें कि कुछ दिनों पहले ही अमरीकी खुफिया एजेंसी एफबीआई के निदेशक जेम्स कॉमे को बर्खास्त कर दिया गया था। ऐसा माना जा रहा है कि यह कदम ट्रंप के दबाव पर उठाया गया। 

ट्रंप का रूस प्रेम साबित हो रहा घातक 
अमरीकी राष्ट्रपति का रूस के प्रति दोस्ताना व्यवहार घातक साबित हो रहा है। अभी कुछ दिन पहले ही ट्रंप पर पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन को बचाने का आरोप लगाया है। कहा जा रहा है कि ट्रंप ने कॉमे को तत्‍कालीन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन के खिलाफ जांच बंद करने को कहा था। बता दें कि फ्लिन रूसी अफसरों से संबंधों के लेकर घेरे में थे और उन्हें इस्तीफा भी देना पड़ा था।

रूस को दी गोपनीय जानकारी 
ट्रंप पर एक बड़ा आरोप यह भी लग रहा है कि उन्होंने रूस के साथ गोपनीय जानकारी साझा की। जानकारी साझा करने की बात ट्रंप खुद स्वीकर चुके है। ट्रंप ने एक बैठक के दौरान रूस के विदेश मंत्री के सामने आतंकी संगठन आईएसआईएस पर हमले से जुड़ी गोपनीय जानकारी जाहिर कर दी थी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned