पाकः बदनाम सैन्य अदालत ने 2 दिन में 8 आतंकियों को दी फांसी 

Asia
पाकः बदनाम सैन्य अदालत ने 2 दिन में 8 आतंकियों को दी फांसी 

पाकिस्तान की बदनाम सैन्य अदालत दो दिनों में आठ लोगों को देश में आतंकी घटनाओं में शामिल होने के आरोप में फांसी पर लटका चुकी है। 

रावलपिंडी. कुलभूषण मामले में भले ही पाकिस्तान को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस से झटका लगा हो। लेकिन, पाक अपने नागिरकों को फांसी पर लटकाने में कोई कोरकसर नहीं छोड़ रहा है। पाकिस्तान की बदनाम सैन्य अदालत दो दिनों में आठ लोगों को देश में आतंकी घटनाओं में शामिल होने के आरोप में फांसी पर लटका चुकी है। पाकिस्तान के खैबर-पख्तूनख्वा की एक अज्ञात जेल में गुरुवार को चार आतंकियों को फांसी पर लटका दिया गया। इससे पहले बुधवार को भी चार अन्य आतंकियों को फांसी पर लटकाया गया था। गुरुवार को फांसी पर लटकाए गए आतंकियों को सैन्य अदालत द्वारा दोषी करार देते हुए फांसी की सजा सुनाई गई थी। पाकिस्तानी सेना की मीडिया इकाई ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी। फांसी पर लटकाए गए आतंकियों पर निर्दोष नागरिकों को मारने, संचार के बुनियादी ढांचे और शैक्षिणिक संस्थाओं को नष्ट करने के आरोप थे। इंटर-सर्विस पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) के अनुसार, इन लोगों ने सेना के जवानों और कानून प्रवर्तन एजेंसियों पर भी हमला किया था।

4 आतंकवादियों को एक दिन पहले भी दी गई थी फांसी
पाकिस्तान में बुधवार को चार आतंकवादियों को फांसी दे दी गई। 'डॉन' की रिपोर्ट के अनुसार, सेना के इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) ने बताया कि वे आतंकवाद, निर्दोष नागरिकों की हत्या, मस्जिद पर हमला, शैक्षणिक संस्थानों की तबाही और पुलिस तथा सशस्त्र बलों पर हमले जैसे जघन्य अपराधों में संलिप्त थे।

टीटीपी के सदस्य थे सभी आतंकवादी
आतंकी तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के सदस्य थे। इससे पहले बुधवार को भी दोषी ठहराए गए सभी चार आतंकवादी प्रतिबंधित संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के सक्रिय सदस्य थे। उनकी पहचान अहमद अली, असगर खान, हारून उर राशिद तथा गुल रहमान के रूप में की गई थी।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned