...तो क्या कोरिया पार्क का हिस्सा बनेगी परमहंस रामचंद्र की समाधि?

Ashish Pandey

Publish: Dec, 01 2016 08:25:00 (IST)

Ayodhya, Uttar Pradesh, India
...तो क्या कोरिया पार्क का हिस्सा बनेगी परमहंस रामचंद्र की समाधि?

कोरिया पार्क का जायजा लेकर इसके विस्तार के लिए मानचित्र भी बना दिया है लेकिन इस योजना में परमहंस रामचन्द्र दास की समाधि अवरोध के रूप में नजऱ आ रही है क्यूँ कि कोरियन आर्किटेक्ट ने जो नक्सा बनाया है उस हद में स्वर्गीय परमहंस जी की समाधि भी आ रही है।

अयोध्या. अयोध्या और कोरिया के बीच सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत करने के लिए भगवान श्री राम की पावन नगरी अयोध्या के सरयू के किनारे बने कोरिया की महारानी हो के स्मारक को उच्चीकृत कर इसे एक हाई टेक पार्क के रूप में विकसित करने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने छप्पन करोड़ रुपए की स्वीकृति कर दिए हैं। 

इस योजना को धरातल पर लाने के लिए कोरिया से आये विशेष प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने सरयू तट के किनारे स्थित कोरिया पार्क का जायजा लेकर इसके विस्तार के लिए मानचित्र भी बना दिया है लेकिन इस योजना में शलाका पुरुष परमहंस रामचन्द्र दास की समाधि अवरोध के रूप में नजऱ आ रही है क्यूँ कि कोरियन आर्किटेक्ट ने जो नक्सा बनाया है उस हद में स्वर्गीय परमहंस जी की समाधि भी आ रही है। ऐसे में इस योजना को पूरा करने के लिए कोरियन आर्किटेक्ट की टीम और भारत सरकार के अधिकारी गहन मंथन में जुट गए हैं और प्राथमिक तौर पर परमहंस जी की समाधि को पार्क का ही एक हिस्सा बनाने की योजना पर बल दिया जा रहा है 

राम जन्म भूमि आन्दोलन के नायक हैं शलाका पुरुष परमहंस रामचन्द्र दास 

आपको बता दें की परमहंस रामचन्द्र दास मंदिर आन्दोलन के नायक के रूप में पूरी दुनिया में जाने जाते हैं उनके निधन पर तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भी अयोध्या पहुचे थ,े इसलिए इस समाधि के महत्व को लेकर सरकार बेहद गंभीर है। इसलिए समाधि को बिना क्षति पहुंचाये पार्क के विस्तारीकर की योजना पर काम किया जा रहा है। कोरिया से आए विशेष प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों में नोडल अधिकारी मी हाँचुल सू, आर्किटेक्ट ऐह जी डांग, पार्क कियांग टाक, ली नान जिन, सांग सुंग ह्यूम, वांग सुंग हान के साथ मौजूद पर्यटन विभाग के निदेशक अनूप श्रीवास्तव ने बताया कि किसी भी निर्माण के समय यदि बीच में कोई अवरोध आता है तो उसे दूर करने के दो ही तरीके हैं या तो उसे तोड़ दिया जाए या तो उसे उसी योजना का हिस्सा बना दिया जाए। ऐसे में हम दूसरे विकल्प पर चर्चा कर रहे हैं। समाधि को क्षति पहुंचाने का कोई सवाल नही है। इसलिए इस समाधि को पार्क में शामिल करने की योजना पर विचार किया जा रहा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned