करवा चौथ के दिन पति का क्रूर चेहरा, थाने में पत्नी को जड़े कई थप्पड़ 

Azamgarh, Uttar Pradesh, India
करवा चौथ के दिन पति का क्रूर चेहरा, थाने में पत्नी को जड़े कई थप्पड़ 

पुलिस के सामने होती रही थप्पड़ों की बरसात, देखती रही पुलिस

आजमगढ़. एक तरफ जहां महिलाआें को उत्पीड़न से मुक्ति दिलाने व त्वरित न्याय दिलाने के लिए सरकार तरह-तरह के आयोगों का गठन और कानून बना रही है तो वहीं पुलिस का रवैया राजनीतिक दबाव व घूसखोरी के चलते पुराने ढर्रे पर है। महिलाओं को न्याय तो दूर उन्हे बेवजह जेल की हवा खानी पड़ जा रही है। ऐसा ही मामला मुबारकपुर थाने में  बुधवार को घटना घटित हुई। 

करवा चौथ के दिन ही सुराई गाव में तीन दिन से ससुराल में बेटी संग धरने पर बैठी महिला नीलम पत्नी संजय व उसके पति को  पुलिस थाने लाई जहां सुलह समझौते में लगी रही। इसी बीच पुलिस के सामने ही पति ने नीलम को कई थप्पड़ जड़ दिया। जबकि पुलिस अपने कर्तव्यों से बिमुख होकर दोनों को जेल भेज दिया।

तहबरपुर थाने के नैपुरा गांव निवासी वीरेन्द्र की पुत्री नीलम के पहले पति की मौत के बाद मिले रूपये पर नजर गड़ाये मुबारकपुर थाने के सुराई गांव के संजय पुत्र शेषनाथ ने नीलम से शादी कर ली। शादी के बाद संजय आजमगढ शहर में किराये का कमरा लेकर रहने लगा। नौकरी के नाम पर पांच लाख रुपये ले लिया। कुछ समय बाद और रुपयों की मांग संजय करने लगा। रूपये न मिलने पर नीलम को छोड़ कर अपने गांव भाग आया। इसे देख नीलम भी ससुराल पहुंच गयी। 


नीलम का आरोप है कि ससुराल पहुंचने पर संजय फरार हो गया। स्थानीय पुलिस के यहां 26 दिन से  न्याय की गुहार लगाती रही। लेकिन न्याय मिलने की बजाय तरह तरह से परेशान किया जाने लगा। थकहार कर सोमवार को ससुराल में 8 माह की बेटी के साथ घर के बाहर बैठ गयी। इसे देख पुलिस देर रात पति संजय व उसे थाने उठा लाई। तब से पुलिस हमसे सुलह समझौता के लिए दबाब बनाती रही। पुलिस की सह पर संजय ने थाने में ही उसे थप्पड़ मारा। न्याय मिलने की बजाय जेल भेजा जा रहा है। प्रभारी निरीक्षक सन्तलाल यादव ने बताया कि दोनो पक्षां को समझाया गया। परंतु न मानने पर शान्ति भंग की अन्देशा पर दोनो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा जा रहा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned