मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी 

Azamgarh, Uttar Pradesh, India
मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी 

दान-पुण्य कर लोगों ने की सुख समृद्धि की कामना

आजमगढ़. मकर संक्रान्ति का पर्व जनपद में शनिवार को हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। लोगों ने प्रमुख नदी के संगम, सरोवरों आदि जगहों पर स्नान किया और भगवान भास्कर को नमन कर परिवार की सुख-समृद्धि की कामना की। दुर्वासा धाम पर तमसा-मंजूषा नदी के संगम, दत्तात्रेय धाम पर तमसा-कुंवर नदी के संगम, चन्द्रमा ऋषि के पास तमसा-सिलनी नदी के संगम में लोगों ने डुबकी लगायी। 

मकर संक्रांति पर शनिवार सुबह में शुरू हुआ स्नान दोपहर बाद तक चलता रहा। लोगों ने स्नान के बाद तिल-गुण और खिचड़ी का दान किया। वहीं महराजगंज स्थित भैरव बाबा मंदिर पर भी सरोवर में स्नान के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। लोगों ने स्नान-ध्यान के बाद पूजन-अर्चन किया। भैरव नाथ को नारियल, रामदाना, काली मिर्च चढ़ाकर मन्नते मांगी। इसके अलावा दत्तात्रेय आश्रम, चन्द्रमा ऋषि आश्रम पर भी श्रद्धालुओं की भीड़ रही। अवंतिकापुरी (आंवक) स्थित सरोवर में भी लोगों ने डुबकी लगायी। 


नगर में बहने वाली तमसा नदी के कदम घाट, गौरीशंकर घाट आदि पर भी लोगों ने स्नान ध्यान किया। ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने गांव के सरोवरों में स्नान किया। पुरोहितों ने घर-घर जाकर तिल-गुण और खिचड़ी का दान लिया। ग्रामीण क्षेत्रों में जहां लोगों ने लाई-चूड़ा आदि का एक-दूसरे के घर भेजकर त्योहार मनाया वहीं खिचड़ी पहुंचाने का सिलसिला शुक्रवार को भी जारी रहा। मकर संक्रांति का बच्चों में उत्साह की स्थिति यह रही कि सुबह ही नहा धोकर तैयार हो गये। उन्हें इन्तजार था तो केवल इस बात का कि घर के बड़े लोग जल्द से जल्द दान कर लें तो उसके बाद लाई-चूड़ा और पतंगबाजी का आनन्द लिया जाये। दोपहर से पहले ही पतंगबाजी शुरू हुई, तो अंधेरा होने तक जारी रही। 


वहीं शुक्रवार की शाम मातवरगंज स्थित सुन्दर गुरुद्वारे में लोहड़ी मनायी गयी। बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम कार्यक्रम प्रस्तुत किये और अन्य लोगों ने भजन-कीर्तन किया। अन्त में प्रसाद वितरण व लंगर का आयोजन किया गया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned