फास्ट ट्रैक कोर्ट ने दुष्कर्म के मामले में युवक को 10 साल की सजा सुनाई

Azamgarh, Uttar Pradesh, India
फास्ट ट्रैक कोर्ट ने दुष्कर्म के मामले में युवक को 10 साल की सजा सुनाई

अदालत ने  7 हजार अर्थदंड भा लगाया

आजमगढ़.  फास्ट ट्रैक कोर्ट के अपर जिला जज वीके त्यागी ने बुधवार को विक्षिप्त युवती के साथ दुराचार करने के मामले में सुनवाई करते हुए एक आरोपी को 10 वर्ष कारावास तथा 7 हजार अर्थदंड की सजा सुनाई है। 


वादी मुकदमा के अनुसार बरदह थाना क्षेत्र के ठेकमा गांव में उक्त पीड़िता 8 मार्च 2010 की रात सो रही थी। रात करीब 12 बजे उसकी चीखने की आवाज सुनकर परिजन मकान के पीछे पहुंचे और देखा कि शंकर पासी पुत्र सूबेदार निवासी कृतमलपुर, अशोक राम पुत्र फूलचंद निवासी केदलीपुर तथा श्यामबली राम पुत्र पलटन निवासी शादीपुर भाग रहे थे। पीड़िता के भाई व अन्य लोगों ने दौड़ाकर शंकर को पकड़ लिया। पीड़िता ने इशारों से समझाया कि इन लोगों ने उसके साथ मुंह दबाकर दुराचार किया है। 

पीड़ित पक्ष की तरफ से एडीजीसी दिनेश कुमार श्रीवास्तव ने पीड़िता के भाई समेत कुल 7 लोगों को अदालत में बतौर गवाह पेश किया है। आरोपी श्यामबली की दौराने मुकदमा मृत्यु हो गई। अदालत में दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद आरोपी शंकर को 10 साल की कैद व 7 हजार रुपया जुर्माने की सजा सुनाई। इस मामले में आरोपी रहे अशोक राम को अदालत ने दोषमुक्त करार दे दिया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned